Photo Gallery

 Audio Gallery

   States / Prants

 Branch PSTs

  Finance

 Some Useful Articles

   BVP in the News

   States' Publications

 News from the Branches

 Feedback 
 Website Contents 

 

 

 



Be a partner in development of the Nation

Bharat Vikas Parishad is striving for the development of the Nation. You can also participate in this effort  by (a) becoming a member of Bharat Vikas Parishad, (b) enrolling yourself as a “Vikas Ratna” or “Vikas Mitra”  and (c)  donating for various sewa &  sanskar projects.

Donations to Bharat Vikas Parishad are eligible for income tax exemption under section 80-G of Income Tax Act. Donations may kindly be sent by cheque / demand draft in favour of Bharat Vikas Parishad, Bharat Vikas Bhawan, BD Block, Behind Power House, Pitampura, Delhi-110034.


 
 

.
 

 

Niti नीति:

BVP in the News

Utkrishtata Samman: 2011

During 2012-13
 

NGB Meeting (March, 2013)
Guwahati (Assam) : The gateway to the North - East States of India was fortunate enough to have been entrusted with the uphill task of holding National Governing Board Meeting of the Parishad for 2 days viz 2nd & 3rd February 2013 after 22 years which task they completed with the minutest details (in every context) much to the delight of 185 delegates from all over the country. The event, spread over 5 sessions, was organized in the spacious Don - Bosco Institute.

   
   
   

(Click on the pictures for the larger image)

Inaugural Session, held in the open auditorium, proved to be a landmark when his Holiness Dr. Pitamber Dev Goswami, Auniati Sattradhikar (Pithadhipati), wearing a white robe, blessed one and all by addressing the gathering in Sanskrit which was practically understandable.

The Chief Guest, a Gandhian philosopher, Padmashri Natwar Bhai Thakkar said that the main achievement of India is sustaining of Democracy. Voluntary organisations have a great role to play. He referred to Karl Marx and Gandhi and emphasised that let us get rid of violence. Gautam Buddha, Lord Mahavir and Martin Luther King also advocated about non violence. State power has to be gradually reduced, he remarked. It was indeed a thought provoking discourse.

Presiding over this session Justice (Retd.) V.S. Kokje said, in no unambiguous terms, that Sanskrit still is considered a living language. Assam state has played a special role since the times of Mahabharat. Let us, therefore, rededicate ourselves with new ideas for the upliftment of the down trodden, a main project for which BVP is known for. Minutes of NGB meeting held at Pune on 4th - 5th Feb. 2012 were read and got approved by National Secretary General S.K.Wadhwa. Dr. (Smt.) Shanno Rani (working in the field of manufacturing artificial eyes) and Shri Dipok K. Barthakur (on his 75th B’day), Vikas Ratna O.P. Kanungo, Dr. Vasudev Bansal ( Eye Surgeon) and others were felicitated.

In this last session Organisational matters, Audit and A/cs, Corpus Fund and reporting procedure were discussed in two different groups.

In the 2nd session after introduction of the participants, Dr. K.L. Gupta, National Finance Secretary presented audited A/cs of Central Share for the year 2011-12 & 2012-13. After tea break Shri Bhagaiya ji spoke at length about the life and teachings of Swami Vivekanand, the icon of BVP, whose 150th birth anniversary was being celebrated throughout the year by our branches. The address was lucid and highly informative.

Assamees cultural heritage was exhibited on the stage, through Dance & Music in the evening which was admired by one and all.

On 3rd Feb. in the 3rd session minute of the Apex Body Meeting held during 2012-13 were got approved. Convenors of both the groups reported their findings followed by discussion on National Projects.

An Important decision was taken by the house to raise the Central Share from Rs. 150/- to Rs. 200/- w.e.f. April 2013. Secondly, celebrations of Swami Vivekananda ji B’day will continue till January 2014.

In the concluding session National Vice President Dipok Kumar Barthakur elucidated on the concept of Sewa, the backbone of any society. National Working President, Prof. S.P. Tiwari summed up the entire proceedings of two days meet. Justice Kokje again reminded the entire BVP fraternity to work in unison for the overall development of society through our various projects.

After Felicitations and vote of thanks the entire meet ended with the singing of National Anthem. As a gesture of goodwill all the delegates were given gifts including Souvenir and taken to famous Kamakhya Temple for Devi’s Darshan. An unforgettable journey, indeed, to Assam.

   
   
   

(Click on the pictures for the larger image)


Central and Prant Share w.e.f. 1st April 2013
It has been decided in the meeting of National Governing Board held at Guwahati on 2nd and 3rd February, 2013 that with effect from 1st April 2013, the Central and Prant share will be Rs.200/- each instead of Rs.150/- each member at present.

The amount of Central and Prant share will be same throughout the year. However, the amount of Central and Prant share paid by members of new branches opened during January to March in any year from 2014 and onward will cover the succeeding one whole year also. Thus, members of new branches opened during January to March in any year from 2014 and onward will have to pay nothing separately for this period in the year of formation, but the amount of Central and Prant share paid by them will be valid upto the end of next year.

 National Secretary General
(Niti: Mar., 2013)


Zonal Conferences 2012-13
During the year, following zonal conferences were organised:
  • ZONE - I  - 9.12.2012 - Faridkot - Punjab South
  • ZONE - II - 16.12.2012 - Kaithal - Haryana North
  • ZONE - III - 23.12.2012 - Delhi - Delhi North
  • ZONES - IV, V and VI - 22-23.12.2012 - Firozabad - Braj Pradesh
  • ZONE -VII, VIII & IX - 30.12.2012 -  Kolkata - West Bengal 
  • ZONE - X  - 15-16.12.2012 - Khatushyam ji - Raj. North East
  • ZONE - XI -23-24.12.2012 - Udaipur - Rajasthan South
  • ZONE - XII - 22-23.12.2012 - Katni - Mahakaushal
  • ZONE -XV - 30.12.2012 -  Vijayawada - Andhra Pradesh East 

ZONE - I
क्षेत्र-1
का 6वां क्षेत्रीय अधिवेशन ‘विरासत’ पंजाब दक्षिण प्रान्त द्वारा फरीदकोट शाखा के आतिथ्य में आयोजित किया गया। अधिवेशन में मुख्य मेहमान पार्लियामेन्ट सचिव (पंजाब सरकार) मनतार सिंह बराड़ व स्थानीय विधायक दीप मल्होत्रा रहे। एक दिवसीय (09.12.2012) अधिवेशन में पंजाब दक्षिण, पंजाब उत्तर, पंजाब पूर्व, हिमाचल प्रदेश-1 व 2, जम्मू-कश्मीर के 595 प्रतिनिधि शामिल हुए। संयोजक राष्ट्रीय सचिव प्रिंसिपल सेवा सिंह चावला थे।

प्रथम सत्र में रा॰ अध्यक्ष न्यायमूर्ति वी.एस. कोकजे ने मार्गदर्शन किया एवं रा॰ वित्त मंत्री डॉ॰ कन्हैया लाल गुप्ता ने सदस्यों को परिषद् की कार्यप्रणाली से अवगत कराया। द्वितीय सत्र में रा॰ का॰ अध्यक्ष प्रो॰ सत्यप्रकाश तिवारी व रा॰ महामंत्री सुरेन्द्र कुमार वधवा ने परिषद् के उद्देश्यों व मर्यादित एवं समर्पित सदस्य कैसे होते है, सम्बंधी जानकारी दी।

