Photo Gallery

 Audio Gallery

   States / Prants

  Finance

Some Useful Articles

  More lnformation

  BVP in the News

  States' Publications

 News from the Branches

 Feedback 
  Website Contents 

 

 

 



Be a partner in development of the Nation

Bharat Vikas Parishad is striving for the development of the Nation. You can also participate in this effort  by (a) becoming a member of Bharat Vikas Parishad, (b) enrolling yourself as a “Vikas Ratna” or “Vikas Mitra”  and (c)  donating for various sewa &  sanskar projects.

Donations to Bharat Vikas Parishad are eligible for income tax exemption under section 80-G of Income Tax Act. Donations may kindly be sent by cheque / demand draft in favour of Bharat Vikas Parishad, Bharat Vikas Bhawan, BD Block, Behind Power House, Pitampura, Delhi-110034.


 
 

.
 

Workshops: Central & Zonal

 

प्रान्तीय कार्यशाला : 2012
22 अप्रैल 2012
को केन्द्रीय कार्यालय दिल्ली में प्रान्तीय कार्यशाला आयोजित की गयी। जिसमें सभी प्रान्तों के अधिकारी उपस्थित रहे। राष्ट्रीय महामंत्री एस॰के॰ वधवा ने कार्यक्रम का आरम्भ व अतिथियों का स्वागत किया। वर्तमान राष्ट्रीय अध्यक्ष वी॰एस॰ कोकजे का परिचय दिया गया। राष्ट्रीय अध्यक्ष ने प्रान्त की संरचना और भाविप में उसकी आवश्यकता के महत्व को समझाते हुये प्रान्तीय पदाधिकारियों के कर्त्तव्यों के विषय में जानकारी देते हुये कहा कि प्रेरक एवं प्रभावी नेतृत्व ही शाखाओं के लिये प्रेरणा स्रोत होता है। द्वितीय सत्र में श्री ओ॰पी॰ कानूगों ने आडिट पर, डा॰ के॰एल॰ गुप्ता ने वित्तीय व्यवस्था पर, श्री सीताराम पारिक ने एकाउण्टस पर तथा श्री आर॰एस॰ श्रीवास्तव ने स्वामी विवेकानन्द की उत्तारार्द्ध जयन्ती पर अपने-अपने विचार व्यक्त किये। तृतीय सत्र में श्री सतीश चन्द्र ने भाविप के संविधान व नियमों की जानकारी दी। श्री वधवा ने कार्यक्रमों को कैसे प्रभावी बनाया जा सकता है इस पर चर्चा की। श्री केशव दत्त गुप्ता ने अपने प्रकल्पों के उद्देश्यों को कैसे सुन्दर ढंग से प्राप्त किया जा सकता है पर अपने विचार रखे। श्री ललित महाजन ने भाविप संगठन कैसे काम करता है और उसके कार्यों की विस्तृत जानकारी दी। चतुर्थ व अन्तिम सत्र में राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष प्रो॰ एस॰पी॰ तिवारी ने सभी अधिकारियों व अतिथियों का धन्यवाद ज्ञापन किया।

(Niti; Jun.,2012)


राष्ट्रीय महिला कार्यकर्ता कार्यशाला: 2011-12
महिला कार्यकर्ता कार्यशाला 7 अगस्त 2011 को भिवानी वालों की धर्मशाला पीतमपुरा में आयोजित की गई। लगभग 220 महिला कार्यकर्ता उपस्थित रहीं। मंच संचालन श्रीमती अर्चना सिंहल व डा॰ चम्पा श्रीवास्तव ने किया। डा॰ प्रकाशवती शर्मा ने कार्यशाला का उद्देश्य स्पष्ट किया। उन्होंने कहा नारी में अभूतपूर्व शक्ति है, उसका आह्वान करना है। मुख्य अतिथि श्रीमती मृदुला सिन्हा ने कार्यकर्ताओं को उद्बोधित करते हुये कहा कि नारी को कन्याभू्रण हत्या रोकना, कन्या जन्मोत्सव मनाना आदि अनेकों ऐसे ही कार्यक्रमों के माध्यम से स्त्री के प्रति समाज की मानसिकता को बदलने का काम करना चाहिये। मन, बुद्धि व शरीर से वह माँ के रूप में बेटी को सशक्त बनायें। श्री आर॰ पी॰ शर्मा, राष्ट्रीय अध्यक्ष ने अध्यक्षीय उद्बोधन में विभोर होकर बताया कि महिला कार्यकर्ताओं ने देश के विभिन्न प्रदेशों से आकर आश्चर्य चकित करने वाली उपस्थिति दर्ज करवायी है।

