Photo Gallery

   States / Prants

 Finance

 Discussion Forum

  More lnformation

  BVP in the News

 Feedback 

 

 

 



Be a partner in development of the Nation

Bharat Vikas Parishad is striving for the development of the Nation. You can also participate in this effort  by (a) becoming a member of Bharat Vikas Parishad, (b) enrolling yourself as a “Vikas Ratna” or “Vikas Mitra”  and (c)  donating for various sewa &  sanskar projects.

Donations to Bharat Vikas Parishad are eligible for income tax exemption under section 80-G of Income Tax Act. Donations may kindly be sent by cheque / demand draft in favour of Bharat Vikas Parishad, Bharat Vikas Bhawan, BD Block, Behind Power House, Pitampura, Delhi-110034.


 
 

.
 

Utkrishtata Samman


Third Utkrishtata Samman 2008-09
 

   


Bharat Vikas Parishad awarded Utkrishtata Samman for the year 2008-09 to Dr. Vallabhbhai R. Kathiria, Rajkot
(Gujarat) for his outstanding work in the field of Environment. The award ceremony was held on Sunday the 4th July 2010 in the Symposium Hall of Indian Agricultural Research Institute in New Delhi.
 

       

The Utkrishtata Samman Award has been constituted in the memory of Parishad's Founder Secretary General Dr. Suraj Prakash. This is the third year of the award. The selection was made by the Selection Committee headed by Shri Jagmohan, which considered over 40 nominations received from all over the country.

     


National President Shri R.P. Sharma presided over the function and Acharya Dr. Lokesh Muni Ji also graced the occasion.

Shri Jagmohan, alongwith  Acharya Dr. Lokesh Muni Ji National President Shri R.P. Sharma,  National Working President Shri I.D. Ojha, National Secretary General Shri S.K. Wadhwa  and National Organising Secretary Shri Harish Jindal presented the award to  Dr. Vallabhbhai R. Kathiria. 

Shri Jagmohan spoke about the significance of the National Award instituted by the Parishad.  Dr. Vallabhbhai R. Kathiria, in his acceptance speech, thanked the Parishad for the honour.  Acharya Dr. Lokesh Muni Ji commended the efforts of the Bharat Vikas Parishad in serving the society and blessed the audience.

(Click on the pictures to view the larger image)

More pictures of the event are available in the photo gallery >>

 

प्रत्येक व्यक्ति को अपनी सोच बदलनी चाहिए - जगमोहन
राष्ट्रीय उत्कृष्टता सम्मान समारोह सफलतापूर्वक सम्पन्न

भाविप के संस्थापक डा. सूरज प्रकाश (27.06.1920 - 02.02.1991) की स्मृति को अक्षुण्ण बनाए रखने के लिए परिषद् के केन्द्रीय अधिकारियों ने `उत्कृष्टता सम्मान´ (Excellence) का एक नया प्रकल्प सन् 2006 में आरम्भ किया था। उद्देश्य था : किसी व्यक्ति अथवा संस्था को किसी विशिष्ट क्षेत्र में अत्युत्तम एवं सर्वहितकारी कार्य करने पर सम्मानित करना। सम्मान में एक लाख रुपया, प्रशस्ति पत्र, शाल, स्मृति चिन्ह, नारियल आदि देना निश्चित हुआ।

ऐसा पहला समारोह 2006-07 में आयोजित हुआ जिसमें सेवा के क्षेत्र में लगे हुए दो महात्माओं- परमार्थ निकेतन हरिद्वार के स्वामी चिदानन्द सरस्वती और कर्नाटक के स्वामी राघवेश्वरा भारती को सम्मानित किया गया। 2007-08 का यह सम्मान एकल विद्यालय संगठन को संस्कार के क्षेत्र में अतुलनीय कार्य करने पर दिया गया।

2008-09 का विषय था `पर्यावरण सुरक्षा´। इस क्षेत्र में विशिष्ट उपलब्धियों के लिए राजकोट (गुजरात) की `वसुन्धरा ट्रस्ट´ के अध्यक्ष डा. वल्लभभाई आर. कथीरिया को चयनित किया गया।
 
   

