Photo Gallery

   States / Prants

 Finance

 Discussion Forum

  More lnformation

  BVP in the News

 Feedback 

 

 

 



Be a partner in development of the Nation

Bharat Vikas Parishad is striving for the development of the Nation. You can also participate in this effort  by (a) becoming a member of Bharat Vikas Parishad, (b) enrolling yourself as a “Vikas Ratna” or “Vikas Mitra”  and (c)  donating for various sewa &  sanskar projects.

Donations to Bharat Vikas Parishad are eligible for income tax exemption under section 80-G of Income Tax Act. Donations may kindly be sent by cheque / demand draft in favour of Bharat Vikas Parishad, Bharat Vikas Bhawan, BD Block, Behind Power House, Pitampura, Delhi-110034.


 
 

.
 

 
                                    Niti Editorials : 2010
January Events Inspire Us
February Each One Reach One
March नव सम्वत् अभिनन्दन
April स्वागतम्, सुस्वागतम्
May श्रम एव जयते
June डॉ. सूरज प्रकाश - एक बहुआयामी व्यक्तित्व
July आह्वान
August अदीना: स्याम्
September Salute Thy Teachers
October नमन तुम्हें मेरा शत् बार
November राष्ट्रदेवो भव
December अहर्निशं सेवामहे
   

 

January, 2010

Events Inspire Us
January 2010. We gleefully usher the Gragarian New Year every time. Do rock & roll and send greetings to innumerable acquaintances all over. But being a Bharat Vasi  do we ever think of or try to remember what is Bhartiya Nav Varsh?  Probably not. This is because we are driven for away from our own cultural values. While celebrating the aforementioned New Year we may not be knowing the significance of the names of those twelve months but Bhartiya Nav Varsh  have all the months named after various seasons of this mother earth. So, I would appeal to all our brotheren to celebrate with gusto our own Nav Varsha falling on 16
th March 2010 which may bring peace and prosperity to all:

         सर्वे भवन्तु सुखिनाः सर्वे सन्तु निरामया।
       
सर्वे भद्राणि पश्यन्ति मा कश्चिद दुःख भाग भवेत्।।      

This month the entire nation celebrates the B’days and martyrdom days of couple of our revered leaders and also some festivals connected with change of seasons.

The B’day of Guru Govind Singh, (5th Jan.) the tenth guru will ever be remembered for the establishment of Khalsa Panth. He taught us to be always ready for any sacrifice. Swami Vivekanand (6th Jan.) earned a name for his country when be spoke at the Congregation of Religious Leaders at Chicago by addressing the gathering as ‘My sisters & brothers of America’. And later he was heard with rapt attention. Swamiji, even today, is recognized as the Leader of youth and his B’day is celebrated as Youth Day (युवा दिवस ). Guru Ravidas (30th Jan.) was a spiritual poet who by his couplets penetrated into the hearts of many. ‘You give me blood I will give you Freedom’ will ever be remembered while celebrating B’day of Subhash Chander Bose (23rd Jan.)

The Nation also pays respectful homage to two National leaders in this month. A leader who gave us the slogan ‘Jai Jawan Jai Kisan’   led this nation in foregoing at least one meal per week to save enough of wheat for its प्रजा- he being the Prime Minister. We salute of revered Lal Bahadur Shastri (11th Jan.). ‘He Ram’- the last words uttered by none other than Mahatma Gandhi, are engraved at his Samadhi at Rajghat in New Delhi that reminds us that a frail and simple leader could get the nation its Freedom, though belated. This day is celebrated as Martyr Day when at the stroke of 11 am the entire Nation observes मौन for a minute to pay sincerest homage to the bespectacled दण्डधारी and to innumerable martyrs. Its freedom struggle brought immense cheers when the Nation got its own Constitution on Republic Day (26th Jan.). The question often asked is ‘Are we sincere in upholding the dignity of our Nation?’  It is for the readers to answer when the country is sometimes ranked ahead in the field of corruption.

 Let us now move to our seasonal festivals. Lohri (13th Jan.) in North and Pongal in South are enjoyed during winter season. Arrange a Bon-Fire, sing folk songs and eat dry fruits. Basant (Panchami) (20th Jan.) ushers the spring season. Colourful flowers all around. Nature’s beauty in full bloom. This is the time to learn how to remain smiling like flower and spread fragrance all around by your sweet tongue:

          ऐसी वाणी बोलिए मन का आपा खोय,
        
औरन को शीतल करे आप भी शीतल होय 

Every incidence, every event teaches us something or the other. It is for us to grasp its essence.

And this is what we exactly do at Bharat Vikas Parishad through our various projects specially during Sanskriti Saptah.

 And remember, all of us have taken a vow to expand our family of the Parishad- at micro as well as macro levels. This will strengthen the members even at the grass-root level. Add but not delete should be our motto. Whenever we find some leakage in the membership let us try to plug it by approaching such members of the Parishad.

Let us, therefore, nurture our roots and reap the fruits as envisaged for 2013.   



February, 2010

Each One Reach One
To ameliorate the sufferings of illiterates and eradicate the illiteracy among a major chunck of society consisting of school drop-outs and have-nots, Govt. of India launched, with a fanfare, a campaign of "Each One Teach One". The overall results might not have been very encouraging but it did bring awakening among that group to learn the 3 R’s.  Kerala & Andhra Pradesh can boast of near 100 % literacy. One to one, face to face interaction does yield good results.

 

Let us, therefore, in the B.V.P.  fraternity make a rhyme and introduce this slogan "Each One Reach One" to achieve a goal we have set for ourselves. There cannot be any ‘population control’ so far as our organization is concerned. Let every one of us (members) approach at least, one person, acquaint him with the objectives of this NGO, who has made a mark in the field of Sewa and Sanskar. To make your point of view more effective hand over the basic literature published by BVP to help him go through the activities undertaken by our branches all over the country. This step will inspire the person to enrol himself / herself as an honorable member of this Org. Time permiting, the person can be motivated to attend some function/ activity of the Parishad. Our aim is to increase the no. of members and open new branches. But this task is not to be undertaken at the cost of old branches. The present branches are to be nurtured properly. Hence to achieve the goal set for 2013 let us ‘walk together, speak in unison, and think alike’ :

संगच्छध्वं सं वो मनांसि जाननाम्। 
                                                                                  Best of Luck.

Great leaders start walking alone -'एकला चलो'- but gather momentum when they are joined by the masses. Mool Shankar, while attending a ritual on शिवरात्रि night, was shaken by just one incidence and took a vow to find the real ‘Shiva’. Renounced every thing, wandered from place to place in search of real teacher and later got a name महर्षि दयानन्द सरस्वती. Known as a Social Reformer, Dayanand (8th Feb.) wrote सत्यार्थ प्रकाश (Light of Truth) in 14 समुल्लास in addition to other books. Inspite of being poisoned manya times he forgave his रसोइया and let him go unharmed.


Lord Shiva, one of the Trinity, is remembared on Shivaratri (12th Feb.). After the daylong fast devotees throng the temples at night for  पूजा. Let the Lord bring peace and prosperity to the nation.


Independence was not handed over on a plater without our martyrs sacrificing their precious lives for the country. Chandra Shekhar Azad (27th Feb.) will ever be remembered on this day. We salute the Martyr.


In the field of Science and Technology our country has made significant progress. ISRO, BARC, NASA and the like are the brainy outcome of our scientists. Science Day (विज्ञान दिवस) is celebrated on 28th Feb.

A traditional होलिका दहन prior to the playing of colours (होली) will also be conducted on the same day.  This festival recalls that evil, (होलिक) cannot flourish for long. It has to die to make way for the truth & nobility (प्रह्लाद) to surface victorious.

Let us celebrate all these festivals with piety. 