तीसरे सत्र के मुख्य वक्ता चन्द्रशेखर तलवार (Retd. IAS) ने स्वामी विवेकानन्द के जीवन प्रसंगों से परिषद् की विचारधारा व उनका अनुसरण करने के लिए मंत्रमुग्ध विचारों द्वारा प्रेरित किया। डॉ॰ अनिल कालिया (कान्फ्रेन्स चेयरमैन) एवं श्री राकेश सहगल ने अधिवेशन के इस सत्र में सार्थक योगदान दिया। इस अवसर पर प्रान्तीय अधिकारियों एवं सदस्यों के विकास रत्न बनने पर उन्हें राष्ट्रीय अधिकारियों द्वारा सम्मानित किया गया। नेशनल सैक्रेटरी प्रिंसिपल सेवा सिंह चावला, अधिवेशन संयोजक ने आभार व्यक्त किया।

ZONE - II
क्षेत्र-2 का क्षेत्रीय अधिवेशन 16 दिसम्बर को हरियाणा उत्तर की कैथल शाखा द्वारा अरजन गार्डन्ज (नर्सरी) जीन्द रोड, पर आयोजित किया गया। यह अधिवेशन युग पुरुष स्वामी विवेकानन्द जी को उनकी 150वीं जयन्ती पर समर्पित था। अधिवेशन की अध्यक्षता राष्ट्रीय अध्यक्ष न्यायमूर्ति विष्णु सदाशिव कोकजे जी ने की। मुख्य वक्ता के रूप में राष्ट्रीय महामंत्री श्री सुरेन्द्र कुमार वधवा उपस्थित रहे। राष्ट्रीय वित्त मंत्री डॉ॰ के॰एल॰ गुप्ता, राष्ट्रीय संयुक्त संगठन महामंत्री श्री ललित महाजन, राष्ट्रीय मंत्री विस्तार श्री अजय दत्ता की गरिमामयी उपस्थिति रही। चण्डीगढ़ के उद्योगपति श्री त्रिलोकीनाथ गोयल मुख्य अतिथि व गुड़गांव से पधारे कैथल इंजीनियरिंग कॉलेज (एच॰सी॰टी॰एम॰) के एम॰डी॰ श्री जी॰के॰ सेठी विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित रहे।

क्षेत्रीय संरक्षक श्री फकीरचन्द अग्रवाल, क्षेत्रीय चेयरमैन श्री सी॰पी॰ आहूजा, क्षेत्रीय महामंत्री श्री के॰एल॰ चावला के अतिरिक्त क्षेत्र व तीनों प्रान्तों के अधिकांश पदाधिकारी भी उपस्थित थे। क्षेत्र-2 से केन्द्र में मनोनीत अनेक केन्द्रीय पदाधिकारियों की उपस्थिति भी उल्लेखनीय रही। 755 प्रतिनिधियों ने अधिवेशन में भाग लिया। अनेक ग्रामीण शाखाओं के प्रतिनिधि भी बड़ी संख्या में उपस्थित रहे। इसके अतिरिक्त 150 बच्चों व अतिथियों सहित कुल उपस्थिति 900 से भी अधिक रही। इन के अतिरिक्त 3 शाखाओं ढाण्ड, कलायत, बरसत (हरियाणा उत्तर) के प्रतिनिधियों ने भी अतिथि के रूप में अधिवेशन में भाग लिया। ढाण्ड (जिला कैथल) की ग्रामीण शाखा की तो विधिवत् स्थापना भी हो चुकी है। कैथल शाखा द्वारा 172 पृष्ठ की एक बहुरंगी स्मारिक का भी विमोचन मंचासीन अधिकारियों द्वारा किया गया।

ZONE - III
Zonal Conference of zone-III (Delhi) organized by Delhi North was held on 23rd Dec-2012 at Hindi Bhavan, near ITO, New Delhi.

Shri Mahesh Chandra Sharma, Patron, explained the aims and objects of the conference. Shri. S.S. Jain, National Vice President advised the members to make Viklang Sahayta Kendra more popular and beneficial to the masses. Shri. S.K. Wadhwa, National Secretary General while replying to the queries of delegates emphasized on dedication, a need of the day and association of youth in our projects.

Mahamandleshwar Anubhutanand Giri ji Maharaj informed that the ideals and foundation laid by Swami Vivekanand, to make our country free from Backwardness, removal of poverty and paving a way for uliftment of society, strong, educated and spiritually develop country, are true today also.

Shri Madan Malik, Zonal Chairman, applauded the services rendered by all the states of Delhi viz. East, North and South, their branches and individuals through its service and Sanskar projects. He wished them that they will surpass the target assigned to them for the year 2012-13. The members resolved to make Delhi safe, sensitized towards ladies and weaker section of the society and make them more responsible towards law and order situation.

ZONES - IV to VI
क्षेत्र-4,5,6 (उत्तर प्रदेश एवं उत्तराखण्ड) का संयुक्त अन्तर्राज्यीय क्षेत्रीय अधिवेशन ‘स्वर्णिम उत्सव-2012’ बड़े उल्लास एवं उत्साह से 22-23 दिसम्बर को एफ॰एम॰ वाटिका, फिरोजाबाद में आयोजित किया गया, जिसमें 870 प्रतिनिधियों ने भाग लिया। उद्घाटन सत्र में मुख्य अतिथि डॉ॰ मुरली मनोहर जोशी, अध्यक्ष संसदीय लोक लेखा समिति भारत सरकार थे। किड्ज़ कॉर्नर स्कूल के बच्चों द्वारा श्रीराम स्तुति प्रस्तुत की गई। सम्माननीय अतिथियों का स्वागत अधिवेशन चेयरमैन हरिनारायण चतुर्वेदी जी ने किया। परिषद् परिचय रा॰ वित्त मंत्री डॉ॰ के॰एल॰ गुप्ता ने दिया। माननीय मुरली जोशी ने अपने उद्बोधन में कहा कि केन्द्र सरकार आर्थिक संकट का हल्ला मचा रही है, देश में आतंकवाद अपनी जड़ें जमा चुका है। संस्कार हीनता सबसे बड़ा संकट है, इसे दूर करने के लिये हमें संस्कार प्रधान कार्यक्रमों की गति बढ़ानी पड़ेगी। भारत को भारत ही मानना होगा। इंडियन नहीं, भारतीय बनों। हमारा भारतीय पन खत्म हो रहा है। रिश्तों की गर्माहट भी कम हो रही है। हम इण्डिया के नहीं वरन् भारत के संस्कारों को अपनाएँ। संस्कार दूर तक जाते हैं। उन्होंने कहा कि परिषद् को क्लब नहीं बनने देना। सुधार के साथ नयापन लाने का प्रयास करें। इस अवसर पर अधिवेशन की स्मारिका ‘स्वर्णिम उत्सव’ का विमोचन भी किया गया। विशिष्ट अतिथि आगरा के विधायक श्री जगन प्रसाद गर्ग व फिरोजाबाद विधायक मनीष असीजा ने भी अपने विचार व्यक्त किये। मुख्य वक्ता स्वामी यतीन्द्रनन्द गिरि ने अपने आशीर्वचन में परिषद् को स्वामी विवेकानन्द द्वारा प्रतिपादित सिद्धान्तों पर दृढ़ता से चलने की सलाह दी। अध्यक्षता रा॰ उपाध्यक्ष शिवशरण अस्थाना ने की। आभार अधिवेशन समन्वयक संजीव जैन एड्वोकेट एवं संचालन अधिवेशन संयोजक अमित कुमार जैन ने किया।