उपरोक्त समारोह 4 जुलाई, 2010 को आई.सी.ए.आर. के सभागार में सायं 6 बजे से 8 बजे तक आयोजित हुआ। इस भव्य आयोजन का श्रेय दिल्ली उत्तर के पदाधिकारियों को जाता है जिन्होंने पूरी निष्ठा से तत्सम्बन्धी सभी बिन्दुओं पर ध्यान रखा और उन्हें सफलतापूर्वक क्रियान्वित भी किया। आयोजन की अध्यक्षता भाविप के अध्यक्ष रवीन्द्र पाल शर्मा ने की। विशिष्ट अतिथियों में लोकेश मुनि एवं दिल्ली तथा जम्मू-कश्मीर के पूर्व राज्यपाल माननीय जगमोहन थे।


दीप प्रज्ज्वलन और वन्दे मातरम् के सामूहिक गायन के उपरान्त मंच संचालन दिल्ली के महासचिव राजकुमार जैन ने किया। मंचासीन सभी अभ्यागतों का पुष्पमाला एवं पटका ओढ़ाकर उन्होंने स्वागत कराया। प्रदेशाध्यक्ष एवं ईवेन्ट गुरु सुनील गर्ग ने विधिवत् सभी का अभिनन्दन करते हुए डा. सूरज प्रकाश एवं परिषद् के पंचसूत्रों का परिचय देते हुए वर्ष 2013 में प्रस्तावित स्वर्ण जयन्ती के विशाल आयोजन में सहर्ष सहभागिता का भी आश्वासन दिया।

मुख्य कार्यक्रम का संचालन कार्यकारी अध्यक्ष आई.डी. ओझा ने सम्भाला। महामन्त्री एस.के. वधवा ने परिषद् के सभी प्रकल्पों का संक्षिप्त परिचय कराया एवं उत्कृष्टता सम्मान के संयोजक तथा संगठन मन्त्री हरीश जिन्दल ने इस प्रकल्प की विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने डा. कथीरिया को प्रदत्त प्रशस्ति पत्र पढ़ा। मुख्य अतिथि जगमोहन, रा. अध्यक्ष आर.पी. शर्मा एवं अन्य अधिकारियों ने डॉ. कथीरिया को एक लाख का चैक एवं स्मृति चिन्ह प्रदान किया।

डा. कथीरिया ने सम्मान प्राप्त करने के उपरान्त अपने जीवन की मुख्य उपलब्धियों से खचाखच भरे सभाग्रह को अवगत कराया। विशेष रूप से `जल संवर्धन-संरक्षण´ की दिशा में उठाये गए कदम जिनसे सौराष्ट्र के समस्त किसानों को विशेष लाभ हुआ।

पूर्व राज्यपाल जगमोहन ने मुख्य रूप से जनता-जनार्दन की सोच को बदलने की आवश्यकता पर बल दिया। सकारात्मक विचार-सरणी से ही देश को बचाया जा सकता है। उस स्थिति में जबकि चारों ओर भ्रष्टाचार का बोल-बाला दिखाई देता है। अपने कार्यकाल में माता वैष्णों देवी के कायाकल्प की भी उन्होंने चर्चा की।

गुरु लोकेश मुनि ने सभी को आशीर्वचन सुनाए और अपने अध्यक्षीय भाषण में आर.पी. शर्मा ने इस आयोजन के महत्व की पुनरावृत्ति करते हुए आयोजक दिल्ली उत्तर के समस्त सदस्यों एवं पदाधिकारियों का धन्यवाद ज्ञापित किया।

इस आयोजन की महत्ता इस बात से भी आंकी जा सकती है कि इस कार्यक्रम में डा. सूरज प्रकाश का सारा परिवार सम्मिलित हुआ। वे सब साधुवाद के पात्र हैं।

चतुर्थ राष्ट्रीय उत्कृष्टता सम्मान का विषय होगा `समग्र ग्राम विकास´, इस बात की भी घोषणा की गई।

- सुरेन्द्र कुमार वधवा - राष्ट्रीय महामन्त्री


 

Related articles:
NGO commended for its environment conservation programmes in Gujarat
Vasundra Trust is Rewarded for Its Environment Conservation Programmes in Gujarat 
Former minister Kathiriya gets green award
 

 

                                                                                                                                         top         Home 

 

Copyright©  Bharat Vikas Parishad . All Rights Reserved