दृष्टीहीन पुर्नवास एवं प्रशिक्षण केंद्र के दिव्यांग छात्र-छात्राओं को सहायता

दृष्टीहीन पुर्नवास एवं प्रशिक्षण केंद्र के दिव्यांग छात्र-छात्राओं को सहायता

वाराणसी : भारत विकास परिषद ने वाराणसी में एक अनोखी पहल की है। भारत विकास परिषद नेत्रहीनों के जीवन में उजाला भरने वाले काशीनाथ त्यागी को सम्मानित किया है। भारत विकास परिषद के तत्वावधान में बुधवार को चांदपुर क्षेत्र में आयोजित ‘काशी नेत्रहीन सहायतार्थ’ का आयोजन किया गया। इस मौके पर लाभार्थियों की जरूरत के आधार पर ब्रेल लिपि में प्रकाशित हाई स्कूल और इंटर की पुस्तकें एवं आवश्यक सामग्री दी गई।

वाराणसी के कछवां बाजार स्थित आदर्श दृष्टीहीन पुर्नवास एवं प्रशिक्षण केंद्र बिना किसी सरकारी सहयोग के संचालित हो रहा है। जहां लगभग 30 छात्र-छात्राएं प्रशिक्षित हो रहे हैं। जिन्हे संचालक एवं प्रशिक्षक काशीनाथ त्यागी द्वारा ब्रेल लिपि, चलने-फिरने ही नहीं सर्फ, मोमबत्ती, अगरबत्ती आदि बनाने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। साथ ही इस केंद्र पर छात्रों के लिए आवासीय सुविधा भी है।

केंद्र के संचालक एवं इन प्रतिभाशाली छात्रों के मार्गदर्शक काशीनाथ त्यागी ने दृष्टीहीन होकर भी न केवल उच्च शिक्षा हासिल किया, बल्कि उस शिक्षा का उपयोग गरीब, लाचार दृष्टीहीन छात्रों के जीवन को संवारने एवं उन्हें आत्मनिर्भर बनाने में कर रहे हैं। आर्थिक रूप से कमजोर और संसाधनों की कमी है, फिर भी ये अपने लक्ष्य की ओर अग्रसर है।

काशी नेत्रहीन सहायतार्थ कार्यक्रम का शुभारंभ संस्था के सदस्यों द्वारा वन्देमातरम् गा कर किया गया। जिसके बाद परिषद की ओर से पुर्नवास एवं प्रशिक्षण केंद्र के छात्र-छात्राओं के लिए ब्रेल लिपि में हाई स्कूल और इंटर की पुस्तकें, अनाज, बर्तन आदि प्रदान किया गया। साथ इन दिव्यांग छात्र-छात्राओं द्वारा बनाये गये 50 किलो डिटर्जेंट पाउडर को शाखा के सदस्यों ने खरीदकर उनका उत्साह वर्धन किया।

भारत विकास परिषद काशी’ के अध्यक्ष रजत मोहन पाठक ने कहा कि कल और आज के आयोजन से जो अनुभव मिला है कि हमारी मुसीबत, मुसीबत नहीं बहाना है। इन दिव्यांगों को देखकर हमें प्रेरणा मिलती है और इन प्रतिभाशाली छात्रों के मार्गदर्शक काशीनाथ त्यागी ने समाज को नई दिशा दिखाई है। हम शुक्रगुजार है कि हमारी शाखा की सदस्या हिना मेहरोत्रा और अभिषेक मेहरोत्रा ने हमारे समाज के लिए हीरो काशीनाथ त्यागी व उनकी संस्था को परिषद से जोड़ा।

अमर उजाला: 17 July, 2019

Leave a Reply

Close Menu