अधिवेशन के संगठन परिचर्चा सत्र में रा॰ संगठन मंत्री हरीश जिन्दल ने परिषद् के संगठनात्मक ढांचे की जानकारी दी। अध्यक्षीय उद्बोधन में रा॰ महामंत्री श्री एस॰के॰ वधवा ने अधिवेशन आयोजकों की भूरि-भूरि प्रशंसा की। संचालन रा॰संयुक्त संगठन मंत्री संजीव कुमार बंसल ने किया। अध्यक्षता रा॰ संरक्षक श्रीराम शरण श्रीवास्तव ने की। रा॰ वित्तमंत्री डॉ॰ के॰एल॰ गुप्ता एवं रा॰ संयुक्त महामंत्री केशव दत्त गुप्ता ने परिषद् के विभिन्न प्रकल्पों एवं उनके प्रभावी निष्पादन पर अपने विचार व्यक्त किये। संचालन क्षेत्रीय मंत्री आलोक कपूर ने किया।

सांस्कृतिक संध्या का उद्घाटन सांसद एवं अध्यक्ष रा॰ सुरक्षा सलाहकार समिति राज बब्बर के कर कमलों द्वारा किया गया। महिला एवं युवा सहभागिता सत्र की अध्यक्षता रा॰ चेयरपर्सन श्रीमती सावित्री वार्ष्णेय ने की। मुख्य अतिथि हरिद्वार से पधारी माँ पूर्ण पज्ञा एवं मुख्य वक्ता ब्रह्मा कुमारी राजयोगिनी राधा बहिन, (महाराष्ट्र से) थीं। विशिष्ट वक्ताओं में रा॰ मंत्री श्रीमती ऊषा अस्थाना एवं रा॰ संयोजक डा॰ संतोष गुप्ता एवं प्रान्तीय उपाध्यक्ष  डॉ॰ दिव्या लहरी ने अपने विचार व्यक्त किये। संचालन महिला सहभागिता प्रभारी डॉ॰ रश्मि जैन ने किया।

प्रान्तीय रिपोर्टिंग सत्र की अध्यक्षता रा॰ संगठन मंत्री हरीश जिन्दल ने की। मुख्य वक्ता श्री शिवशरण अस्थाना थे। 11 प्रदेशों के महासचिवों द्वारा अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की गईं। क्षेत्रीय दायित्वधारियों द्वारा प्रान्त के दायित्वधारियों का सम्मान किया गया। संचालन रा॰ संयोजक मुकेश जैन ने किया।

समापन सत्र में मुख्य अतिथि एवं मुख्य वक्ता स्वामी विवेकानन्द जी (वृन्दावन) ने मंगल आशीर्वाद दिया। सभी सत्रों की समीक्षा क्षेत्रीय मंत्री सुनील खेड़ा एड्वोकेट एवं क्षे॰ मंत्री अजय बिश्नोई एवं प्रान्तीय उपाध्यक्ष  डॉ॰ दिव्या लहरी ने की। ब्रज प्रदेश ने आयोजन कार्यकर्ताओं का सम्मान किया। रा॰ दायित्वधारियों ने अधिवेशन से जुड़े कार्यकर्ताओं को स्मृति चिह्न भेंट कर सम्मानित किया। इस पुनीत अवसर पर वाराणसी के श्री पंकज पटेल और डिबाई (ब्रज प्रदेश) की अध्यक्षा श्रीमती रजनी सिंह विकास रत्न बने। इन का विधिवत् सम्मान भी किया गया। इस अधिवेशन में 930 प्रतिनिधियों का पंजीयन हुआ।

ZONES - VII, VIII to IX
Inter Zonal conference was hosted by West Bengal Prant in Kolkata at Salt lake Sanskritik Sansad on 30
th December, 2012. More than 100 members from all 9 Prants attended. The Conference was graced by the presence of National Vice-President Shri Dipok Kumar Barthakur & Shri Kalyan Ray & National Secretary General Sh. Surinder Kumar Wadhwa. Chief Guest was a renowned social worker & writer Shri Jugal Kishore Jaithalia. Shri Sachidanand Panda National Addl. Org. Secy. explained the objectives of the conference. Shri Jaithalia emphasized that in today's era when new generation is influenced by western culture, BVP can play a major role in reminding the young mind about value of Indian culture. Sh. S.K. Wadhwa asked the members present to take BVP not only as an organization but as an 'Andolan.' He advised the members to take up special projects which can make a lasting impact on society in the 150th birth anniversary year of Swami Vivekanand & the Golden Jubilee year of the Parishad. Shri Dipok Kumar Barthakur, who had been instrumental in strengthening BVP in West Bengal & East India, remembered Shri P.D. Bhoot, who had now shifted to Delhi. He suggested that persons having strong belief in the Principles of BVP should be taken as members rather than on personal equation.

A Souvenir published by the West Bengal Prant was also released by the chief guest. President Dr. Reeta Bhattacharya acknowledged the overwhelming response of various Prants & informed about design of the conference.

The second session, mainly devoted to Sewa Karya, was chaired by National Vice-President Shri Kalyan Ray. In this session, Chairman of the 3 Zones reported about the status of Parishad in various zones and the activities being taken up.

West Bengal Prant highly appreciated the contribution of National Vice-President Shri Dipok Barthakur and presented him a memento of appreciation on his 75th birthday. Students of Hariyana Vidya Mandir, Kolkata who had topped in the NGSC 2012 at Haridwar, sung both Hindi & Bengali songs.

The 3rd session was devoted to organizational matters & chaired by National Secy. Gen. Sh. S.K. Wadhwa. National Additional Organizing Secretary Sh. S.N. Panda, Shri Nirmalya Bhattacharya, National Secertary Vistar Karya Zone-IX, Shri Gopi Nath Mishra, National Convener Samagra Gram Vikas & Shri G.P. Singh, National Convener Vikas Karya shared their thoughts with members. During Mukta Chintan  Shri Wadhwa & others replied to various queries of members.

During this session, Kolkata South branch was presented growth excellence award for 30% growth in 2011-12 & Kankugachi Branch was bestowed service excellence award for the meritorious service being rendered by them to Viklang as also for eye care by West Bengal Prant. Shivpuri branch was also presented memento for growth excellence by Magadh Bihar Prant. Mementos were also presented to Orissa Prant for the exemplary Vistar Karya.

In the concluding session, Shri Pawan Kumar Jha, Zonal Secretary Zone-VIII summarized the proceedings & Shri Amar Nath Choudhary, Prantiya General Secretary West Bengal offered vote of thanks.   