प्रथम सत्र की अध्यक्षता श्री आई॰ डी॰ ओझा, राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष ने की। डा॰ अजीत गुप्ता ने परिषद् का परिचय देते हुये कहा कि भारत परिवारवादी राष्ट्र है इसीलिये भाविप में दम्पत्ति सदस्यता रहती है। श्रीमती मंगला माधव सवदीकर ने संस्कार प्रकल्प, राष्ट्रीय महामंत्री श्री एस॰ के॰ वधवा ने सेवा प्रकल्प के विषय में बताया। श्रीमती ऊषा अस्थाना ने महिला सहभागिता पर प्रकाश डाला। द्वितीय सत्र की अध्यक्षता राष्ट्रीय अध्यक्ष  श्री आर॰ पी॰ शर्मा ने की। श्री हरीश जिन्दल ने संगठनात्मक ढांचा, डा॰ के॰ एल॰ गुप्ता, राष्ट्रीय वित्त मंत्री ने सम्पर्क व श्री एस॰ एस॰ अस्थाना ने संविधान पर प्रकाश डाला। समापन सत्र में प्रान्तों से आयी बहनों ने अपने प्रश्न व जिज्ञासाएँ प्रस्तुत कीं जिनका समाधान श्री आर॰ पी॰ शर्मा ने किया।

(Niti; Oct.,2011)


महिला कार्यकर्ता संस्कार शिविर,  22-23 जनवरी 2011
त्रयम्बकेश्वर, नासिक (महाराष्ट्र कोस्टल-II) : सक्रिय महिला कार्यकर्ता परिवार संस्कार शिविर 22,23 जनवरी 2011 को आयोजित किया गया। उद्घाटन सत्र की अध्यक्षता श्री प्रकाश पाठक ने की। शिविर के उद्देश्यों तथा 2 दिन चलने वाली कार्यवाही के विषय में राष्ट्रीय मंत्री श्रीमती ऊषा अस्थाना ने सभी प्रतिनिधियों को अवगत कराया। राष्ट्रीय अध्यक्ष आर॰पी॰ शर्मा ने सभी प्रतिनिधियों से आग्रह किया कि वे शिविर की दो दिन की कार्यवाही में पूरी संलग्नता के साथ अपनी सहभागिता सुनिश्चित् करें और शिविर में जो भी मार्गदर्शन प्राप्त हो उसके आधार पर अपने-अपने क्षेत्र में जाकर परिषद् के कार्य को गति प्रदान करने का प्रयास करें।

द्वितीय सत्र में श्री प्रकाश पाठक ने सामाजिक कार्यकर्ता पर विस्तार से अपने विचार व्यक्त किये। तृतीय सत्र में महिला कार्यकर्ताओं के समक्ष चुनौतियाँ और समाधान विषय पर परिवार संस्कार शिविर की चेयरपर्सन श्रीमती डा॰ अजीत गुप्ता ने प्रतिनिधियों का मार्गदर्शन किया। 23 जनवरी को संस्कार संस्कृति तथा संस्कार प्रकल्प, तथा सेवा प्रकल्प के विषय में क्रमशः एस॰एस॰ अस्थाना, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष तथा सुरेन्द्र कुमार वधवा, राष्ट्रीय महामंत्री ने अपने विचार व्यक्त किये।

सत्र के समापन पर राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष श्री ईश्वर दत्त ओझा ने ओजस्वी पूर्ण ढंग से पूर्व संस्कार और संस्कृति की महिलाओं से चर्चा की। अंत में आयोजक शाखा नासिक के उन तमाम कार्यकताओं का जिन्होंने रात दिन लगकर शिविर की उत्तम व्यवस्था को अंजाम दिया, उन सभी को राष्ट्रीय अध्यक्ष आर॰पी॰ शर्मा, राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष ईश्वर दत्त ओझा, राष्ट्रीय महामंत्री सुरेन्द्र कुमार वधवा द्वारा मोमेन्टों प्रदान कर सम्मानित किया गया। इसके अतिरिक्त प्रबोधी ट्रस्ट की प्रमुख श्रीमती रजनी लिमये जिन्होंने मानसिक रूप से विकलांग बच्चों के शिक्षण एवं पुनर्वास का कार्य किया है परिषद् द्वारा सम्मानित किया गया।


प्रथम राष्ट्र स्तरीय कार्यशाला संस्कार
(भारत को जानो, गुरु वन्दन छात्र अभिनन्दन एवं गुरु तेग बहादुर बलिदान दिवस) प्रकल्प