Wishing our readers the best of the times.                                                                                                                                                                                                  



March, 2010

नव सम्वत् अभिनन्दन
मार्च 2010 के साथ वित्तीय वर्ष 2009-10 समाप्त हो रहा है। राजनैतिक गलियारों में जिस प्रकार गत वर्ष के हानि-लाभ का लेखा-जोखा ध्यान में रखते हुए आगामी वर्ष के लिए `बजट´ बनाया जाता है वैसे ही परिषद् के धरातल पर भी पिछले वर्ष हमारी क्या उपलब्धि रही और कहां-कहां सुधार की आवश्यकता है इसका अवलोकन करने पर आगामी वर्ष की गतिविधियों की रूपरेखा तैयार की जायेगी। अब जब कि नई `टीम´ चुन कर आने वाली है, उनके अस्तित्व-बोध एवं संगतिकरण पर आगामी नीतियों का क्रियान्वयन निर्भर करेगा। जहां एक ओर परिषद्-परिवार उन कर्णधारों का स्वागत करता है वहां साथ ही पूर्ण-रूपेण उन्हें सहयोग देने के लिए भी कृत-संकल्प होना पड़ेगा। सह-अस्तित्व की भावना किसी भी संस्था के लिए महत्वपूर्ण आधार-शिला होती है। उनके द्वारा खचित भविष्य की रूपरेखा परिषद् की उत्तरोत्तर वृद्धि के लिए कारगर सिद्ध होगी, ऐसा विश्वास है।

विवेच्य मास में यद्यपि कई महत्वपूर्ण दिवस हैं परन्तु 16 मार्च, चैत्र सुदी 1 सृष्टि संवत्सर का अपना विशेष महत्व है। वैदिक वाड्मय के अनुसार सृष्टि का सर्जन सृष्टिकर्ता द्वारा एक अरब, छियानवे करोड़, आठ लाख, तरेपन हजार एक सौ ग्यारह वर्ष पूर्व हुआ था। परन्तु भारत का दुर्भाग्य कि पंचांग सुधार समिति की सिफरिशों को न मान कर स्वतन्त्र भारत सरकार द्वारा ग्रिगोरियन (ईसाई) कैलेण्डर की प्रशंसा करके इसे लागू करने की अनुशंसा कर दी गई। यद्यपि इसमें कोई वैज्ञानिकता न थी। इसके पीछे भी यही धारणा काम कर रही थी कि `भारत को भूल जाओ, इण्डिया याद रखो, अंग्रेजों की गुलामी याद रखो क्योंकि भारत को याद रखने पर भरत याद आयेंगे, शकुन्तला और दुष्यन्त याद आयेंगे, हस्तिनापुर याद आयेगा, प्राचीन सभ्यता एवं परम्परा ही नहीं अनेक पूर्वज भी याद आयेंगे´। इतना ही नहीं ईस्वी कैलेण्डर की एक अप्रैल को मुर्खों का दिन (Fools Day) मान कर हम भी मूर्ख बन गये। अंग्रेजी मानसिकता हमारे भी सर चढ़ कर बोली। वाह रे भारतीय! जो विक्रमी संवत् ईस्वी सन् से 57 वर्ष पुराना है, जिसके साथ अनेकों महत्वपूर्ण घटनाएं जुड़ी हैं, उसे भुला कर हम अभी भी दासत्व की भावना को अपनाए हुए हैं। अस्तु! अब भी जागें और विक्रमी संवत् 2067 (16 मार्च) को बड़ी धूम-धाम से मनायें और उसका प्रचार भी करें।

मास का शुभारम्भ (1 मार्च) होली के विभिन्न रंगों से हो रहा है। आइए, इस दिन चन्दन-तिलक लगाते हुए सबको अपना बनाने का प्रयत्न करें। 8 मार्च को `महिला दिवस´ के अवसर पर `यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता´ के सन्देश को यदि समझा जा सके तभी महिला दिवस की सार्थकता होगी। नारी के अधिकारों का युद्ध थमता दिखाई नहीं देता। बाजारवाद की संस्कृति में ग्राहक का अपना महत्व है। इसीलिए 15 मार्च `विश्व ग्राहक दिवस´ के रूप में मनाया जा रहा है, जो कहता है `जागो ग्राहक जागो´। 21 मार्च को हमें अपंगों की सहायतार्थ प्रण लेना चाहिए क्योंकि वे भी ईश्वरीय रचना हैं, उन्हें भी जीने का पूरा अधिकार है। परिषद् की विकलांगता मुक्त भारत की परिकल्पना इस दिशा में एक कारगर कदम है।
राम नवमी (24 मार्च) के अवसर पर मुझे वह चौपाई स्मरण हो आती है:

दैहिक दैविक भौतिक तापा। राम राज नहीं काहुहि व्यापा।।

परन्तु हम जितना प्रकृति से दूर होते जा रहे हैं, ऐसे `ताप´ (संकट) बढ़ते जा रहे हैं। फिर भी यह पर्व राम के जीवन के आदर्शों का अनुकरण करने के लिए बड़े उत्साह से मनाया जाता है। राम कथा विश्व के कोने-कोने में प्रचारित-प्रसारित हो रही है। मर्यादा पुरुषोत्तम राम जो, भारतीय संस्कृति के एक मुख्य आधार स्तम्भ हैं, के देश में सभी सामाजिक मर्यादायें ताक पर धरी जा रही है।

महावीर (28 मार्च) ने सदा सत्य और अहिंसा का उपदेश दिया। परन्तु आए दिन हिंसक घटनाओं की बढ़ती संख्या से सामाजिक ताना-बाना चरमराता दिखाई पड़ता है।                                                                    



April, 2010

स्वागतम्, सुस्वागतम्
अप्रैल, 2010 से आरम्भ होने वाले वित्तीय वर्ष से आगामी दो वर्षों के लिए भारत विकास परिषद् की नई अखिल भारतीय टीम का चयन हो चुका है जिसकी सूचना अपने पाठक-वृन्द एवं सदस्यों तक पहुंचाते हुए हमें अतीव हर्ष की अनुभूति हो रही है। अध्यक्ष पद के लिए श्री रवीन्द्रपाल शर्मा (मुम्बई), कार्यकारी अध्यक्ष के लिए श्री ईश्वर दत्त ओझा (दिल्ली), महामन्त्री पद के लिए श्री सुरेन्द्र कुमार वधवा (दिल्ली) और वित्तमन्त्री का कार्यभार सम्भालने हेतु डॉ. कन्हैया लाल गुप्ता (अलीगढ़) सर्वसम्मति से ग्वालियर में आयोजित राष्ट्रीय शासी मण्डल (National Governing Board) की बैठक में चुने गए। चुनाव का वह दृश्य हर्षोल्लास से भरा हुआ था और होता भी क्यों न क्योंकि निर्विरोध एवं सर्वसम्मत चुनाव परिषद् की परम्परा रही है। परिषद् सदस्यों का प्रगाढ़ विश्वास इस बात का परिचायक है कि यह संगठन और अधिक सुदृढ़ बने। समस्त परिषद् परिवार की ओर से इन अधिकारियों को बधाई इस विश्वास के साथ कि सभी सदस्यों का सहयोग, परिषद् को शीर्षस्थ स्थान पर पहुंचाने में, इन्हें निरन्तर मिलता रहेगा। चुनाव की प्रक्रिया को कुशलता से सम्पन्न कराने के लिए सर्वश्री एस.के.वर्मा, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष-चुनाव अधिकारी एवं सतीश चन्द्र, राष्ट्रीय मन्त्री भी साधुवाद के पात्र हैं। शुभ: ते पन्थाना: सन्तु!