ZONE- X
क्षेत्र-10
का प्रथम क्षेत्रीय अधिवेशन 15-16 दिसम्बर 2012 को धार्मिक नगरी खाटूश्याम जी (जिला सीकर) में आयोजित हुआ। उद्घाटन सत्र में अधिवेशन चेयरमैन भवानीश रमण ने सभी प्रतिनिधियों का स्वागत कर मुख्य अतिथि पूजनीय स्वामी सम्बित सोमगिरि महाराज पीठाधीश शिव बाड़ी मठ बीकानेर द्वारा स्मारिका का विमोचन करवाया।

अपने आशीर्वचन में सोमगिरि महाराज ने भारतीय संस्कृति पर आई विभिन्न चुनौतियों पर प्रकाश डाला तथा अपने संस्कारों को संजोये रखने का आह्वान किया। अधिवेशन संयोजक श्याम मदान ने धन्यवाद प्रस्तुत किया। सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया, जिसमें प्रसिद्ध कलाकारों ने भगवान गणेश वन्दना, भगवान कृष्ण की झांकी, विभिन्न लोक नृत्य तथा लोक गीत प्रस्तुत किए। 16.12.2012 को प्रथम सत्र ‘स्वामी विवेकानन्द हमारे प्रेरणा पुरुष’ पर रखा गया। प्रसिद्ध साहित्यकार नरेन्द्र कोहली मुख्य अतिथि थे तथा प्रो॰ सत्यप्रकाश तिवारी राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष ने सत्र की अध्यक्षता की।

प्रो॰ पी॰एल॰ चतुर्वेदी विशिष्ट अतिथि ने श्री नरेन्द्र कोहली का परिचय देते हुए उनके द्वारा रचित अनेक पुस्तकों एवं उपन्यासों पर चर्चा की। श्री सत्यव्रत सामवेदी विशिष्ट अतिथि ने वेदों में गाय के महत्व का उल्लेख किया। श्री नरेन्द्र कोहली ने अपने आख्यान में स्वामी विवेकानन्द जी के जीवन के विभिन्न पहलुओं पर प्रस्तुति दी। प्रो॰ सत्यप्रकाश तिवारी जी ने कहा कि भाविप संस्कृति को पोषक करने के लिए कार्य कर रहा है। हमारी संस्कृति की वैज्ञानिकता आज के वैज्ञानिक भी स्वीकार करने लगं हैं। भारत के युवा वर्ग को अपने गौरवशाली अतीत को याद कर तथा उससे प्रेरणा लेकर आगे बढ़ना पड़ेगा तभी हम पुनः विश्व गुरु के रूप में स्थापित हो सकेंगे।

द्वितीय सत्र में संगठन पर चर्चा एवं प्रान्तों की रिपोर्टिंग ली गई। संगठन मंत्री श्री हरीश जिन्दल ने संगठन की विभिन्न गतिविधियों पर चर्चा की तथा विस्तार में वृद्धि वाले प्रान्तों के लिए शुभकामनाएँ अर्पित कीं। इस अवसर पर भाविप की 50 वर्ष की यात्रा एक स्लाईड द्वारा प्रस्तुत की गई। अन्तिम सत्र सम्मान समारोह में प्रो॰ तिवारी एवं श्री हरीश जिन्दल ने पुरस्कार वितरण किए।

1. 15% वृद्धि वाले दो प्रान्तों, राजस्थान उत्तर एवं राजस्थान दक्षिण पूर्व, को केन्द्र द्वारा सम्मानित किया गया। 2. सर्वश्रेष्ठ प्रान्त राजस्थान दक्षिण पूर्व को क्षेत्र द्वारा सम्मानित किया गया। 3. चारों प्रान्तों को विभिन्न श्रेष्ठ प्रकल्पों एवं विज्ञापन भेजने के लिए सम्मानित किया गया। 4. अधिकतम सहभागिता के लिए राजस्थान पूर्व प्रान्त तथा अधिकतम शाखा सहभागिता के लिए बाड़ी (धौलपुर) को सम्मानित किया गया। 5. क्षेत्र में 20% से अधिक वृद्धि वाली शाखाओं का भी सम्मान किया गया। 6. इस अवसर पर केन्द्र सरकार द्वारा राजस्थान में एक मात्र आयुर्वेद के चिकित्सा गुरु पं॰ जगदीश प्रसाद शर्मा को शॉल एवं स्मृति चिह्न द्वारा राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष द्वारा सम्मानित किया गया। 7. दान दाताओं में सर्वश्री हुकम चन्द तोदी, प्रदीप शर्मा एवं अशोक सक्सेना को शॉल एवं स्मृति चिह्न द्वारा सम्मानित किया गया। केन्द्र की ओर से अधिवेशन चेयरमैन एवं संयोजक को प्रो॰ सत्यप्रकाश तिवारी एवं हरीश जिन्दल जी ने शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया।

अधिवेशन में सदस्यों एवं अतिथियों की उपस्थिति संख्या 550 रही। अधिवेशन में स्वामी विवेकानन्द जी के साहित्य पर प्रदर्शनी एवं बिक्री स्टॉल भी लगाया गया।

ZONE- XI
क्षेत्र-11 का क्षेत्रीय अधिवेशन ‘‘संस्कार संगम’’ राजस्थान दक्षिण प्रान्त द्वारा 23 व 24 दिसम्बर 2012 को उदयपुर में आयोजित गरिमामयी एवं विशिष्ट उपलब्धियों के साथ सम्पन्न हुआ। सम्मेलन के अन्तर्गत उद्घाटन सत्र के अतिरिक्त पाँच सत्र आयोजित किये गये।

1. उद्घाटन सत्र के मुख्य अतिथि राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष प्रो. एस.पी. तिवारी थे। अध्यक्षता क्षेत्रीय संरक्षक श्री श्यामलाल कुमावत ने की। विशिष्ट अतिथि राष्ट्रीय वित्त मंत्री डॉ॰ के.एल. गुप्ता सहित केन्द्रीय व क्षेत्रीय दायित्वधारी थे। स्वागत उद्बोधन राष्ट्रीय चेयरपर्सन डॉ॰ अजीत गुप्ता तथा क्षेत्रीय अध्यक्ष श्री शांतिलाल पानगड़िया ने दिया। क्षेत्रीय कार्ययोजना विवरण तथा प्रतिवेदन क्षेत्रीय महामंत्री श्री अनिल चोर्डिया ने प्रस्तुत किया। संचालन प्रान्तीय महासचिव डॉ॰ जयराज आचार्य ने तथा आभार प्रान्तीय अध्यक्ष श्री मोहन लाल सूत्रधार ने ज्ञापित किया।

2. चिन्तन सत्र में ‘सामाजिक समरसता और स्वामी विवेकानन्द’ विषय पर पूर्व सांसद एवं विचारक श्री महेश शर्मा ने मुख्य अतिथि के रूप में अत्यंत ही विश्लेषणात्मक एवं विचारोत्तेजक वक्तव्य दिया।

3. परिचय सत्र के अन्तर्गत क्षेत्र-11 के तीनों प्रान्तों (राजस्थान मध्य, राजस्थान पश्चिम तथा राजस्थान दक्षिण) के कार्यों का प्रान्तीय प्रगति प्रतिवेदन महासचिवों द्वारा प्रस्तुत किया गया। राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष एवं राष्ट्रीय वित्त मंत्री ने सेवा व संस्कार कार्यों को वस्तुतः उपादेय बताया। सत्रा संचालन श्री अनिल चोर्डिया ने किया।

4. सेवा प्रकल्प सत्र का संचालन राष्ट्रीय दायित्वधारी श्री मालचन्द गर्ग ने किया। विषय प्रतिपादन के पश्चात् प्रमुख वक्त्ता राष्ट्रीय वित्त मंत्री डॉ॰ के.एल. गुप्ता ने सेवा सम्बन्धित विशिष्ट प्रकल्पों की भूमिका, क्रियान्वयन, प्रभाव एवं इसकी महत्ता पर प्रकाश डाला।