भारत विकास परिषद् पीतमपुरा के सभागार में संस्कार प्रकल्प (भारत को जानो, गुरु वन्दन छात्र अभिनन्दन एवं गुरु तेग बहादुर बलिदान दिवस) की प्रथम राष्ट्रीय कार्यशाला 11 जुलाई, 2010 को श्री ईश्वर दत्त ओझा, राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई।

सभी राष्ट्रीय पदाधिकारियों ने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यशाला का शुभारम्भ किया। वन्दे मातरम् के गान के पश्चात् राष्ट्रीय महामन्त्री श्री सुरेन्द्र कुमार वधवा ने सभी का स्वागत किया। श्री ईश्वर दत्त ओझा ने संस्कार एवं संस्कार प्रकल्प के महत्व पर प्रकाश डाला। इसके पश्चात् सभी प्रतिभागियों सहित पदाधिकारियों ने अपना-अपना परिचय दिया।

 राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री रामशरण श्रीवास्तव, चेयरमैन `भारत को जानो´ ने इस प्रकल्प की उपयोगिता पर विचार प्रस्तुत करते हुए सभी के लिए इसे उपयोगी बताया। विषय विशेषज्ञ के रूप में डॉ. एम.पी. गुप्ता, वाईस चेयरमैन, भारत को जानो एवं प्रकल्प के राष्ट्रीय मन्त्री श्री प्रमोद दादू ने इस प्रकल्प को स्कूल, शाखा, प्रान्त एवं राष्ट्रीय स्तर के आयोजन की विस्तृत रूप-रेखा प्रस्तुत की। राष्ट्रीय मन्त्री गुरु वन्दन छात्र अभिनन्दन श्री नीरज गुप्ता ने प्रकल्प के बारे में बताते हुए अधिकाधिक स्कूल, कॉलेज एवं इंस्टीट्यूट्स में जाकर इसे सम्पन्न कराने पर जोर दिया तथा विभिन्न स्तर के कार्यकर्ताओं को भी पुरस्कृत कराने की योजना बताई। राष्ट्रीय संयोजक, गुरु तेग बहादुर बलिदान दिवस श्री जगजीत सिंह नागपाल ने आयोजन पर बल देते हुए इसे सभी प्रान्तों एवं शाखाओं द्वारा नवम्बर माह में सम्पन्न कराने का आग्रह किया।

खुले सत्र में `भारत को जानो´ कार्यक्रम में सबसे अधिक प्रतिभागियों वाले स्कूल/कॉलेज के प्रधानाचार्य को प्रान्त एवं शाखा स्तर पर सम्मानित करने का सुझाव आया।

कार्यशाला में समापन भाषण देते हुए श्री रामशरण श्रीवास्तव ने सभी प्रकल्पों पर प्रकाशित पुस्तिकाएं (Guidelines) भली प्रकार पढ़ने का आग्रह करते हुए प्रभावी ढंग से कार्यक्रम आयोजित करने पर बल दिया। गुरु तेग बहादुर के साथ भारत के अन्य महापुरुषों के जन्म दिवस मनाने का आग्रह भी किया गया। सभी का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए श्री वधवा जी ने यहां से प्राप्त ज्ञान को शाखा स्तर तक पहुंचाने का निवेदन किया। संचालन राष्ट्रीय संयुक्त संगठन मन्त्री डॉ. आर.बी. श्रीवास्तव ने किया।

(Niti; Sep.,2010)


National Workshops: 2010-11 
(1) Vistar Karya on 11th April,10 ( attended 18 Members)
(2) Prantiya Office Bearers workshop on 24-25th April, 10 ( attended 100 Members)
(3) Zonal Office Bearers Workshop on 16th May,10 (attended 62 Members)
(4) National Executive Workshop on 26th & 27th June ,10 ( attended 92 Members)
(5) Sanskar Projects Workshop ( BKJ, GVCA & GTBD) on 11th July 2010 & (NGSC, NSGSC & all) on 25th July 2010( attended 106 Members)
(6) Sewa Projects Workshop (Viklang Sahayata, Gram Basti Vikas & Samagra Gram Vikas) on 1st August 2010 & (Health, Environment, Samuhik Saral Vivah & Vanavasi Sahayata ) on 22nd August 2010. (attended 46 Members)
(7) Organizational Matters on 19th September 2010 (attended 67 Members)