घबरायें नहीं, हम अपने पाठकों को `अप्रैल फूल´ नहीं बनाना चाहते क्योंकि यह हमारे सांस्कृतिक आदर्षों के अनुरूप नहीं। हमें तो एक अप्रैल को डॉ. हेडगेवार का स्मरण हो आता है जिन्होंने अपने जीवन काल में राष्ट्रीय भावना से ओत-प्रोत देशवासियों को संगठित करने का बीड़ा उठाया था। संगठन में मजबूती तभी आती है जब प्रत्येक नागरिक स्वस्थ रहे। विश्व आरोग्य (स्वास्थ्य) दिवस (7-4) इस दृष्टि से स्मरणीय है। `पहला सुख नीरोगी काया´। भारत विकास परिषद् ने भी इस दिशा में अस्पताल, डायग्नोस्टिक सेन्टर जैसी अन्य प्रयोगशालाएं खोल कर सराहनीय कार्य किया है। स्वतन्त्रता संग्राम के पुरोधाओं में से एक मंगल पाण्डे के बलिदान (8-4) को कैसे भूल सकते है। अंग्रेजी शासन के अमानवीय अत्याचारों ने इन्हें अमर बना दिया है। ऐसे ही थे वीर तात्या टोपे जिन्होंने आततायियों का मुकाबला करते वीर गति (18-4) प्राप्त की। इनके प्रति हमारा सश्रद्धा नमन्।

जलियांवाला बाग (अमृतसर) के काण्ड (13-4) ने तो मानो वैसाखी का पर्व मनाने के लिए एकत्रित भीड़ पर जनरल डॉयर की गोली बारी ने जलती आग में घी का काम किया था। आज भी उस घटना का स्मरण करते रोंगटे खड़े हो जाते हैं। सुदूर प्रदेश के महात्मा ज्योतिबा फुल्ले ने भी देश की स्वतन्त्रता के लिए विशेष कार्य किया। उन्हें भी आज (11-4) उनके जन्म दिवस पर हम आदर से स्मरण करते हैं।

स्वतन्त्रता प्राप्ति के उपरान्त देश का अपना संविधान तो लिखा ही जाना था। यह दायित्व डॉ. भीमराव अम्बेडकर को सौंपा गया जिनके कुशल नेतृत्व में राष्ट्र को लिपिबद्धरूप में कुछ दिशा-निर्देश प्राप्त हुए। 14 अप्रैल को उनकी जयन्ती मनाते हुए प्रत्येक देशवासी गर्व की अनुभूति करेगा। परन्तु ध्यान रहे `है सरल आज़ाद होना पर कठिन आज़ाद रहना´। 26 जनवरी, 1950 को गणतन्त्र बनने पर वह संविधान लागू हो गया। तब से अब तक भारतीय लोकतन्त्र अनेक उतार-चढ़ाव को पार करते हुए एक मजबूत स्थिति में पहुंच गया है। इसे और मजबूत बनाने के लिए यह अपेक्षित है कि हम इसे अपने हक और जिम्मेदारी दोनों रूपों में ग्रहण करें। भारत के शिक्षाविद् भूतपूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णनन्, जिन्होंने अपने कार्यकाल में बड़ी कुशलता से संविधान की गरिमा को बनाए रखा, उन्हें उनकी पुण्यतिथि (17-4) पर सारा राष्ट्र श्रद्धा से नमन् करता है।

पर्वों की बात करें तो वैसाखी का पर्व उत्तर भारत का और बीहू (15-4) असम के विशेष पर्व हैं। किसानों की नई फसल आने पर हषोZंल्लास का अवसर। ऐसे अवसर भी सन्तानोत्पति की खुशी से कम नहीं होते।

अभी राष्ट्र के जिस प्रथम संविधान की चर्चा ऊपर की गई है उसी राष्ट्र के कर्णधारों द्वारा 19 अप्रैल (1975) को खगोल वैज्ञानिक आर्य भट्ट के नाम से देश के प्रथम उपग्रह (Satellite) का सफलता पूर्वक प्रक्षेपण किया गया था। ऐसी प्रथम विजय पर देश में उल्लास की कोई सीमा ही नहीं थी। राष्ट्र अपने वैज्ञानिकों पर सदा गर्व करता है। आइए! हम भी इस राष्ट्रीय-यज्ञ में आहूति देते हुए हमेशा यही कहें - इदं राष्ट्राय, इदं न मम।


May, 2010

श्रम एव जयते
परिश्रम करने से विजय प्राप्त होती है।
संस्कृत भाषा की एक उक्ति है :

परिश्रमेण हि सिध्यन्ति कार्याणि न मनोरथै:।
न हि सुप्तस्य सिंहस्य प्रविशन्ति मुखे मृग:।।

वस्तुत: परिश्रम ही सफलता की कुंजी है, मात्र सोचने से ऐसा सम्भव नहीं होता। जैसे सोये हुए शेर के मुख में (उसका भोजन बनने हेतु) हिरण कभी भी स्वयमेव नहीं आता। श्रम की इसी महिमा को जानते हुए, परिश्रम करने वाले श्रमिकों का भी उद्धार हो, सम्भवत: मई के प्रथम दिन को मई दिवस (May Day) अथवा श्रमिक दिवस को विश्व पटल पर स्थापित किया गया है। (सच्ची) मेहनत का फल सदैव मीठा होता है। वह किसी भी क्षेत्र में क्यों न की जाए। साहित्यिक, राजनैतिक या धार्मिक कोई भी क्षेत्र क्यों न हो। 9 मई को यदि कवीन्द्र रवीन्द्र की जयन्ती का स्मरण हो आता है तो पता चलता है कि उन्होंने बंगला साहित्य को अपनी लेखनी से कितना समृद्ध बनाया। रवीन्द्र नाथ टैगोर विश्व स्तरीय कवियों की गणना में आते हैं। आज हम उन्हें सश्रद्ध नमन करते हैं।

`बंग-भंग´ से स्वतन्त्रता संग्राम की चिंगारी तो सुलग चुकी थी जिसका आभास मेरठ से आरम्भ हुए प्रथम स्वतन्त्रता संग्राम से होता है। वेद-वाणी कहती है `अदीना स्याम´ - कभी पराधीन मत रहो। राजनैतिक गलियारों में भी यह वाणी गूंजी थी और कहीं से तो इसका शुभारम्भ होना था।

परन्तु हिंसा और अहिंसा के दो मार्गों में से महात्मा गान्धी ने अहिंसा के मार्ग को अपनाने की प्रेरणा दी चाहे उससे राजनैतिक स्वतन्त्रता की प्राप्ति को इतनी सफलता नहीं मिली। हम कितना ही इस गीत को क्यों न गुनगुनाते रहें - `ले दी हमें आजादी बिना खड़्ग बिना ढाल´ परन्तु यह अक्षरश: सत्य नहीं है।

`अहिंसा परमो धर्म:´ का सन्देश लेकर महात्मा बुद्ध अवतरित हुए। यही था धार्मिक  दृष्टि से बौद्ध धर्म। परन्तु बौद्ध भिक्षुओं का समर्पण श्लाघनीय है जिन्होंने :-
बुद्धं शरणं गच्छामि
धम्मं शरणं गच्छामि
संघं शरणं गच्छामि

इन महावाक्यों को अक्षरश: अपने जीवन का ध्येय-वाक्य स्वीकार किया। बुद्ध पूर्णिमा पर महात्मा की शिक्षाओं से यदि प्रेरणा ले सकें, तो हम महिमा-मण्डित हो सकते हैं।

बुद्ध अर्थात् ज्ञान, धम्मं अर्थात् धर्म और संघं अर्थात् संगठन - इन तीनों का समीचीन समन्वय राष्ट्र के लिए भी श्रेयस्कर होगा। राष्ट्रोन्नति के लिए आईए कृत-संकल्प हों। 


June, 2010

डॉ. सूरज प्रकाश - एक बहुआयामी व्यक्तित्व
`होनहार बिरवान के होत चीकने पात´ एक सारगर्भित मुहावरा है। यह कथन एक ऐसे व्यक्तित्व पर अक्षरश: सटीक बैठता है जिसे भारत विकास परिषद् का समस्त परिवार जून मास में पूरे आदर से स्मरण करता है। 27 जून 1920, का दिन परिषद् परिवार के एक देवतुल्य आत्मा को इस धरती पर ले कर आया। आर्य समाजी परिवार में जन्मे इस बालक का नामकरण हुआ `सूरज प्रकाश´। `यथा नाम तथा काम´ सूर्य जैसी ऊष्मा भी और अज्ञानान्धकार को मिटाने वाला प्रकाश भी।