5. संस्कार सत्र की अध्यक्षता पेसिफिक विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. बी.पी. शर्मा ने की तथा मुख्य अतिथि क्षेत्रीय बौद्धिक प्रमुख श्री कैलाश जी ने युवाओं का पलायन रोकने में ‘भारतीय संस्कारों की आवश्यकता’ पर उपयोगी वार्ता दी। संचालक  डॉ॰ युधिष्ठिर त्रिवेदी के विषय प्रवर्तन के पश्चात् माननीय कैलाश जी का ‘संस्कार’ विषय पर स्वामी विवेकानन्द जी के परिप्रेक्ष्य में मार्गदर्शन एवं विचार अत्यन्त ही प्रभावी रहे। प्रो. बी.पी. शर्मा का आशीर्वचन भी संस्कारों के परिप्रेक्ष्य में वर्तमान स्थितियों को परिलक्षित करने वाला रहा। इसी दिन रात्रि को भाविप के परिवारजनों द्वारा प्रस्तुत मनमोहक सांस्कृतिक कार्यक्रम ने समस्त दर्शकों को बांधे रखा।

24 दिसम्बर 2012 को यह सम्मेलन संगठन सत्रा के रूप में प्रारम्भ हुआ जिसमें प्रश्नोत्तर, शंका समाधान एवं व्यावहारिक सुझाव समाहित थे। अध्यक्षता कार्यकारी अध्यक्ष प्रो. एस.पी. तिवारी ने की। विशिष्ट अतिथि राष्ट्रीय वित्त मंत्री डॉ॰ के. एल. गुप्ता थे। मुख्य अतिथि एवं प्रमुख वक्त्ता श्री पी.के जैन राष्ट्रीय संयुक्त संगठन महामंत्री ने संगठनात्मक गतिविधियों की गुणवत्ता बढ़ाने हेतु महत्वपूर्ण सुझाव दिये ।

समापन सत्र भीनमाल (जालौर) से पधारे आचार्य अग्निव्रत नेष्टिक जी के मुख्य आतिथ्य में सम्पन्न हुआ। वेद विज्ञान पर आधारित आचार्य श्री का उद्बोधन अत्यन्त ही ज्ञानप्रद रहा। प्रान्त व शाखाओं के श्रेष्ठ कार्यकर्ताओं का सम्मान भी किया गया। संचालन क्षेत्रीय महामंत्री अनिल चोर्डिया एवं प्रां॰ महासचिव डॉ॰ जयराज आचार्य ने किया। केन्द्र की ओर से डॉ॰ के॰एल॰ गुप्ता तथा प्रो॰ एस॰पी॰ तिवारी द्वारा आभार व्यक्त किया गया। सम्मेलन के आयोजक सचिव डॉ॰ जयराज आचार्य ने भी अन्त में सभी का आभार ज्ञापित किया।

ZONES - XII
क्षेत्र-12 का क्षेत्रीय अधिवेशन 22-23 दिसम्बर 2012 को स्थानीय शहनाई गार्डन में कटनी शाखा द्वारा आयोजित किया गया। उद्घाटन सत्र मुख्य अतिथि श्री राजेन्द्र शुक्ल खनिज एवं ऊर्जा मंत्री म॰प्र॰ शासन एवं न्यायमूर्ति श्री विष्णु सदाशिव कोकजे राष्ट्रीय एवं कार्यक्रम अध्यक्ष व मुख्य वक्ता श्री कृष्ण माहेश्वरी, क्षेत्रीय संघचालक के विशिष्ट आतिथ्य में सम्पन्न हुआ। कटनी शाखा द्वारा प्रकाशित पत्रिका ‘उत्तिष्ठत जाग्रत’ का विमोचन भी किया गया। इस में महाकौशल, छत्तीसगढ़, मध्य भारत उत्तर, मध्य भारत पश्चिम के लगभग 200 प्रतिनिधियों ने अपनी सहभागिता की।

द्वितीय सत्र में महिला सशक्तिकरण और राष्ट्र निर्माण में युवाओं की भूमिका एवं संगठन के विस्तार पर परिचर्चा में अनेक वक्ताओं ने अपने विचार प्रस्तुत किये। सांस्कृतिक कार्यक्रम में परिषद् की मातृशक्तियों की प्रस्तुति विशेष सराहनीय रही। विख्यात कत्थक नर्तक श्री विशाल कृष्ण की प्रस्तुति कार्यक्रम की विशेष आकर्षण रही। यह कार्यक्रम नगर निगम महापौर श्रीमती निर्मला पाठक के मुख्य आतिथ्य में सम्पन्न हुआ।

दूसरे दिन विभिन्न प्रान्तों से आये पदाधिकारियों एवं सदस्यों द्वारा विस्तार एवं बेहतर संचालन के सुझाव दिये गये। इसमें रा॰ अध्यक्ष न्यायमूर्ति कोकजे जी ने सभी विचारों एवं सुझावों पर विचार करने हेतु आश्वासन दिया। समापन सत्र पर प्रान्तीय संघचालक श्री शंकर प्रसाद ताम्रकार ने उद्यमिता एवं राष्ट्र निर्माण पर अपने विचार प्रस्तुत किये। कार्यक्रम में अधिकतम उपस्थिति का पुरस्कार महाकौशल प्रान्त, शाखा वृद्धि का मध्य भारत उत्तर एवं सदस्यता वृद्धि का मध्य भारत पश्चिम को प्रदान किया गया।

इस कार्यक्रम में राष्ट्रीय, क्षेत्रीय एवं प्रान्तीय अधिकारियों में सर्वश्री पी॰के॰ जैन, डॉ॰ संजय लोंढ़े, अजय बंसल, डॉ॰ विजय जैन, जयंत वैशंपायन, प्रथमेश देसाई, अशोक जाधव, शान्तिलाल चपलोत एवं कटनी विधायक श्री गिरिराज किशोर पोद्दार की विशेष उपस्थिति रही। आभार प्रदर्शन श्री राजेन्द्र खण्डेलवाल द्वारा किया गया।

ZONE- XV
Zonal Conference consisting of A.P. East & West States was held at Arihant Dham Jain Temple, Guntupalli, Near Vijayawada in Andhra Pradesh East on 30th December, 2012. The meeting paid homage to Delhi victim and observed two minutes silence. The Zonal General Secretary Shri D. Satyanarayana explained the moto of the conference. The Zonal Chairman Shri K.B. Rama Rao explained the main objects in having the Zonal conference.

Shri B. Ch. V. Subba Rao, National Vice-President said that the lack of moral values in the society are the reasons for the present day tragedies and this is the result of not following the teachings of Swami Vivekanand which is our main stay. Discipline & cultural integration are the basic structure of our society which we should follow. Further we should bring the young blood into the Parishad to avoid any generation gap in its activities.

The Chief Guest Shri Lalit Kumar Mahajan, National Add. Org. Secy. Zone-I, II, III, through his inspiring speech said that we shall work for achieving our goals and develop the activities of the Parishad through collective thinking and dedicated service to the society which is given by our central leadership from time to time.

Dr. B.D. Patel, National Secretary (Sampark) gave power point presentation on Sampark, and conducted the session very interestingly. He insisted that for the expansion of BVP apart from others, support from press and other media is also very important.

Shri N. Doulath Rao, National Add. Secy. Gen. Sanskar also gave another power point presentation on the importance of Sanskar and Sewa projects which are inseparable. In the post lunch period under the chairmanship of Shri. K.B. Rama Rao the state President of both the states, Shri P.V.S. Krishna Rao of A.P. East and Shri K. Veerabhadra Rao of A.P. West reported about their respective states Sri J. Prabhakara Rao Zonal Org. Secy.  (Zone-XV) said the silver jubilee celebrations of BVP in both the states have to be conducted in a befitting manner. Shri Kasi V. Rao, National Secretary for press & publicity said that we have to study the needs of the village and serve them to meet their needs in the context of village adoption programmes.