क्षेत्रीय पदाधिकारियों की राष्ट्रीय कार्यशाला, 2010
परिषद् के केन्द्रीय कार्यालय, भारत विकास भवन, पीतमपुरा, दिल्ली में 16 मई, 2010 को पूर्वान्ह 10 बजे से अपरान्ह 2 बजे तक परिषद् के क्षेत्रीय पदाधिकारियों की राष्ट्रीय कार्यशाला राष्ट्रीय अध्यक्ष रवीन्द्रपाल शर्मा के मुख्य आतिथ्य में सम्पन्न हुई जिसमें 17 क्षेत्रों के लगभग 50 पदाधिकारियों ने भाग लिया। कार्यशाला का शुभारम्भ राष्ट्रीय अध्यक्ष रवीन्द्रपाल शर्मा ने दीप प्रज्ज्वलन कर किया। सभी राष्ट्रीय पदाधिकारियों ने भारत माता एवं स्वामी विवेकानन्द के चित्र पर पुष्प अर्पित किये।

राष्ट्रीय महामन्त्री सुरेन्द्र कुमार वधवा ने सभी प्रतिनिधियों का स्वागत करते हुए अनुरोध किया कि क्षेत्रीय पदाधिकारी समय पर रिपोर्ट प्रेषित करें तथा अभी से अपने लक्ष्य निर्धारित करें। उन्होंने बताया कि नियमावली के नियम सं. 5 के अनुसार संचालन के उद्देश्य से प्रत्येक शाखा का एक भौगोलिक क्षेत्र चिन्हित किया जाना चाहिए। राष्ट्रीय अध्यक्ष रवीन्द्रपाल शर्मा ने कार्यशाला का उद्देश्य बताते हुए क्षेत्रीय अध्यक्षों एवं महामन्त्रियों के दायित्वों पर प्रकाश डाला।

राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिव शरण अस्थाना ने परिषद् के संविधान तथा नियमावली पर अपने विचार व्यक्त किये। राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष ईश्वर दत्त ओझा ने विभिन्न संस्कार, सेवा एवं सम्पर्क के कार्यों पर प्रकाश डाल कर ज्ञान वर्द्धन किया। राष्ट्रीय संगठन मन्त्री हरीश जिन्दल ने संगठन को सुदृढ़ बनाने की विधियां बताई। राष्ट्रीय संयुक्त महामन्त्री फाइनेन्स एवं एकाउण्ट्स ने एकाउण्ट्स एवं ऑडिट से सम्बंधित दायित्व निर्वहन के तरीके बतलाये। राष्ट्रीय वित्त मन्त्री डॉ. कन्हैयालाल गुप्ता ने सभी पदाधिकारियों को शीघ्रातिशीघ्र पूर्ण शुल्क भिजवाने हेतु प्रेरित किया।

सभी प्रतिनिधियों ने अपनी जिज्ञासायें एवं समस्याएं प्रस्तुत की जिनका समाधान राष्ट्रीय अध्यक्ष ने किया।

सभी ने पूर्व राष्ट्रीय वित्त मन्त्री श्री त्रिलोकी नाथ अग्रवाल के आकिस्मक निधन पर 2 मिनट का मौन रखकर दिवंगत आत्मा की शान्ति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की। कार्यशाला का संचालन राष्ट्रीय संयुक्त महामन्त्री संगठन डॉ. रामबहादुर श्रीवास्तव तथा राष्ट्रीय मन्त्री कार्यशाला डॉ. चम्पा श्रीवास्तव ने किया। कार्यशाला का समापन राष्ट्रगान के साथ हुआ।

(Niti: July, 2010)


क्षेत्र I कार्यशाला: 2010
जालन्धर दक्षिण, पंजाब उत्तर
: भाविप के दायित्वधारियों की प्रथम बैठक 13.06.2010 को इन्द्रप्रस्थ होटल जालन्धर के प्रांगण में हुई। बैठक की अध्यक्षता श्री सुरेन्द्र कुमार वधवा, राष्ट्रीय महामन्त्री ने की। बैठक का आयोजन जालन्धर दक्षिण के सौजन्य से किया गया।

 सर्वप्रथम क्षेत्रीय चेयरमैन श्री निवास विहानी ने मंचासीन सदस्यों का परिचय करवाया एवं सभी का स्वागत किया। जम्मू कश्मीर प्रान्त का ब्योरा प्रो. सतीश आनन्द ने दिया। प्रदेश में पिछले साल 12 शाखाएं थी जो 18 करने का लक्ष्य है। सदस्य संख्या 625 से बढ़ाकर 687 का लक्ष्य है। 7 स्थायी प्रकल्प चल रहे हैं।

हिमाचल प्रदेश से श्री विनोद करीर ने बताया कि सदस्य संख्या 410 से 600 करने का लक्ष्य है। प्रदेश में 4 स्थायी प्रकल्प हैं।