शास्त्रानुमोदित ब्रह्मचर्य काल में ही सूरज प्रकाश ने दसवीं की परीक्षा से एम.बी.बी.एस. की परीक्षा तक सभी परीक्षाएं प्रथम श्रेणी में प्रथम स्थान प्राप्त कर उत्तीर्ण कीं। यही था उनका मेधावी होने का प्रमाण।

सन् 1947 में भारत विभाजन के समय डॉ. सूरज प्रकाश जी को पश्चिमी पंजाब से आये शरणार्थियों की सहायता एवं पुनर्वास का दायित्व सौंपा गया। यहीं से उनमें `सेवा´ भाव का बीज-वपन हुआ। राष्ट्र प्रेम, अनुशासन, निर्भीकता और बलिदान के मूलमन्त्र उन्होंने आर्य समाजी संस्कारों से ओतप्रोत अपने पिताश्री से ही ग्रहण किये थे जिन्होंने स्वयं अपने देश की स्वतन्त्रता के लिए कई आहुति दीं।

गृहस्थाश्रम में प्रवेश करते हुए सुश्री अयोध्या गुप्ता के रूप में उन्हें एक ऐसी गुणी सहधर्मिणी मिली जो डॉ. साहब के जीवन काल में उनके लिए ढाल बन कर कार्य करती रही। डॉ. साहब ने अपने परिवार में अनेक उतार-चढ़ाव देखे परन्तु इन विपरीत परिस्थितियों में भी उन्होंने अपना सन्तुलन नहीं बिगड़ने दिया। उनकी बहिन ने तो डॉक्टर जी की उपमा एक ऐसे `वटवृक्ष´ से की जो बिना भेदभाव के सब को अपनी छत्र-छाया में रखता है।

राष्ट्र के पुनरुद्धार के लिए वह सदा चिन्तित रहते थे। उन्होंने यह अनुभव किया कि समाज के समृद्ध और धनाढ्य व्यक्ति प्राय: स्वार्थी बनते हुए राष्ट्र से कटते चले जा रहे हैं। अस्तु! एक ऐसी संस्था के गठन की आवश्यकता समझी गई जो समाज के ऐसे वर्ग को एक प्लेट़फार्म पर एकत्र कर उन्हें राष्ट्र-हित के लिए प्रेरित कर सके। बस इसी आशय को ध्यान में रखते और अपने विश्वस्त मित्रों से विचार-विमर्श करते हुए `भारत विकास परिषद्´ नामक एक अराजनैतिक, सांस्कृतिक एवं समाजसेवी संगठन सन् 1963 में अस्तित्व में आया। इसके प्रथम राष्ट्रीय महामन्त्री स्वयं डॉ. सूरज प्रकाश जी बने। सन् 1962 के चीनी आक्रमण से त्रस्त भारतीय संस्कृति और अस्मिता को अक्षुण्ण बनाए रखने हेतु सबसे पहला कार्य जो उन्होंने किया वह नई दिल्ली में छत्रपति शिवाजी की प्रस्तर-प्रतिमा की स्थापना और तत्कालीन उपराष्ट्रपति वी. वी. गिरी जी द्वारा उसका लोकार्पण। शिवाजी में भारतीय अस्मिता के रक्षक को देखा जा सकता है। मानव सेवा की भावना से ओत-प्रोत डॉ. सूरज प्रकाश जी अपने चिकित्सकीय व्यवसाय में भी गरीबों के प्रति विशेष सहानुभूति रखते थे। शायद इसलिए विकलांग पुनर्वास योजना भी उनका प्रिय प्रकल्प बना।

महापुरुषों की श्रेणी में अपने अतुलनीय बलिदान के लिए डॉ. साहब ने सभी शाखाओं को गुरु तेग बहादुर बलिदान दिवस पूरी गरिमा से मनाने का प्रकल्प पेश किया।

डॉ. सूरज प्रकाश अपने आप में एक संस्था थे। वस्तुत: डॉ. साहब और भारत विकास परिषद् एक दूसरे के पूरक थे। सोते-जागते जिस व्यक्ति को भारत विकास परिषद् ही दिखाई देता हो, ऐसे थे इस परिषद् के संस्थापक महामन्त्री डॉ. सूरज प्रकाश।

राष्ट्रप्रेम, अनुशासन, पारदर्शिता, समयबद्धता, कर्त्तव्यनिष्ठा, नियमितता उनके जीवन के मूल मन्त्र थे। भारतीय संविधान के प्रथम वाक्यों के अनुरूप डॉ. साहब भी परिषद् की प्राथमिकता भारत, भारतवासियों और भारत की प्रभुसत्ता एवं अखण्डता को अक्षुण्ण बनाए रखने को ही मानते थे। भारत के सर्वांगीण विकास के लिए वह प्रतिबद्ध थे जिससे भारत समृद्ध, सशक्त और समर्थ बन सके।

तीन दशकों के कार्यकाल में डॉ. साहब ने अन्य प्रकल्प भी जोड़ने शुरु कर दिये: जैसे महिला समभागिता, वृक्षारोपण, स्वास्थ्य शिविर आदि। भारत में परिषद् की विचारधारा के प्रचार के लिए उन्होंने कई बार भ्रमण किया। उनका लक्ष्य था नवयुवक यदि संस्कारित बनेंगे तभी भारत का भविष्य उज्ज्वल होगा। राष्ट्रीय समूहगान प्रतियोगिता इस दिशा में एक कारगर प्रयास था।

आज परिषद् का परिवार उत्तरोत्तर बढ़ रहा है, इसलिए डॉ. साहब को परिवार का `भीष्म पितामह´ कहा जाता है। यदि उन्हें देव तुल्य कहा जाए तो अतिशयोक्ति न होगी। `देव´ इति, `दानाद वा´, `दीपनाद वा´ अर्थात् देवता वह है जो दान दे सके और दीपक के समान दूसरों को प्रकाशित कर सके। ऐसा लगता है डॉ. सूरज प्रकाश जी ने अपनी सेहत का ध्यान न रखते हुए परिषद् के लिए ही निज को न्योछावर कर दिया। एक दीपक (शाखा) से अनेकों दीपक (शाखाएं) खोलकर परिषद् को प्राणवान् करने के लिए समस्त परिषद् परिवार डॉ. सूरज प्रकाश जी को उनकी जयन्ती (27 जून, 2010द्) पर सस्नेह, सादर स्मरण कर परिषद् की स्वर्ण जयन्ती के लिए निर्धारित लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए निज को कटिबद्ध करता है।

पत्रिका का कायाकल्प
सुधी पाठकों एवं कर्मठ सदस्यों के निरन्तर स्नेह पूर्ण आग्रह के परिणाम स्वरूप आपकी अपनी पत्रिका `नीति´ के कलेवर में भी आमूल परिवर्तन किया गया है। यूं कहिए कि परिषद् के संस्थापक डॉ. सूरज प्रकाश जी की जयन्ती से `नीति´ मासिक का भी नवीकरण हो गया है। साज-सज्जा, अधिक छाया चित्रों का समावेश, बड़ा साईज और समाचारों की आकर्षक प्रस्तुति से पाठक वृन्द सन्तुष्ट होंगे, ऐसा विश्वास है।

फिर भी आपके सुझाव सादर आमन्त्रित हैं। 



July, 2010

आह्वान
भारत की सांस्कृतिक चेतना से अभिभूत प्रबुद्ध और सम्पन्न वर्ग को परिषद् की चिन्तन धारा से जोड़ना प्रत्येक सदस्य का प्रथम और प्रमुख दायित्व है। नये वर्ष में शाखा एवं सदस्य विस्तार का लक्ष्य पूर्ण करना हमारा सामूहिक संकल्प है। शाखा विस्तार एक सतत प्रक्रिया है। अपने प्रकल्पों के माध्यम से नवीन बन्धुओं से सम्पर्क करना और विचारों के अनुकुलता के आधार पर सदस्य और दायित्वधारी बनाना यही सतत प्रक्रिया है।