Shri N.C. P. Kanungo, National Vikalang Vice-President stressed the need for permanent projects for every branch and the delegates were requested to remind themselves of this necessity.

In the penultimate session Shri Subba Rao, National Vice-President presided over the open session and the members expressed their opinions, offered suggestions and also posed questions of different types. In the concluding session Bharat jee of RSS gave inspiring speech for the preservation of Hindu Culture with its traditions which is the livewire of our society and said that our Parishad is not a club but a congregation (Parishad) of committed personalities with a committed ideology.

152 persons attended the conference. Prizes were distributed among the women & children who participated in sports/games conducted for them in the afternoon. The Zonal conference was sponsored by Vijayawada, Vijayawada Central and Vijayawada Yuva branches and organized by Sri Narpat Raj F. Jain, National Secretary Finance, Audit & Accounts. 

(Niti; Feb.,2013)


Prants registering highest growth in membership to be honoured
In this Golden Jubilee year of Parishad we all had taken the target to increase the Parishad membership by minimum 10%. To acknowledge and appreciate your efforts some sammans were announced in NITI, we feel happy and proud to inform you that as on 31st December. 13 Prants have registered a growth of over 10 % out of which 10 have achieved growth of 15 to 40 %. Prants achieving minimum 10% growth were duly acknowledged or being acknowledged by publishing congratulatory messages in NITI and this process will continue till March 2013. Prants achieving 15% or more growth were honored in their respective Zonal Conferences.

One Prant each in following categories registering highest growth in membership upto 31.3.2013 subject to following qualifying conditions will be honoured at Golden Jubilee celebrations of Parishad in 2013:

1. Prants with 35 or more branches as 31.3.12 - minimum 15 % growth
2. Prants with 21 to 34 branches as on 31.3.12 - minimum 20 % growth
3. Prants with 10 to 20 branches as on 31.3.12 - minimum 25 % growth

We hope all Prants will make all efforts to contribute to the growth of our BVP family by atleast 15%, by 31.3.2013 and try to receive above Samman.

- Harish Jindal, National Organising Secretary


ELECTION RULES FOR PRANTS

Procedure

1.   The election will be held for the posts of President, General Secretary and Treasurer in all Prants,   except those having less than 6 branches.

2.   The Returning Officer for the election will be nominated by the Zonal Election Officer appointed by the National Election Committee with the consultation of Zonal Chairman, and his name will be sent to the Central Office and to the Prantiya General Secretary up to 15th December. The Returning Officer should not be from the same Prant.

3.   (a) The last date for holding elections shall be 31st January. However, in case of exceptional circumstances, maximum one month’s extension may be granted by the Zonal Election Officer.

      (b) If the elections are not completed even upto 28th February the election meeting shall be called by Returning Officer/Zonal Secretary and elections shall be completed by 31st March.

      (c) If it is not possible to complete elections even by 31st March, the office-bearers shall be nominated by Zone with the approval of the Centre.

4.   (a) The election will  take place in the meeting of the Prantiya Council as it existed on 31st December. The General Secretary of the Prant / Returning Officer shall issue 15 day’s notice for this meeting.

      (b) The date and place of the election meeting shall be decided well in time. The Prantiya General Secretary shall intimate the same to Returning Officer and Zonal Secretary latest by 31stDecember.

5.   The General Secretary shall prepare the list of eligible voters as on 31st December and shall send it       to the Returning Officer and Zonal Secretary by 7th January.

6.   The quorum for the election meeting shall be one-fourth of the total strength of the members of the Prantiya Council, having voting rights.

7.   An eligible voter may either propose or second any one candidate only. No candidate shall propose or second any other candidate for any post.

8.   The candidate must be physically present in the election meeting and express his/her willingness for his/her candidature.

9.   In case of two or more candidates proposed for one post, the election will be conducted by secret ballot and in case of equal number of votes polled to two or more candidates for the same post, the result will be taken by draw of lots.

10.  (a) Any objection at the time of election shall be decided by the Returning Officer. Any member aggrieved with the decision of the Returning Officer, may file an appeal within one month to the Chairman National Election Committee, who shall decide the same within one month.

      (b) The decision of the National Election Committee will be final and binding upon all concerned and shall not be called in question in any court of law.

ELIGIBILITY FOR VOTERS

11.  All the members of the Prantiya Council constituted under Article 17 read with Article 18 & 19 of the Constitution of the Parishad, which are as under, shall be eligible to participate and vote in the election:

      (i) The Presidents, Secretaries and Treasures of all the branches.

      (ii) All the nominated delegates of the branches having members exceeding 50.

      (iii) All members of Prantiya Executive Committee.

      (iv) All the Presidents & Secretaries of District Committee.

      (v) All the members of National and Zonal Executive who are members in any Branch of that Prant.

EXPLANATIONS

      (a) As per Article 17 (ii), the Branch Executive is entitled to nominate one delegate for every additional membership of 50 or part thereof, to the Prantiya Council.

      (b) As per rule 27 of the bylaws of the Parishad, the number of the Executive Committee members including office bearers at Prant level shall not exceed the number of branches in the Prant. Therefore, where there are more members of the Prant Executive, only members of the Prant Executive mentioned in clause (iii) above, shall be entitled to participate in the election proceedings and vote, as many branches, as existed on 31st December and for the purpose the list of the members will start from bottom to top continuously. If anyone among those members is absent or otherwise not eligible vote he/she will not be substituted by another person.

      (c) No Office Bearer of the District Committee which is established in violation of the constitution shall have the voting right.

      (d) No person will have a right to more than one vote for one post in any circumstance.

12.  Only those members of the Prantiya Council shall participate in the election meeting, whose names have been verified from the records of the Central Office as on 30th September.

13.  A member shall be eligible to vote only if he/she has paid all his dues by 30th September and his branch is also eligible to participate in the election meeting.

14.  (a) In case of old Branches, only those branches will be eligible to participate in the election:

      (i) Which have been constituted up to 30th September;

      (ii) Which have paid their full Prantiya and Central subscriptions according to the membership as on 30th September; and

      (iii) Which have sent the list of all their members to Central Office latest by 30th September.

14   (b) In case of new Branches, only those branches will be eligible to participate in the election:

      (i) Which have been constituted up to 31st December;

      (ii) Which have paid their full Prantiya and Central subscriptions according to the membership as on 31st December; and

      (iii) Which have sent the list of all their members to Central Office latest by 31st December.

ELIGIBILITY FOR THE CANDIDATES

15.  Only that member can be a candidate:

      (i) Who is a member of the BVP continuously for complete 4 years,

      (ii) Who has been a member of Prantiya Council / Executive for at least one complete year excluding the current year,

      (iii) Whose branch is eligible to participate in the election proceedings.

16.  No member shall be eligible to be elected as an Office-Bearer in the following circumstances:-

      (i) If he has been convicted for an offence involving moral turpitude, or

      (ii) If he is an office-bearer of a political party, or

      (iii) If he is addicted to any intoxication, or

      (iv) If he is guilty of "not handing over charge or not rendering accounts" as an Office-Bearer at any level at any time, or

      (v) If he has been found guilty of committing financial irregularities at any level at any time, or

      (vi) If he has not paid all his dues upto 30th September, or

      (vii) If he will attain the age of 75 years as on 31st March, or

      (viii) he is found indulging in any undesirable activities or

      (ix) If he is designated as Chief Patron/Patron at any level.

