सोजत में कुरीतियाें को मिटाने का लिया संकल्प

सोजत में कुरीतियाें को मिटाने का लिया संकल्प

सोजत: शहर के श्री कॉम्प शिक्षण संस्थान में भारत विकास परिषद द्वारा बाल-विवाह कुरीति को समाज से जड़ से खत्म करने के लिए विद्यार्थियों को जागरूक करने के लिए श्री विनायक महाविद्यालय में गोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसमें कलमकारों ने बाल विवाह से होने वाली हानियों के बारे में बताया। इस मौके उमाशंकर द्विवेदी ने बाल विवाह से होने वाले नुकसान की जानकारी दी। इस दौरान महाविद्यालय के विद्यार्थी कुलदीप, तरूण, रियाज अहमद ने बाल-विवाह एक कुरीति पर अपने विचार प्रस्तुत किए तथा अक्षय तृतीया एवं परशुराम जयंती के बारे में विभिन्न कविताअाें व भाषण प्रस्तुत किए। सुनील शर्मा ने कहा कि अबोध एवं नासमझ उम्र में किए गए रिश्ते आगे चलकर विवाह विच्छेद को बढ़ावा देते हैं। इस कारण इस सामाजिक कुरीति को समाप्त करना जरूरी है। भगवान परशुराम के जीवन वृतांत एवं अक्षय तृतीया के पर्व की महत्ता एवं संदर्भ कथाआें की जानकारी देते हुए निदेशक निधिश दवे ने कहा कि भारत विकास परिषद द्वारा चलाए जा रहे इस जन जागृति अभियान से समाज में अवश्य ही जागृति लाई जा सकेगी। इन्होंने भारत विकास परिषद द्वारा उनकी संस्था में इस संगोष्ठी का आयोजन करवाने पर आभार व्यक्त किया। गोष्ठी में रामस्वरूप भटनागर, रामकिशोर राठौड़, मंंजू मेहता, नम्रता दवे, अवधेश लखावत, भरत वैष्णव, चमनसिंह, कालूनाथ, भावेश वैष्णव, रतन टेलर, सुरेश, दीपेन्द्र, कुलदीप, गौरव, विधिषा दवे, दिलीप, अंजली, जशोदा, संगीता आदि माैजूद थे।

दैनिक भास्कर: 9 May, 2019

Leave a Reply

Close Menu