पंजाब दक्षिण के महासचिव श्री सन्दीप वाट्स ने बताया कि प्रदेश में शाखाएं 35 से बढ़ाकर 40, सदस्य संख्या 1639 से बढ़ाकर 1800 करने का लक्ष्य है, स्थायी प्रकल्प 62 हैं।

पंजाब पूर्व के कोषाध्यक्ष श्री जे.आर. टण्डन ने बताया कि शाखाएं 56 से बढ़ाकर 62, सदस्य संख्या 2504 से बढ़ाकर 2800, स्थायी प्रकल्प 74 से बढ़ाकर 80, विकास मित्र 278 से बढ़ाकर 300, विकास रत्न 7 से बढ़ाकर 8 करने का लक्ष्य है।

पंजाब उत्तर के महासचिव डॉ. राजेश मन्नन ने कहा कि 31.03.10 को 62 शाखाएं थीं जिसमें से 6 रुग्ण शाखाएं थीं इनमें से एक अन्य शाखा स्वस्थ हो गई है व 2 नई शाखाएं खोलने के उपरान्त इस समय 59 शाखाएं स्वस्थ हैं, लक्ष्य 68 का है। सदस्य संख्या 2666 से बढ़ाकर 2800 करने का लक्ष्य है। विकास मित्र 153 से 225 व विकास रत्न 1 से 2 एवं स्थाई प्रकल्प 133 से 150 करने का लक्ष्य है।

इसके बाद राष्ट्रीय सचिव, विस्तार श्री अजय दत्ता ने विस्तार विषय पर अपने विचार रखे। माननीय वधवा जी ने सभी का संशय दूर करने का प्रयास किया। उन्होंने चार बिन्दु बताए जो परिषद का कार्य बढ़ाने में अत्यन्त सहायक हैं - Ability, Acceptability, Approachability and Accountability। अन्त में श्री विपिन ढींगरा प्रदेशाध्यक्ष पंजाब उत्तर ने सबका धन्यवाद किया।

(Niti; Sep.,2010)


National Workshop for the Prantiya office bearers: 2010-11

The National Workshop for the Prantiya office bearers was held on the 24th-25th April, 2010 at Bharat Vikas Bhawan, Pitampura, Delhi. A total of 102 delegates, including the faculty, from all over the country attended this workshop. Shri R. P. Sharma, the National President inaugurated the workshop.  Shri S.K. Sharma, Director (Publications), DAV Managing Committee was the chief guest at the workshop. He said that he was greatly impressed with the aims and objectives of the Parishad and wished success to the Workshop and the Parishad in serving the nation through its sewa and sanskar projects.

The President President Shri R.P. Sharma explained the main objectives of the workshop. The faculty included Dr. Prakashwati Sharma, former Member UPSC and National Vice President (Philosophy, aims, objectives and the necessity of BVP), Shri S.K. Wadhwa (Sewa Karya) , Dr. K.L. Gupta (Sampark Karya and Audit of Accounts), Shri Harish Jindal (Organisational Structure), Shri S.K. Verma (Effective organisation of programmes, its reporting and recording), Shri Satish Chandra (BVP Constitution), Shri S.S. Asthana (BVP Rules) and Shri Sitaram Pareek (Financial Management & Maintenance of Accounts). Most of the faculty members used power point presentation for their subjects.

Shri I.D.Ojha, National Working President, summed up the proceedings. Shri B.Ch.V.(Ashwini) Subho Rao, National Vice President, gave a very inspiring speech and explained how the Parishad's work has expanded in the southern states. The participants felt that they had greatly benefited from participation in the workshop.

Dr. R.B. Srivastava, National Additional Organising Secretary and  Dr. Champa Srivastava, National Secrertary Workshops ably conducted the proceedings.

प्रान्तीय पदाधिकारी कार्यशाला; 2010
परिषद् के केन्द्रीय कार्यालय, भारत विकास भवन, पीतमपुरा, दिल्ली में समस्त प्रान्तों के नव निर्वाचित पदाधिकारियों की एक कार्यशाला 24-25 अप्रैल, 2010 को आयोजित की गई। कार्यशाला की अध्यक्षता परिषद् के राष्ट्रीय अध्यक्ष रवीन्द्रपाल शर्मा ने की तथा मुख्य अतिथि श्री एस.के. शर्मा, निदेशक डी.ए.वी. प्रकाशन थे। मुख्य अतिथि श्री शर्मा ने भारत विकास परिषद् की कार्य पद्धति और प्रकल्पों की सराहना करते हुए परिषद् को शुभकामनाएं दी।