17.  No Office-Bearer shall be allowed to contest for the same post for the third term.


ELECTION RULES FOR BRANCHES

Procedure

1.   The election will be held for the posts of President, Secretary and Treasurer in all branches, except those constituted on or after 1st October. In such branches the sitting / working office-bearers shall continue.

2.   The Prantiya Election Officer in consultation with the Prantiya President will nominate the Returning Officer for the election of the office bearers of the Branches and inform the branch Secretary up to 31st December. The Returning Officer shall not be the member of the same branch. The Prantiya Election Officer will be nominated by the National Election Committee.

3.   (a) The last date for holding elections shall be 28th February. However, in case of exceptional  circumstances, maximum one month’s extension may be granted by the Prantiya Election Officer.

      (b) if it is not possible to complete elections even by 31st March, the Administrator shall be nominated by the Prantiya Election Officer in consultation with the Prantiya President, who will ensure that  the elections are held within a month.

4.   (a) The election will take place in the meeting of General Body as it existed as on 31st December. For this meeting 10 days notice shall be issued by the Returning Officer/Branch Secretary.

      (b) The date, time and place of the election meeting shall be decided well in time by the branch (in consultation with the Returning Officer) and the Branch Secretary shall intimate the same to the Returning Officer and to the Prantiya Election Officer by 31st January.

5.   The Branch Secretary shall prepare the list of eligible voters as on 31st December and shall send the same to the Prantiya Election Officer and to the Returning Officer before 31st January.

6.   The quorum for the election meeting shall be one-fourth of the total strength of the members of the branch having voting rights.

7.   An eligible voter may propose or second any one candidate for one post only. No candidate shall propose or second any candidate for any post.

8.   The candidate must be physically present in the election meeting and express his/her willingness for his/her candidature.

9.   In case of two or more candidates for one post, the election will be conducted by secret ballot and in case of equal number of votes polled to two or more candidates for the same post, the result will be declared by draw of lots.

10.  The Returning Officer may take the help of any senior member for conducting   the election, if he needs. The person conducting the elections will not have the voting right.

11.  (a) Any objection at the time of election shall be decided by the Returning Officer.

      (b) Any member aggrieved with the decision of the Returning Officer, may file an appeal within one month to the Prantiya Election Officer, who shall submit his report to the Zonal Secretary for final decision.

      (c) The decision of the Zonal Executive Committee will be final and binding upon all concerned and will not be called in question in any Court of Law.

ELIGIBILITY FOR VOTERS & CANDIDATES

12.  A member shall be eligible to vote only if he has paid all his dues up to 31st  December.

13.  The candidate must be a member of the same branch at least for one complete financial year.

14. No member shall be eligible to be elected as an Office Bearer in the following circumstances:

      (i) If he has been convicted for an offence involving moral turpitude, or

      (ii) If he is an Office-Bearer of a political party, or

      (iii) If he is addicted to any intoxication, or

      (iv) If he is guilty of "not handing over charge or not rendering account" as an Office Bearer at any  level, at any time, or

      (v) If he has been found guilty of committing financial irregularities at  any level at any time, or

      (vi) If he has not paid all his dues up to 31st December, or

      (vii) If he will attain the age of 75 years as on 31st December, or

      (viii) he is found indulging in any undesirable activities, or

      (ix) If he is designated as Chief Patron/Patron at any level.

15.  Office-Bearer may hold the same office normally for two terms only.

16. Although husband and wife both have individual votes, but only one of them can contest the election at a time.


Financial aid for the purchase of Machinery, Equipments etc. for service projects
It gives me great pleasure to communicate that Apex Body in its meeting held on 17 June 2012 decided to sanction and distribute financial aid during current year 2012-13. The funds will be sanctioned/disbursed on the basis of project report submitted for service projects being run by BVP Branch/Prant/Trust. The following rules for sanctioning will be applicable:

1.   Applicant Branch/Trust/Prant is running service project in the building owned by it.

2.   Fixed Equipment (s) are required for such project but the applicant unit does not have the required financial resources for the purchase of such equipment (s).

3.   Photostat copies of documents of land and building, financial statements and details of bank account for the last two years must be enclosed with the application.

4.   After sanction of grants-in-aid the equipment will be purchased in the name of BVP and cheque/cheques payable at par will be issued by the central office in the name of the supplier.

5.    The grant sanctioned will have to be utilized before 31st March 2013.

 Application must reach Central Office at the earliest but not later than 31.12.2012.
     

 - S.K. Wadhwa, National Secretary General


Shri Kedar Nath Sahni, one of the Founder Members of Bharat Vikas Parishad, passed away on the 3rd October, 2012 at New Delhi.

Deeply mourned by all members of the Bharat Vikas Parishad.

 


राष्ट्रीय पदाधिकारी बैठक: 2012
रुहेलखण्ड: प्रान्त द्वारा प्रायोजित राष्ट्रीय पदाधिकारी बैठक मुरादाबाद के पाँच सितारा होटल रीजेन्सी में 18-19 अगस्त, 2012 को सफलता पूर्वक सम्पन्न हुई। 50 से अधिक पदाधिकारियों की बैठक में सहभागिता रही।

पारंपरिक दीप प्रज्ज्वलन और सामूहिक वन्दे मातरम् गायन के उपरान्त प्रान्तीय अध्यक्ष आलोक अग्रवाल द्वारा सभी सज्जनों का सुस्वागत किया गया। (यही भारतीय परम्परा है-घर आये मेहमान का अभिवादन)। तदुपरान्त 27-28 अगस्त, 2011 को काठगोदाम (उत्तराखण्ड) में सम्पन्न उपरोक्त बैठक का संक्षिप्त विवरण सुरेन्द्र कुमार वधवा, राष्ट्रीय महामंत्री द्वारा प्रस्तुत किया गया जिसकी सभी ने करतल ध्वनि से पुष्टि की। नगर की प्रथम महिला (मेयर) श्रीमती वीना अग्रवाल मुख्य अतिथि थीं जिनका माल्यार्पण आदि से विधिवत् अभिनन्दन किया गया। साहस की प्रतिमूर्ति मेयर ने परिषद् के लिए शुभकामनाएँ करते हुए बताया कि उन्होंने तो कुछ वर्ष पूर्व ही स्वामी विवेकानन्द जी की आदमकद प्रतिमा नगर के चौराहे पर लगवाई है। परिषद् उस महापुरुष की 150वीं जयन्ती मना रहा है, इसलिए परिषद् का प्रत्येक घटक बधाई का पात्र है। राष्ट्रीय अध्यक्ष न्यायमूर्ति वी.एस.कोकजे ने भी अपने वक्तव्य में संगठित होकर कार्य करने का आह्नान किया।

प्रथम सत्र में क्षेत्रीय बैठकें कहाँ-कहाँ हों, इस पर राष्ट्रीय महामंत्री द्वारा चर्चा की गई। राष्ट्रीय संगठन मंत्री हरीश जिन्दल ने शाखाओं/सदस्यों के विस्तार और उपलब्धियों पर प्रकाश डाला। वीरेन्द्र याज्ञनिक ने परिषद् स्वर्ण जयन्ती और स्वामी विवेकानन्द जी की 150वीं जयन्ती की तैयारी के लिए विस्तृत जानकारी देते हुए सब को कमर कसने की प्रेरणा दी। कुबेर का दायित्व निभाते हुए राष्ट्रीय वित्त मंत्री डॉ॰ के. एल. गुप्ता ने वर्ष भर का लेखा-जोखा प्रस्तुत करते हुए सब को सचेत किया कि अभी और काम करना बाकी है।