परिषद् के लम्बे और सक्रिय कार्यकाल के कारण वर्तमान में केन्द्र से शाखा स्तर तक दायित्वधारियों की एक लम्बी श्रृंख्ला है। ऐसे क्रियाशील समूह के सहयोग से कोई भी लक्ष्य पाना कठिन नहीं है। आप सभी दायित्वधारियों ने अपने प्रारंभिक स्तर पर परिषद् की गरिमा और प्रभाव बढ़ाने में बड़ा सहयोग किया है। अत: गुणवत्ता की पूंजी भी हमारे साथ है।

ऐसा अनुभव किया जा रहा है कि प्रकल्पों के दायित्वधारी सभी स्तरों पर प्रकल्प की सफलता के प्रति सक्रिय रहते हैं। इसी प्रकार संगठनात्मक क्षेत्र के बन्धु बैठक, कार्यशाला, सम्मेलन, समन्वय समिति आदि प्रसंगों की सफलता सुनिश्चित करते हैं। ऐसे में शाखा विस्तार के विषय की चर्चा और प्रयास यदि उपेक्षित हो जाते हैं तो कोई आश्चर्य की बात नहीं है। शाखा विस्तार के प्रभारी भी सभी स्तर पर नियुक्त हैं। केवल इन प्रभारियों की सक्रियता से शाखा विस्तार का लक्ष्य पूरा करना कठिन है।

मेरा निवेदन है कि इस वर्ष सभी क्षेत्रों के दायित्वधारी अपने दायित्वों के साथ शाखा विस्तार को व्यक्तिगत जिम्मेदारी समझकर कार्य करें। आशा करता हूं कि आप सभी संबन्धित दायित्वधारी इस सामूहिक संकल्प को पूरा करने में व्यक्तिगत रूप से सक्रिय होंगे।

The first and foremost duty of every member is to bring around the elites and will-to-do of the society, who have imbibed in them the cultural values of Bharat, on the platform of the Parishad. All of us should take a vow, in the New Year, to fulfill our commitment regarding expansion of branches and its members. Branch expansion is a continuous process. The process is simple. The members can be contacted through our various projects and like - minded people may be enrolled as members and later on assigned some responsibility.

We have at present a very large chain of office bearers right form the Centre down to Branch level due to their long and active participation in various activities of the Parishad. Every target can be achieved with the cooperation of such a conscientious team. All the Office Bearers have worked hard at the initial stage to bring the Parishad to such a commendable level. Remember! we have, in abundance, the wealth of excellence.

It is felt that Office Bearers connected with various projects, at all levels, are always eager to make that project successful. In the same way the persons in the Organizational set up make it a point to work for the success of meetings, workshops, Sammelan and coordination committee deliberations. In this process if a reference or discussion related to expansion of branches is ignored, is understandable. Responsible persons connected with the expansion work have also been nominated at various levels. The target of expansion can not be achieved only with the active cooperation of these office bearers.

Hence my humble request this year is that Office Bearers at all levels should work for the expansion of branches considering it their own responsibility in addition to the responsibility assigned to them. I hope all of us will consider it (i.e. Expansion) a common project.

 - Surinder Kumar Wadhwa,  National Secretary General



August, 2010

अदीना: स्याम्
हम किसी के अधी्न न रहें

`नीति´ पत्रिका का अगस्त मास का अंक आप सुधी सदस्यों एवं पाठकों के समक्ष है। अगस्त मास का अपना एक विशेष महत्व है। भारतीय जन मानस द्वारा सन् 1942 में छेड़ा गया `भारत छोड़ो आन्दोलन´ और इसके लिए सभी वर्गों के नेताओं द्वारा दी गई शहादतों ने अन्ततोगत्वा जन मानस की आवाज सुन ही ली और 15 अगस्त 1947 को स्वतन्त्रता दिवस की पूर्व सन्ध्या पर लाल किले की प्राचीर से देश को सम्बोधित करते हुए भारत के प्रथम प्रधान मन्त्री पं. जवाहर लाल नेहरु ने, जहां, देशवासियों को बधाई दी, वहीं साथ में उन्हें याद दिलाया कि ' I have miles to go before I sleep and miles to go before I spleep'  यहां `I' से ‘W'  की भावना ही लेनी चाहिए।

वेद वाणी भी कहती है `अदीना: स्याम शरद: शतं´ मैं सौ वर्ष (वैदिक वाङ्मय में निर्धारित आयु सीमाद्) पर्यन्त अपने प्रत्येक अंग को स्वस्थ रखते हुए किसी के अधीन रहकर जीवन यापन न करूं। `मानस´ कार गोस्वामी तुलसी दास (जयन्ती 16 अगस्त) ने भी बड़े स्पष्ट शबदों में लिखा `पराधीन सपनेहुं सुख नाहीं´ - कितनी बड़ी बात है, शायद सोते हुए भी अपने आका के स्वप्न ही सताते रहते हैं।

परन्तु न जाने क्यों हमने अपनी सोच के माध्यम से स्वतन्त्रता के अर्थ का अनर्थ कर दिया। `जो मन में आए करो, किसी प्रकार की धारा हम पर लागू नहीं होती´ - जीवन के अलग-अलग क्षेत्रों की पिछले 65 वर्षों की यही कहानी है।

एक कवि ने कहा था ` है सरल आज़ाद होना पर कठिन है आज़ाद रहना´। कुर्बानी देकर देश आज़ाद तो हो सकता है पर उसे राजनैतिक, आर्थिक, सामाजिक, आध्यात्मिक दृष्टि से स्वावलम्बी बनाए रखने के लिए प्रत्येक घटक की जिम्मेदारी बढ़ जाती है। यह यात्रा एक  Rozor's edge पर चलने के समान हैं उपनिषत्कार कहते हैं।

दुर्गम पथ: इति कवयो: वदान्ति।

क्या आपने कभी सोचा कि भारत विकास परिषद् के ध्येय वाक्य `राष्ट्रदेवो भव´ का निहित अभिप्राय क्या है - परिषद् के चिन्तकों ने सोच-विचार कर ही इस वाक्य को ध्येय वाक्य बनाया होगा। `मातृदेवों भव´, `पितृदेवो भव´, `आचार्यदेवो भव´, `अतिथिदेवो भव´ और सबका समाहार करते हुए `राष्ट्रदेवो भव´। राष्ट्र में सब का अस्तित्व लीन हो जाता है। सेवा और संस्कार के सभी प्रकल्प `हमारा राष्ट्र सुदृढ़ और स्वस्थ बने´ इसी भावना की ओर प्रेरित करते हैं। यज्ञ में आहुति देते समय कहा जाता है `इन्दं राष्ट्राय, इन्दं न मम´। अपनी दोनों सन्तानों को दीवार में चुने जाते देख गुरु गोविन्द सिंह ने भी यही वाक्य दुहराया होगा `इन्दं राष्ट्राय इन्दं न मम´। राष्ट्र की सत्ता है तो मैं हूं अन्यथा मेरा अस्तित्व ही क्या है? परन्तु आज का युवक निजी स्वार्थ के लिए सभी आदर्शों नियमों को ताकपर रख गर्व की अनुभूति करता है। जबकि परिषद् का प्रयास अपने नाना विद्य कार्यक्रमों से उसे सुपथ पर लाने का है।

महर्षि दयानन्द ने आर्य समाज के अन्तिम अर्थात् 10वें नियम में कहा है: ``सब मनुष्यों को सामाजिक, सर्वहितकारी नियम पालने में परतन्त्र रहना चाहिए और प्रत्येक हितकारी नियम में सब स्वतन्त्रत रहें´´। यहां `परतन्त्र´ का अभिप्राय है अनुशासन में रहते हुए सर्व ग्राहय नियमों का पालन। `सर्वहितकारी´ में `स्व हितकारी´ का लाभ स्वत: प्राप्त हो जाता है।