डॉ. प्रकाशवती शर्मा, राष्ट्रीय उपाध्यक्षा ने परिषद् के उद्देश्य, लक्ष्य एवं दर्शन को बहुत ही सहज भाव से समझाया तथा ईश्वर दत्त ओझा, राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष ने कहा कि संस्कार ने व्यक्ति और समाज को अदभुत शक्ति प्रदान की है।

श्री रवीन्द्रपाल शर्मा ने अपने अध्यक्षीय भाषण में बताया कि जब आप किसी व्यक्ति को सदस्य बनाते हैं तो पहले उसे परिषद् के कार्यों, उसके विकास तथा सेवा और संस्कार प्रकल्पों की सम्पूर्ण जानकारी देकर अपने सम्पर्क में लेकर सदस्य बनायें। हमारे सदस्य संकल्पित होने चाहिएं।

दूसरे सत्र में राष्ट्रीय महामन्त्री सुरेन्द्र कुमार वधवा ने परिषद् के स्थाई प्रकल्पों में होने वाले कार्यों की प्रगति के विषय में जानकारी दी।

डॉ. के. एल. गुप्ता, राष्ट्रीय वित्त मन्त्री ने Projecter एवं Slide के माध्यम से सम्पर्क कार्य और उसके लक्ष्य को कैसे पूरा किया जा सकता है, को प्रभावी ढ़ंग से प्रस्तुत किया। इसी सत्र में श्री एस. के. वर्मा (Think Tank) ने भी अपनी बात को Projecter द्वारा सभी को सरलता से समझाया।

अन्तिम सत्र में राष्ट्रीय संगठन मन्त्री हरीश जिन्दल ने सभी दायित्वधारियों को परिषद् की कार्यपद्धति और अन्य गतिविधियों के साथ ही संगठनात्मक ढ़ाचे के बारे में जानकरी दी।

सतीश चन्द्र, राष्ट्रीय मन्त्री कानून एवं अनुशासन ने संविधान और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एस. एस. अस्थाना ने नियमावली सम्बन्धी जिज्ञासाओं का समाधान किया।

राष्ट्रीय मन्त्री कार्यशाला डॉ. चम्पा श्रीवास्तव एवं राष्ट्रीय संयुक्त महामन्त्री डॉ. आर. बी. श्रीवास्तव ने बड़ी कुशलता और सूझ-बूझ से मंच का संचालन किया।

दूसरे दिन के प्रथम चरण में चेयरमैन प्रोजेक्ट कमेटी श्री एस.के. वर्मा ने संगठन के कार्यक्रमों की रिपोर्टिंग के विषय में बताते हुए कहा कि आज रिपोर्टिंग का स्वरूप बदल गया है। राष्ट्रीय संयुक्त महामन्त्री, वित्त एवं एकाउन्टस् सीताराम पारीक ने वित्तीय व्यवस्था की पारदर्शिता की चर्चा की। इसी अवसर पर राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बी.सी.एच.वी. (अश्विनी) सुब्बा राव ने विकास रत्न  ज्यादा से ज्यादा बनाने पर बल दिया तथा अपने सुपुत्र को एक लाख रुपये की राशि से विकास रत्न बनाया।

सर्वश्री आई. डी. ओझा, सुरेन्द्र कुमार वधवा, वीरेन्द्र सभरवाल ने सभी उपस्थित श्रोताओं, सदस्यों को उनके मन में उभर रही जिज्ञासाओं का शान्ति पूर्वक समाधान किया। श्री ओझा जी ने सभी आगन्तुकों का आभार व्यक्त किया। राष्ट्रीय गीत के साथ कार्यशाला का समापन हुआ। इस कार्यशाला में 103 पदाधिकारियों ने सहभागिता की। प्रसन्नता की बात यह है कि नए अधिकारियों में अधिकत्तर युवा थे।

(Niti: June, 2010)


National WorkshopS: 2009-10

pune

Due to the effective and encouraging results of the previous year, the Apex Body decided to hold Two Zonal Workshops - One at Chandigarh for North India and another at Pune for South India in the year 2009-10.

Accordingly, the first Zonal Workshop was held at Swayamber Mangal Karyalaya, Pune on May 23 and 24, 2009 for the Zonal and Prantiya office bearers of Zone XII to XVII. The workshop was hosted by Swargate branch and Shivaji branch Pune jointly (Maharashtra-II). 57 office bearers of M.P. West, M.P. East, Gujarat, Maharashtra Coastal-I, Maharashtra-II, Goa, Karnataka South, Tamil Nadu, Kerala (9 states) and all the Zones (XII to XVII) participated in this Workshop along with the faculties as under:

Zone-XII-9, Zone-XIII-8, Zone-XIV-14, Zone-XV-1, Zone-XVI-3, Zone-XVII-4, Faculties-14 other-4 : total 57.

