Photo Gallery

   States / Prants

   Miscellaneous

 Discussion Forum

 Finance

 Feedback 

 

 

 



Be a partner in development of the Nation

Bharat Vikas Parishad is striving for the development of the Nation. You can also participate in this effort  by (a) becoming a member of Bharat Vikas Parishad, (b) enrolling yourself as a “Vikas Ratna” or “Vikas Mitra”  and (c)  donating for various sewa &  sanskar projects.

Donations to Bharat Vikas Parishad are eligible for income tax exemption under section 80-G of Income Tax Act. Donations may kindly be sent by cheque / demand draft in favour of Bharat Vikas Parishad, Bharat Vikas Bhawan, BD Block, Behind Power House, Pitampura, Delhi-110034.


 
 

.
 

 

    

The Project   

Project Guidelines  

News from the States    

हिन्दी

प्रतियोगिता मार्गदर्शिक

प्रान्तों से समाचार

35वीं अखिल भारतीय राष्ट्रीय समूहगान प्रतियोगिता: 28-29 नवम्बर, 2009

28-29 नवम्बर, 2009 को 35वीं अखिल भारतीय राष्ट्रीय समूहगान प्रतियोगिता का आयोजन आन्ध्र प्रदेश  के विशाखापट्टनम नगर में (आन्ध्र प्रदेश उत्तर-पूर्व) द्वारा किया गया।

प्रतियोगिता की पूर्व संध्या पर एक प्रेस वार्ता आयोजित की गई जिसे राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष ईश्वर दत्त ओझा एवं राष्ट्रीय महामंत्री वीरेन्द्र सभरवाल ने सम्बोधित किया। प्रेस वार्ता में भारत विकास परिषद् का इतिहास, उद्देश्य एवं राष्ट्रीय समूहगान प्रतियोगिता के महत्व को बताया गया।

28 नवम्बर को यह प्रतियोगिता कलावाणी ऑडिटोरियम में प्रारम्भ हुई। हिन्दी गीतों में 42 टीमों ने तथा क्षेत्रीय में 33 टीमों ने भाग लिया। प्रतियोगिता का उद्घाटन विशाखापट्टनम पोर्ट ट्रस्ट के चेयरमैन अजय कलाम, आई. ए.एस. ने किया। प्रतियोगिता प्रात: 10 बजे से रात्रि 9 बजे तक चली। प्रतियोगी टीमों में से एक टीम देहरादून के अन्ध विद्यालय की टीम थी। जिसके सभी सदस्य दृष्टिहीन थे।
 

   
कार्यक्रम के अन्त में विजेता टीमों को पुरस्कार एवं स्मृति चिन्ह दिये गये। कार्यक्रम को सफल बनाने में सर्वश्री एस.पी.अग्रवाल वाइस चेयरमैन, विनीत गर्ग राष्ट्रीय मंत्री, डी. सत्यनारायण कार्यक्रम चेयरमैन, एस.एन.कन्छल क्षेत्रीय चेयरमैन, कासी वी. राव, क्षेत्राय सचिव तथा प्रान्तीय एवं विशाखापट्टनम शाखा के पदाधिकारियों ने अथक परिश्रम किया।
       
   

(Click on the pictures to view the larger image)

परिणाम निम्न प्रकार हैं -

NATIONAL SONG HINDI (NS)
Position           State Name of the Institution Song
I Tamilnadu & Pondicherry Sri Vishwa Vidyalaya Matriculation Hr. Sec. School  panu gS bl ns'k dh ekVh
II Haryana South D.A.V. Public School, Sector - 37, Faridabad  viuh ?kjrh viuk vacj
III Chhattisgarh D.P.S., Raipur, Chhattisgarh  fo'o esa xwats gekjh Hkkjrh
IV Rajasthan South Central Academy Sr. Sec. School, Sardarpura, Udaipur (Rajasthan)  fQj vkt Hkqtk,a
V Jammu & Kashmir The Heritage School, Sainik Colony, Jammu - 180015  xhr [kq'kh ds xquxqukrs
         
REGIONAL SONG (RS)
Position          State Name of the Institution Language
I Delhi South Laxman Public School, Hauzkhas, New Delhi  Bengali
II Punjab East Scholars Public School, Rajpura, Distt. Patiala  Punjabi
III Rajasthan Central Bal Mandir Sr. Sec. School, Beawar  Rajasthani
IV Andhra Pradesh (North & East) Sri Prakash Vidya Niketan School  Telugu
V Braj Pradesh St. Andrews Sr. Sec. School, Agra  Rajasthani
 
Click here for names of the institutions from various Prants whose students competed at the National level and the scores obtained by them.
34वीं राष्ट्रीय समूहगान प्रतियोगिता: 15-16 नवम्बर, 2008 भुवनेश्वर (उड़ीसा)
34वीं राष्ट्रीय समूहगान प्रतियोगिता के आयोजन को भुवनेश्वर की धरती हमेशा याद रखेगी। कश्मीर से कन्याकुमारी और गुजरात से असम तक के युवाओं का यह अद्भूत संगम भगवान जगन्नाथ की धरती उड़ीसा के लिए अनोखा था तो उन युवाओं के लिए कोणार्क, पुरी, भुवनेश्वर जैसे ऐतिहासिक स्थलों को देखना प्रेरणादायी रहा।

स्थानीय कार्यकर्ताओं की अथक मेहनत और लगन से आयोजन यादगार तरीके से सम्पन्न हुआ। आयोजन में 42 टीमों ने भाग लिया। सुदूर तमिलनाडु से लेकर जम्मू कश्मीर और गुजरात से लेकर असम से आई टीमों के कारण एक ही स्थान पर लघु भारत का दर्शन हुआ तो प्रतियोगिता का रोमांच और अधिक बढ़ गया।

कार्यक्रम के उद्घाटन समारोह में बालकों को भारत विकास परिषद् के राष्ट्रीय अध्यक्ष आर.पी. शर्मा, राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष आई.डी.ओझा तथा समापन समारोह में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष आर.एस.श्रीवास्तव का मार्ग दर्शन मिला। अनेक राष्ट्रीय, क्षेत्रीय, प्रान्तीय पदाधिकारी पूरे समय उपस्थित रहे। पूरे देश से आई टीमों का संगम, देशभक्ति के गूंजते स्वर और शानदार आयोजन इन सभी ने मिलकर कार्यक्रम को यादगार बना दिया।

राष्ट्रीय गीतों का यह महाकुम्भ केवल एक प्रतियोगिता भर न होकर एक ऐसा सूत्र है जो बालकों को राष्ट्रीय भावना से बाँधता है। देशभर के बालक  एक  दूसरे से मिलते हैं-एक दूसरे की संस्कृतियों को जानते हैं, छोटे-छोटे मानबिन्दु उन्हें प्रोत्साहित करते हैं अपने इस राष्ट्र पर गर्व करने के लिए। भारत विकास परिषद् के कार्यकर्ताओं के समर्पण और सहयोग के कारण यह बीज अब वृक्ष बन चुका है, आवश्यकता है कि हम इसे ऐसे ही सींचते रहें, संवारते रहें।

 

                                                                                                                                         top         Home 

 

Copyright©  Bharat Vikas Parishad . All Rights Reserved