बालगंगाधर तिलक ने कहा था `स्वतन्त्रता मनुष्य का जन्म सिद्ध अधिकार है´ जिसकी व्याख्या और विस्तार से विपिन चन्द्र पाल ने यूँ की -`` परमात्मा अनादि है, स्वतन्त्र और स्वयन्दर्शी है, अत: मानव-मात्र स्वतन्त्र स्वयन्द्रष्टा है और इसलिए स्वतन्त्रता मनुष्य का जन्मसिद्ध अधिकार है।´´

´´नेता जी सुभाष चन्द्र बोस के वे शब्द बार-बार मानस पटल पर अंक्ति हो आते हैं। `तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा´ अगस्त मास में जिन भी महापुरुषों की जयन्ती अथवा पुण्यतिथि है सभी ने किसी न किसी रूप में स्वतन्त्रत राष्ट्र की कामना की थी। `वन्दे मातरम्´ गीत यही तो पाठ पढ़ाता है - अपनी सर्वगुण सम्पन्न मातृभूमि को कोई आक्रान्ता प्रताड़ित करे, कौन सहन कर सकता है।

इसी मास में एक और पर्व है रक्षा बन्धन (24.8) इससे जुड़ी `हाड़ा रानी´ की पुरानी गाथा हो अथवा बहिन-भाई की कहानी - रक्षा तो करनी ही है। तो आइए इस 63वें स्वतन्त्रता दिवस पर हम सब भी राष्ट्र की हि़फाजत करने की कसम खाएं।

आज के युवक ने ही इस बीड़े को उठाना है, इस जिम्मेदारी को निभाना है। इसकी सकारात्म सोच बनी रहे और वह राष्ट्रोत्थान के बारे में क्रियाशील रहे इस हेतु परिषद् ने Seminars  (गोष्ठियों) का एक प्रकल्प भी पूरे मनोयोग से आरम्भ किया है। राष्ट्र की अस्मिता से जुड़े विषयों पर इन गोष्ठियों में चर्चा की जाए, यह समय की मांग है।



September, 2010

Salute Thy Teachers
Come September, you will across a long list of activities to be held at Branch level NGSC/NSGSC/GVCA and of course, Bharat Ko Jano. All these competitions are Sanskar oriented.

When we talk about Guru Vandan Chhatra Abhinandan, just a coincidence. I am reminded of Lord Krishna delivering his discourse to a warrior-cum-pupil Arjuna on the battle field of Kurukshetra (open classroom) to dispel his ignorance (Ñ’.k tUek’Veh falls on 2nd Sept.). It was not a brief lecture but spreading to 18 chapters. Philosophy, Mythology, Biology, Sociology-all were well-knit coming from the mouth of fojkV himsel. Lord Krishna’s emphasis was that Arjun does his duty irrespective of the fact that his nearest kins are standing on the other side. To the reluctant student Lord Krishna had to say:

मन्मना भव, मद भक्तो, मद्याजी, मां नमस्कुरु।
x    x   x    x   x   x   प्रियोअसि मे। (18/65)

 
x    x   x    x   x   x   x   x   x   x   x   x

सर्वधर्मान् परित्यज्म मामेकं शरणं व्रज। अहं त्वा सर्व पापेभ्यो मोक्षयिष्यामि मा शुच:।। (18/66)

That was an indication to have full faith in your mentor. Complete ‘समर्पण’- The 5th axim of BVP. And the teacher ultimately succeeded. Arjun had to admit:

नष्टो मोह: स्मृतिर्लब्धा त्वत्प्रसादान्मयाच्युत। स्थितोअस्मि गतसन्देह: करिष्ये वचनम् तव।। (18/73)

Another Teacher-cum-Politician Dr. S. Radha Krishan became an icon for many. A tall, handsome and with Pagri as head-gear he wrote a no. of books dealing with mythology, literature and politics. He had been Vice-President of India bestowed with Bharat Ratna. A guide and philosopher Dr. Radha Krishan’s B’day (5th Sept.) was declared to be celebrated as a Teacher’s Day. A rightful tribute. Another leather प्रज्ञाचक्षु Guru Virjanand Dandi (14th Sept.) transformed and moulded the life of his beloved disciple Mool Shanskar, later know as Swami Dayanand Saraswati, a great social reformer and founder of Arya Samaj.

Hindi Day (हिन्दी दिवस) is also observed on this day. Every Indian should feel honoured that Hindi is our National Language. A versatile poet Bhartendu Harish Chandra (9th Sept.) will always he remembered who strongly advocated the cause of our National Language.

On 11th Sept. we remember and salute a saintly figure Vinoba bhave, on his B’day, who fought for the cause of landless villagers and started the movement know as भू-दान।

World Literacy (विश्व साक्षरता दिवस) is celebrated on 7th September. तमसो मा ज्योतिर्गमय - from ignorance (Darkness) lead me to the path of konwledge (light) is the essence behind this thought. BVP is doing a Yeoman’s service in this direction also.

The entire nation would salute Sardar Bhagat Singh (better know as Shaheed-e-Azam) on his birthday on 28th Sept. He was the soul behind the revolution leading to the Independence of India. Let me quote a few lines from his letter written from jail:

23 वर्ष (1907-31) की छोटी आयु में हंसते-हसते फांसी पर चढ़ जाने वाले वीर भगत सिंह ने `इनकलाब ज़िन्दाबाद´ के नारे व अपने बलिदान से क्रान्ति का शंखनाद किया। ``दिल से निकलेगी न मर कर भी वतन की उल्फ़त। मेरी मिट्टी से भी खुशबू-ए-वतन आएगी।´´ - जेल में लिखी हुई  इनकी ये पंक्तियां हमें प्रेरणा देती रहेंगी।

Our branches generally hold functions to remember these heroes who brought name and fame to the nation by sacrificing their lives. Vande Matram.



October, 2010

नमन तुम्हें मेरा शत् बार
भारत-भू ऋषियों, मुनियों, सन्तों, महात्माओं और पहुंचे हुए फकीरों की धरा रही है। इन महापुरुषों ने कन्दराओं और गु़फाओं में बैठ निरन्तर तपस्या-रत रह कर मानों उस परमपिता का साक्षात्कार किया हो। तभी तो ऐसी महान् विभतियां सदा- सर्वत्र पूजनीय होती हैं।

अक्टूबर माह का आरम्भ ही ऐसे महात्मा के जन्म दिवस से होता है जिसे संसार `बापू´ के नाम से जानता है- मोहनदास करमचन्द गांधी। त्यागी, तपस्वी, अहिंसा के पुजारी और राम राज्य की संकल्पना करने वाले सर्वधर्म सद्भाव के उन्नायक इस महात्मा को सारा देश (2.10) नमन् करता है। इसी दिन एक और विभूति को भी हम स्मरण करते हैं जो लाल भी था और बहादुर भी - भारत के भूतपूर्व प्रधान मन्त्री लाल बहादुर शास्त्री। एक साधारण परन्तु राष्ट्र के प्रति प्रतिबद्ध व्यक्तित्व। कुर्सी का लालच जिसे डगमगा न सका। शायद इसलिए मरणोपान्त पहला भारत रत्न इन्हें ही मिला। क्या आज ऐसे आदर्श उपलब्ध हैं?

राष्ट्र की अस्मिता बचाने और हिन्दू धर्म की रक्षा हेतु जिन्होंने अपने चारों पुत्रों का बलिदान दे दिया ऐसे `सवा लाख से एक लड़ाऊं´ कहने वाले गुरु गोविन्द सिंह की पुण्य तिथि (7.10) पर हम कहेंगे वह गुरु भी थे और गोविन्द भी। ऐसी सन्धि कहां मिलेगी?