The inaugural session was presided over by Dr. Prakashwati Sharma, National Vice President. Shri I.D. Ojha, National Working President emphasised the importance of workshop in his introductory remarks. Convenor of this Workshop, Shri Madhukar Girme welcomed all. Shri Abhishek Dharmadhikari, the renowned I.A.S officer was the chief guest of this sessions which was conducted by Smt. Mangla Shivadikar, Zonal Org. Secretary of the host Zone.

In the first session which was presided over by Shri R.P.Sharma ji, National President, Dr. Prakashwati Sharma, National Vice President, explained the philosophy, aims and objects of BVP. Shri I.D.Ojha delivered thought provoking discourse on concepts of Sanskar Prakalp, conduction of its programme and procedure. Shri K.D.Gupta, Addl. National Ogr. Secretary General explained about the preparation of yearly calender of BVP activities.

The second session was presided over by National Working President I.D.Ojha. The subjects discussed were expansion programmes and vision 2013 by Shri S.K.Wadhwa, National Ogr. Secretary, Seminar by Prof. S.P. Tiwari, Chairman Seminar, Budget, Fundraising by Shri Sampat Khurdia, Zonal Secretary, Zone-XIV, effective organisation of programmes and Public Relation by Shri S.K.Verma, National Vice President. This session was conducted by Dr. Champa Srivastava, National Convener, Workshop.

The third and concluding session was presided over by Shri R.P. Sharma in which various subjects viz. Expansion of Sewa karya and Samagra Gram Vikas by Shri S.K. Wadhwa, Registration of Prant and Audit by Shri O.P.Kanoongo, A.G.&C.A. Responsibilities of office bearers and organisational structure by Shri N. Daulat Rao, National Addl. Secretary General, Account keeping & Trust & Properties by Shri Sitaram Pareek, National Addl. Secretary General, Constitution by Shri Satish Chandra, National Secretary Legal Matters, Bye Laws & BVP, by Shri S.S. Ashtana, National Addl. Secretary General were discussed in detail. Material aids like Power Point Presentation, Black board were used for lively and effective presentation by the faculties.

The Smarika "Sankalp" was released which was published by Shri D.B. Chitale, Zonal Chairman of host Prant and renowned artist Shri Ramdas was honourd by Shri Sharmaji for his Rangoli made on this occasion. Various questions by delegates on organisation, Constitution Bye Laws and on other subjects were clarified by Shri Sharma ji, in a simple manner. Shri Sharma ji motivated the delegates for active and regular participation in BVP activities which should be organised with the interest of the members. The permanent projects are the back bone for the success of the branches. He informed the audience regarding, National Award 2009 of Rs. One lakh which will be given on 'Environment'. In this year, Zonal conferences are to be organised during the month of December. The first and third sessions were conducted by Dr. R.B. Srivastava, National Secretary Workshop.

At the end Dr. Ajit Gupta, Chairperson, Parivar Sanskar thanked the host on behalf of the delegates and vote of thanks was given by Shri Praveen Doshi, Co-Convener of this Workshop.

Chandigarh

The second National Workshop for the office bearers of Zones I to XI was held at Indira Holiday Home at Chandigarh on 6th and 7th June hosted by Punjab East. Shri Ajay Dutta the National Secretary was the convener while Shri H.R. Narang State Zonal Secretary co convener. 119 delegates including the faculty attended this workshop. Most of the faculty members used power point presentation for their subjects.

Shri R. P. Sharma, the National President was the Chief Guest at the inaugural function presided over by Shri I. D. Ojha National Working President. The President explained the main objectives of the workshop. He further added that just as recitation of Gita and Ramayana is important so are such functions. Uniformity in functions should be maintained at all levels.

In the first session National Vice President Smt. Prakashwati Sharma dwelt in detail on the philosophy, aims and objects of the Parishad. Shri I.D. Ojha explained the concept of Sanskar projects. Shri O.P. Kanoongo, National Auditor General & Controller of Accounts dealt with the subjects of account and audit while Shri Harish Jindal Finance Secretary explained as how to prepare the budget at all levels. This session was conducted by Dr. R.P. Srivastava National Secretary Workshop. In the second session the following subject were discussed:

Effective organisational programmes, subjects and its reporting, vision 2013, seminars, public relations etc. The speakers were S/Shri S.K.Verma, S. K. Wadhwa, Prof. S.P. Tiwari, Dr. K.L. Gupta, This session was conducted by Smt. Champa Srivastava. Samagra Gram Vikas Yojana, calendar of activities, registration of Prants, finance managements constitution and Bye Laws etc were taken up in the 3rd session.

