केसरिया पगड़ियां बांध कर नव वर्ष का किया स्वागत

केसरिया पगड़ियां बांध कर नव वर्ष का किया स्वागत

नंगल : भारतीय नव वर्ष विक्रमी संवत 2076 पर आज 5 अप्रैल शुक्रवार को शहर में दो पहिया वाहनों की भव्य रैली निकाली गई। भारतीय नव वर्ष उत्सव समिति के बैनर तले आयोजित रैली भगवान वाल्मीकि मंदिर नजदीक अंब वाला कुटिया से शुरू हुई मोटरसाइकिल रैली में केसरी रंग की पगड़ियां पहने युवाओं ने ‘भारत माता की जय, वंदे मातरम, हिंदु नव वर्ष मंगलमय हो’ के नारे लगाते हुए शहर के विभिन्न स्थानों पर लोगों को जागरूक किया। शहर की महावीर मार्केट, मेन मार्केट, शर्मा स्टोर, तलवाड़ा, बरमला, बीबीएमबी के पीआर आफिस, लाल टंकी मार्ग, स्टाफ क्लब, अड्डा मार्केट आदि स्थानों पर रैली भव्य स्वागत किया गया।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के जिला रूपनगर के प्रचारक दीपक शर्मा, शाम सुंदर सैनी, दिनेश शुक्ला ने बताया कि रैली के आयोजन का मकसद नई पीढ़ी को धर्म संस्कारों से जोड़ने के साथ-साथ अपनी परंपराओं व संस्कृति से अवगत कराना है। उन्होंने कहा कि नव वर्ष 6 अप्रैल शनिवार से प्रथम चैत्र नवरात्र दिवस को प्रतिपदा भी कहा जाता है। सृष्टि का प्रथम दिन भी इस चैत्र प्रतिपदा को ही माना जाता है। ऐसा वर्णन विष्णु पुरान में आया है। उन्होंने बताया कि वर्ष प्रतिपदा से ही विक्रमी संवत 2076 की शुरूआत होगी।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के जिला रूपनगर प्रचारक दीपक शर्मा ने बताया कि हिंदु नव वर्ष पूरी तरह से कालगणना पर आधारित है क्योंकि इस दिन सर्वप्रथम सारे ग्रह नक्षत्र चलायमान हुए थे। कलियुग के प्रथम दिन यह सातों ग्रह एक ही राशि में पुन: एकत्र हुए थे। यह गणना पुरी तरह खगोल विज्ञान पर भी आधारित है। उन्होंने पूरे समाज को इसके प्रति जागरूक करने के लिए सभी को प्रेरित भी किया। इसी दिन हुआ था भगवान श्रीराम का राज्याभिषेक। 

उन्होंने बताया कि मर्यादा पुरुषोतम भगवान श्री राम का राज्याभिषेक इसी दिन हुआ था, सिख पंथ के दूसरे गुरु श्री अंगद देव जी का जन्म दिवस, सम्राट विक्रमादित्य ने इसी दिन शकों को पूर्ण रूप से पराजित करके विक्रमी संवत का आरंभ किया था। मां दुर्गा जी की उपासना यानि नवरात्रे भी इसी दिन से शुरू होते हैं। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के संस्थापक डा. केशव राव बलिराम हेडगेवार का जन्म दिवस पर इसी दिन को हुआ था। उन्होंने भारतीय नव वर्ष को घर-परिवार, गांव-गांव तक समूचे समाज को अपनाने का आह्वान करते हुए कहा कि यही भारतीयता एवं हिंदुत्व की पहचान और स्वाभिमान है। 

जागरण: 06 April, 2019

Close Menu