अध्यात्म के क्षेत्र में प्रज्ञाचक्षु गुरु विरजानन्द ने तो मूलशंकर (बाद में महर्षि दयानन्द) की दिशा और दशा ही बदल दी थी;  सत्य के अर्थ का प्रकाश करने की प्रेरणा दी थी। महात्मा आनन्द स्वामी और श्याम जी कृष्ण वर्मा भी आर्य समाज के स्तम्भ बने। स्वामी विवेकानन्द (भारत विकास परिषद् के आदर्श) के साथ धर्म प्रचार करने वाली विदेशी महिला भगिनी निवेदिता को भी उनकी जयन्ती (20.10) पर स्मरण करते हुए उनसे प्रेरित होना चाहेंगे।

नेता जी सुभाष चन्द्र बोस द्वारा 21.10 को आज़ाद हिन्द सरकार बनाने की जब घोषण की गई तो उनका स्वप्न था विदेशी आक्रान्ता से देश को स्वतन्त्र करना। तभी तो उन्होंने नारा दिया था `तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आज़ादी दूंगा´। परन्तु खेद है उनसे सम्बन्धित विमान दुर्घटना की गुत्थी आजतक सुलझ नहीं सकी।

बच्चों के लिए डाक-तार दिवस की जानकारी भी आवश्यक है। `पाती मैं कैसे लिखूं, लिखहि न जाई´-यह पाती कैसे अपने गन्तव्य तक पहुंचाई जाए, यही बीड़ा डाक-तार विभाग ने उठाया था। परन्तु अब तो कोरियर सेवा ने भी इस क्षेत्र में अपना विशिष्ट स्थान बना लिया है।

संस्कृत भाषा में लिपिबद्ध `रामायण´ की चर्चा न हो तो भारतीय संस्कृति की कहानी अधूरी रह जाती है। जो `रत्नाकर´ अपने कुछ अशोभनीय कृत्यों से हेय जाने जाते थे वही ऋषि वाल्मीकि बन जब `रामायण´ के आख्याता बने तो साहित्यिक क्षेत्र में ही नहीं राम भक्तों ने भी उन्हें समादृत किया। गोस्वामी तुलसीदास ने तो बाद में प्रेरित होकर अवधी में `राम चरित मानस´ की रचना की। यूं कहें तो आगे बढ़ते-बढ़ते राम का वृत्त कवियों के लिए काव्य ही बन गया।

स्वतन्त्रता प्राप्ति के उपरान्त प्रधान मन्त्री नेहरु के प्रथम मन्त्री मण्डल में वल्लभ भाई पटेल उप-प्रधान मन्त्री थे जिन्हें सरदार के नाम से जाना जाता है। वस्तुत: वह सरदार अर्थात् नेतृत्व-शक्ति से सर्व प्रकारेण सम्पन्न थे। उनकी दूरदृष्टि, निर्णयात्मक प्रतिभा और दृढ़निश्चयात्मिका बुद्धि युग-युगों तक स्मरण की जाएगी। खेड़ा और बारदोली सत्याग्रह जैसे आन्दोलनों का नेतृत्व जिस कुशलता से किया गया वह चिरस्मरणीय रहेगा। `एकता के शिल्पी´ के रूप में उन्होंने देश की सभी रियासतों को एक सूत्र में पिरो कर राष्ट्रीय एकता की एक अनूठी मिसाल कायम की। अपने प्रभावी कृत्यों के कारण ही वह `लौह पुरुष´, एवं `भारत का बिस्मार्क´ कहलाए।

भारतीय नारी की शक्ति को उजागर करने वाली प्रधान मन्त्री प्रियदर्शिनी इन्दिरा गांधी (31.10) को कैसे विस्मृत किया जा सकता है?  राष्ट्र-हित की योजनाओं और उनके क्रियान्वयन के कारण वह इतिहास में सदा अमर रहेंगी। भारत रत्न से सम्मानित वह प्रथम महिला थीं।

ऐसी महान् विभूतियों के प्रति देश सदा ही श्रद्धावनत् रहेगा।                               
                                      


November, 2010

राष्ट्रदेवो भव

मातृ, पितृ, आचार्य और अतिथि की कड़ी में भला राष्ट्र को कैसे विस्मृत किया जा सकता है। `राष्ट्रदेवो भव´ की अपनी ही गरिमा है। पूर्वोक्त चारों घटक मिल कर ही तो राष्ट्र का निर्माण करते हैं। और किसी का स्मरण हो न हो `राष्ट्रदेवता´ तो हम सब के आराध्य रहते ही हैं:
यूनान मिस्र रोमा सब मिट गए जहां से। कोई बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी।।

अभी कुछ दिन पूर्व एक विद्वत् संगोष्ठी में विश्वविख्यात डा. वागीश के प्रवचन का विषय था, `कोई बात है कि हस्ती मिटती नहीं तुम्हारी।´ उन्होंने `हमारी´ के स्थान पर `तुम्हारी´ का प्रयोग कर भारतीय जन मानस को सम्बोधित कर उनकी स्थिति का बोध कराया था। `हस्ती´ और कुछ नहीं `अस्ति´ का ही अपभ्रंश है। `अस्ति´ अर्थात् अस्तित्व (Existence) और यह `अस्तित्व´ राष्ट्रीय परम्पराओं, मर्यादाओं और संस्कारों के कारण ही जीवित रहता है। और यदि संक्षेप में कहा जाए तो भारत एक `संस्कार प्रधान´ राष्ट्र है। और यह राष्ट्र अपने आदर्श पुरुषों-चाहे वे किसी भी क्षेत्र के क्यों न हों-को सदा नमन् कर उनके पद-चिन्हों पर चलने का प्रयत्न करता रहा है।

महात्मा गान्धी उन्हीं में से एक थे। 'My Experiments with Truth' में उन्होंने कहा था: ``स्वस्थ और सार्थक गणतन्त्र का संचालन केन्द्र में बैठे 20 लोगों द्वारा नहीं हो सकता। इसका शुभारम्भ तो जमीनी अर्थात् गांव में रहने वालों से ही होना चाहिए ´´ xxx `` ग्रामीण स्वराज्य ही अपने आप में पूर्ण गणतन्त्र है। न्यायपालिका, कार्यपालिका और विधायिका इन तीनों का सम्मिलित अधिकार ग्राम वासियों को होना चाहिए। ´´ इस कृशकाय महापुरुष ने अपना सारा जीवन राष्ट्र के 70% ग्रामीणों के लिए न्योछावर कर दिया ताकि वे एक सुखी जिन्दगी बसर कर सकें।
और एक ऐसे ही दम्पति, जो पिछले 42 वर्षों से कनाडा में रह रहा है, ने भी, जिसे अपने राष्ट्र के गांव की माटी की गन्ध से आज भी लगाव है, भारत के ग्रामीणों की दशा सुधारने का बीड़ा उठाया है। श्रीमती सरिता एवं डा. शिव जिन्दल का भारत आने पर `नीति´ परिवार की ओर से हम स्वागत और अभिनन्दन करते हैं। उन्होंने अब तक भा.वि.प. के साथ मिलकर देश के 15 गांवों का नक्शा ही बदल दिया है - शिक्षा, स्वास्थ्य, पेय जल, वरिष्ठ नागरिकों द्वारा जीवन जीने की तमन्ना-सभी बिन्दुओं पर अहिर्निश उस दम्पति की नज़र है।

नवम्बर मास में चाहे राष्ट्र महापुरुषों की जयन्ती मनाए या पुण्यतिथि, उनको आदर पूर्वक स्मरण करने के साथ उनके आदर्शों का अनुपालन भी हमारा कर्त्तव्य बन जाता है। धार्मिक अनुष्ठान हों या क्षात्र धर्म का परिचय, बालकों की बात हो या वैज्ञानिकों की चर्चा, शिक्षा का क्षेत्र हो या स्वाधीनता आन्दोलन का खुमार सभी प्रकार की क्रियायें भारतीय जन मानस के मनस्पटल पर अंकित रहतीं हैं।

दीपावली तो ऐसा प्रकाश पर्व है जिसका सन्देश है `तमसो मा ज्योतिर्गमय´। महादेवी वर्मा ने ठीक ही कहा था-
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल। प्रियतम का पथ आलोकित कर।।