M/s. R.P.Gupta, Keshave Datt Gupta, O.P.Kanoogo, Satish Chandra were main speakers of this session chaired by Shri R.P. Sharma. Shri Sharma motivated delegates and said that they should leave no stone unturned to achieve the targets fixed by them.

All the delegates visited BVP diagnostic center, which is a permanent project of Punjab East, at the same venue and witnessed the programme for honouring the workers and donors of the centre. In addition to the delegates 500 persons attended this programme. (Separate report of this function is available in this issue of NITI.)

S/Shri Ajay Dutta, H.R. Narang and S.C. Galhotra, Prantiya Org. Secretary deserve special praise for hosting the workshop.
(Click on the pictures to view the larger image)

(Niti; Jul. 2009)

top         Home



National Workshops: 2008-09
 

 

For the first time, the national leadership took a decision to hold four workshops at different places to make it more effective and fruitful.

 

CHANDIGARH
 

The first such workshop was held at Indira Holiday Home, Chandigarh on 19-20 April 2008 for the zones 1-5. A total of 150 office bearers from 17 states of North India viz. Delhi, U.P., Uttranchal, Himachal Pradesh, Haryana, J & K and Punjab attended the workshop hosted by Punjab East.
 

The inaugural session was presided over by Shri I.D. Ojha, National Working President and the Chief Guest of the session was Shri Suresh Sharma, M.D. Allengers Medical System Ltd.
 

In the first session National Organizing Secretary Shri Ramanna delivered a thought provoking discourse on the philosophy of the Parishad. Other speakers of the session were Shri R.S. Srivastava, Shri I.D. Ojha and S.K. Verma who spoke on different topics.

The second session dealt with the responsibilities of office bearers, finance management, constitution etc. On 28
th April during the third session Shri S.K. Wadhwa (Sewa Projects) Shri Keshav Datt Gupta (Membership Expension), Varinder Sabharwal (Trust & Properties) and Shri S.K. Verma (reporting & conduct of meeting) were the speakers. Shri I.D. Ojha replied to the various questions in Mukta Chintan.

Four Vikas Ratnas, were duly honoured during the workshop.

                       

BANGALORE

The National level workshop 2008-09 for the Prant Zonal and National office bearers of BVP in the States of Karnataka, Kerala, Tamilnadu and Andhara Pradesh was held at R.V. Teachers College, Jayanagar II Block, Bangalore on 31st May and 1st June, 2008. Eight designated faculty members together with 45 office bearers from the above four states participated in the workshop.

The Two-day workshop was inaugurated by Shri I.D. Ojha, National Working President and Shri K.G. Subbarama Setty, Patron-Zone XVI at 10 am on 31st May, 08. National Patron Justice Dr. M. Rama Jois graced the occasion and addressed the gathering. This was followed by business sessions. Shri S. Ramanna, National Organising Secretary, explained the philosophy and objectives of the Parishad. Shri K.D.Gupta, National Additional Secretary General highlighted the duties and responsibilities of all the office bearers at the Prant and Zonal level. Shri S.K.Verma, National Vice President dealt at length with the procedures in respect of record keeping, record managements principles and its maintenance.

Shri Harish Jindal, National Finance Secretary, covered various points including-financial management, budgeting, fund raising, accounts and audit, Vikas Mitra / Ratna and Uttkrishtata Samman etc. Shri Satish Chandra, National Secretary explained the salient features of BVP constitution and Bye-Laws. First day's proceeding were conducted by Shri N. Daulath Rao, National Additional Secretary General.

On the next day i.e. Sunday, 1st June, 08 the first session was chaired by Shri I.D. Ojha, National Working President who explained about the effective mode of conducting programmes, reporting and Sanskar projects. This was followed by deliberations on Sewa projects by Shri S.K.Wadhwa, National Additional Secretary General. Dr. Satya Prakash Tiwari, National Chairman for Seminars spoke about holding of seminars and finally concluding remarks were given by the National Vice President Shri S.K.Verma.

The remaining two workshops were held  for Western Zones X to XIV at Ahmedabad on  May 3 & 4, 2008 and  for Eastern Zones VI to IX at Paras Nath on May 10 & 11, 2008.



 

 
 

                                                                                                                                         top         Home 

 

Copyright©  Bharat Vikas Parishad . All Rights Reserved