आत्मा का प्रियतम परमात्मा ही है। जिसे खोजने/जानने के लिए ज्ञान रूपी दीपक की आवश्यकता होती है। एकाकी व्यक्ति भी अपने सूने पन को छोड़ने के लिए वाञ्छा करता है-
 मैं दीप अकेला स्नेह भरा, मुझको भी पंक्ति को दे दो।

जिससे कि वह भी दीपों की पंक्ति-दीप अवली बन जाए। गोवर्धन की परिक्रमा हिन्दुओं के लिए विशेष महत्व रखती है। ठीक भी है, श्रीकृष्ण ने जनता-जनार्दन की रक्षार्थ ही तो उसे उठाया था। भारतीय संस्कृति में एक पवित्र रिश्ता है भाई-बहिन का। भाई-दूज पर इस रिश्ते की गरिमा को बनाए रखना चाहिए। बच्चों को अपने माथे पर तिलक लगवाने का बड़ा चाव होता है।

बच्चों की बात हो और उनके `चाचा´ नेहरु न याद आएं यह कैसे हो सकता है। प्रथम प्रधान मन्त्री ने राष्ट्र को बहुत कुछ दिया था। उनके जन्म दिवस पर हमें कर्त्तव्यनिष्ठ रहने की शपथ लेनी चाहिए। महात्मा हंसराज ने शिक्षा के क्षेत्र में और विनोबा भावे ने ग्रामोत्थान की दिशा में जो श्लानीय कार्य किए समाज उन्हें नमन् करता है। `अंग्रेजी हुकूमत द्वारा चलाई गई प्रत्येक लाठी उनके ताबूत में कील का काम करेगी´ ऐसी घोषणा करने वाले भारत के वीर सपूत लाला लाजपत राय को स्वाधीनता संग्राम के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में अंकित किया जाता है। गोरी सरकार की क्रूरता की अति हो गई थी। ऐसे ही एक वीर सेनानी योद्धा थे तेग बहादुर। जिन्होंने अपनी ही सन्तति को `धर्म की रक्षा´ के लिए दीवारों में चिन्वा दिया हो, सिक्खों के ऐसे नवें गुरु को हमारा सश्रद्ध नमन्। क्या उन जैसी कोई और मिसाल आपको मिल सकती है। भारत-भू ने वीरों और वीरांगनाओं को सदा जन्म दिया है। वस्तुत: मुगल और अंग्रेजी शासकों के बर्बरतापूर्ण अत्याचारों का सामना करने और अपनी `पत´ रखने के लिए ईश्वर ने शायद ऐसी ही हस्तियों को अवतरित किया था। `खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी।´ आज भी इस गीत को गुनगुनाते हुए रोंगटे खड़े हो जाते हैं।

सिक्खों के प्रथम गुरु नानक ने तो इस भव सागर को तैरने का एक मन्त्र ही मानों दे दिया हो-(प्रभु) नाम स्मरण। `नानक नाम जहाज है चढ़े सो उतरे पार´। अपनी `बाणी´ के माध्यम से सांसारिकों को जितनी आत्मीयता से उन्होंने सीख दी उसकी सानी नहीं।
महर्षि दयानन्द, भाई परमानन्द, प्रो. इन्द्र विद्या वाचस्पति और पं. प्रकाश वीर शास्त्री आर्य समाज की ऐसी विभूतियां रही हैं जिन्होंने ऋत´ और `सत्य´ के अन्तर को बताने का प्रयास किया। महर्षि दयानन्द पहले राष्ट्र पुरुष थे जिन्होंने भारत वासियों को पूर्ण स्वतन्त्रता के लिए प्रेरित किया। उन्होंने कहा था `कोई कितना भी करे परन्तु जो स्वदेशीय राज्य होता है वह सर्वोपरि उत्तम होता है।´ इन्होंने मानव समाज के कल्याण के लिए `वेदों की ओर लौटने´ (Back to the Vedas) का उद्घोष दिया।

पर्यावरण और वनस्पति शास्त्र के सम्बन्ध में बोस रिसर्च इन्स्टिट्यूट, कोलकाता के संस्थापक जगदीश चन्द्र बसु को भी उनकी पुण्यतिथि पर हम श्रद्धा सुमन अर्पित करते हैं।

इन सभी महान् आत्माओं ने किसी न किसी रूप में अपनी धरती मां की सेवा की है। वेद मन्त्र भी यही कहता है-`उपसर्प मातरं भूमि´ ऋग्वेद (10.18.10) अर्थात् मातृ भूमि की सेवा करो क्योंकि `माता भूमि पुत्रोअहं पृथिव्यां´ (अथर्व.) भूमि मेरी मां है और मैं पृथ्वी का पुत्र। बस पुत्र के नाते ही कनाडा का जिन्दल दम्पति भी अपनी कर्त्तव्य निष्ठा का परिचय देने भारत आ रहा है।

अस्तु! यदि `राष्ट्रदेवो भव´ का सच्चे अर्थों में हम अनुपालन करना चाहते हैं तो वेद की एक और ऋचा को उद्घृत करना चाहूंगा-`वयं राष्ट्रे जागृयाम पुरोहित: (यजुर्वेद-9/23) अर्थात् हम बड़ी सावधानी से राष्ट्र का संचालन करने वाले नेता चुनें और साथ ही अपने कर्त्तव्य का पालन करें।



December, 2010


अहर्निशं सेवामहे

These two Sanskrit words have a deep meaning: we serve the humanity day in and day out. And lsok is the 4th maxim of the Parishad.

In this context I am penning down a brief of our visit to Leh – Ladakh for the knowledge of readers / members to assure them that the Parishad never lags behind when there is a clarion call for help from all the four corners of the country whenever there are National Calamities.

I, along with Shri Yash Paul Gupta, National Secy. Gram Basti Vikas, left Delhi by Air for Leh on 11th Oct. 2010. On our arrival at the Airport at 7-45 AM we were received by Shri Munish and Shri Tashi. We were advised to take rest for a couple of hours at Hotel Laserno.

At 3 pm we went to meet CEO at Civil Hospital. During the course of our discussion he wanted the Parishad to set up a Dispensary at Leh for the benefit of its people. Later it was decided to open a BVP Branch at Leh and take steps for the construction of Egoo School.

On 12th Oct we stepped out for Egoo School alongwith Dr. Anil and Dy. CEO. On our way we saw many damaged buildings and the school also that was shown in the film ‘3 Idiots’. Sindhu Darshan Palace also bore the brunt of nature. This is the same palace from where Sindhu Darshan was started by the Central Govt. under the leadership of ex. Prime Minister AB Vajpayee.

On reaching Egoo School we had a meeting with the Principal and Staff. Since the BVP offered to construct some rooms and a multipurpose hall, the necessary Bhoomi Pujan was performed by the LAMA. We handed over 10 Tables, 10 Chairs, 3 Tat Bundles, blackboard, warm undergarments for students, teachers and local residents. This gesture was highly appreciated.

Thereafter we visited two villages where seven houses were being constructed. Here we handed over a cheque for Rs. 2 Lacs and relief material i.e. blankets, cloth, solar lights etc. etc.

Now it was the turn of shopkeepers whose shops were damaged. An assistance  ranging  from  Rs. 8000/-  to  Rs. 20,000/- per shop was given to them by cheque.

At 8 pm installation ceremony of a new branch of BVP at Leh was arranged attended by 15 members and some invitees. Lapel pins and BVP literature was given to members. National Secretary General apprised them about the Sanskar and Sewa activities of BVP. Three Office Bearers were nominated to run the branch.

On 13th we met the DM and discussed about relief work. We visited Solar colony where 16 marla land was allotted by the Govt. to a Society at Ladakh to start a Hospital.

Bhartiya Vidya Niketan School and Hall of Fame were other important places that we visited in our last leg of journey.

Much is needed to be done for our brethren of that area. BVP is committed for that venture.

Donations may be sent to BVP H.Qs at Delhi. Relief u/s 80 G is allowed.

                                                                          -                                             S.K.Wadhwa, National Secretary General 

 
 
 

                                                                                                                                         top         Home 

 

Copyright©  Bharat Vikas Parishad . All Rights Reserved