द्वितीय सत्र में प्रान्त और शाखाएँ अपना-अपना लेखा कैसे तैयार करें और केन्द्रीय कार्यालय में भेजें, इस का दिशा निर्देश दिया गया। राष्ट्रीय प्रकल्पों के आयोजन के सम्बन्ध में भी विस्तार से चर्चा हुई।

तृतीय सत्र में राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष प्रो. एस.पी.तिवारी ने सेमिनार अर्थात् गोष्ठियों के आयोजन और आधुनिक परिप्रेक्ष्य में उनकी सार्थकता पर विस्तार से प्रकाश डाला और अनुप्रेरित किया।

परिषद् प्रकाशनों और ज्ञान प्रभा के विशेषांक प्रकाशन के सम्बन्ध में सुरेश चन्द्र ने और परिषद् की मुख-पत्र ‘नीति’ के विशेषांक के प्रकाशन से सम्बन्धित विषयों पर  डॉ॰ धर्मवीर सेठी ने विस्तार से जानकारी दी।

राष्ट्रीय महामंत्री द्वारा एक अनूठा प्रयास Talent Hunt का आयोजन रात्रि भोज से पूर्व किया गया। सभी ने इसकी सराहना करते हुए भविष्य में भी इसे चालू रखने की सलाह दी।

दूसरे दिन चौथे सत्र में महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा हुई जैसे- परिषद् स्वर्ण जयन्ती वर्ष में स्थाई प्रकल्प पर डॉ॰ घनश्याम शर्मा द्वारा; ट्रस्ट आदि के सम्बन्ध में राष्ट्रीय मंत्री, अरुण डागा, एस.एन. खेमका एवं माल चन्द गर्ग द्वारा और राष्ट्रीय अध्यक्ष ने परिषद् के संविधान के भूत, भविष्य एवं वर्तमान परिदृश्यों पर प्रकाश डाला।

समापन समारोह में राष्ट्रीय अध्यक्ष ने अधिकारियों द्वारा पूछे गये प्रश्नों और प्रस्तुत की गई जिज्ञासाओं का उचित समाधान प्रस्तुत करते हुए संगठित होकर कार्य करने की पुनः प्रेरणा दी। प्रो. एस.पी.तिवारी ने प्रतिभागियों की ओर से आभार व्यक्त करते हुए सम्पूर्ण कार्यवाही को अपने भाषण में समेटा। इस सत्र के मुख्य अतिथि श्री महेश अग्रवाल एवं मनोज आहूजा ने भी परिषद् के सभी कार्यकर्ताओं को शुभाशीष दिया। अन्त में प्रान्तीय अध्यक्ष श्री आलोक अग्रवाल द्वारा सबके लिए शुभकामनाएँ व्यक्त करते हुए राष्ट्रगान से द्वि-दिवसीय बैठक सम्पन्न हुई। प्रिंट और इलेक्ट्रानिक मीडिया ने भी अपने-अपने माध्यम से परिषद् के गतिविधियों की सराहना की।

(Niti: Oct., 2012)


ORGANISATIONAL GROWTH SAMMAN
Please amend the Organizational Award notification as under:
(a) Prants achieving 10% growth in membership between 31.03.2012 and 30-11-2012 will be honoured publishing 
      photographs of President, General Secretary, Treasurer and Prantiya Org. Secretary in NITI

(b) Prants achieving 15% growth in membership between31-3-2012 and 31-11-2012 will be honoured will Samman Prateek to President, General Secretary, Treasurer and Prantiya Org. Secretary in their respective Zonal Conferences.

(c) Subject of qualifying condition of minimum growth as under Prants achieving highest growth during 31-3-2012 to 31-12-2012 will be honoured in NGB in following 3 categories:
(1) Prants with 35 or more branches,              15%
(2) Prants with 21 to 34 branches,                  20%
(3) Prants with 10 to 20 branches                   25% 

 - S.K. Wadhwa, National Secretary General                - Harish Jindal, National Org. Secretary


राष्ट्रीय / क्षेत्रीय Executive का दायित्व ग्रहण समारोह
दिल्ली
: 21 अप्रैल 2012 को केन्द्रीय कार्यालय दिल्ली में भाविप के राष्ट्रीय/क्षेत्रीय
Executive का दायित्व ग्रहण समारोह आयोजित किया गया। राष्ट्रीय महामंत्री एस॰के॰ वधवा ने अतिथियों का स्वागत किया और कार्यक्रम का संचालन किया। निवर्तमान राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री आर॰पी॰ शर्मा ने वर्तमान राष्ट्रीय अध्यक्ष वी॰एस॰ कोकजे को शपथ दिलवायी। श्री शर्मा ने संगठन की स्थापना से लेकर आज तक की विकास प्रक्रिया व उपलब्धियों पर प्रकाश डालते हुये बताया कि वह आगे भी भाविप का कार्य उसी विश्वास व दृढ़ता के साथ करते रहेंगे जैसे अब तक करते आये हैं। श्री आई॰डी॰ ओझा ने अपने संस्मरणों के माध्यम से बताया कि उनका समर्पित भाव ही उन्हें परिषद् के इतने उच्च पद पर ले आया और भविष्य में भी उसी समर्पित भाव से वह कार्य करते रहेगें। इसके पश्चात् न्यायमूर्ति वी॰एस॰ कोकजे ने अपना अध्यक्षीय वक्तव्य दिया और विश्वास दिलाया कि वे अब संस्था का कार्य अपना सारा समय देकर करेंगे। उनके अनुसार यही एक ऐसी संस्था है जहाँ कार्यकर्ता अहंकार से ऊपर उठकर सब का समान रूप से सम्मान करते हुये धन, पद, यश की त्रयी से ऊपर उठकर काम करते हैं। श्री भगैया जी के वक्तव्य के साथ ही प्रथम सत्र समाप्त हुआ।

दूसरे सत्र में (संगठन) A, (वित्त) B, (सम्पर्क) C, (संस्कार) D, (सेवा) E, (समग्र ग्राम विकास योजना) F के ग्रुपों में उपस्थित सदस्यों को भेजा गया। जिसमें संस्था से जुड़े प्रकल्पों पर सम्बन्धित अधिकारियों ने चर्चा की। तीसरे सत्र में श्री सतीश चन्द्र ने भाविप के संविधान व नियमों पर अपना वक्तव्य दिया। भाविप की स्वर्ण जयन्ती और स्वामी विवेकानन्द जी की 150वीं जयन्ती समारोह पर अपने विचार प्रस्तुत किये। इसके पश्चात् प्रत्येक ग्रुप के संचालकों ने अपने-अपने विषयों से संबंधित सुझाव व समस्याओं को संक्षेप में प्रस्तुत किया।

राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष प्रो॰ एस॰पी॰ तिवारी ने समापन वक्तव्य दिया और कहा कि समाज की सेवा राष्ट्र भक्ति की भावना से ओतप्रोत होने पर ही सम्भव है, जो हम परिषद् के माध्यम से कर सकते हैं। उन्होंने ओझा जी को प्रेरणा स्रोत व शर्मा जी को श्रद्धेय कहा, हम इन से मार्गदर्शन लेते हुये संस्था का कार्य करते रहंेगे। इसके बाद श्रीमती शन्नोरानी को विकास रत्न बनने पर मोमेन्टो प्रदान किया गया। डा॰ के॰एल॰ गुप्ता ने सबका धन्यवाद करते हुये कहा कि संस्था में कार्यकर्ता Triple "i" पर काम करता है Individual, Institution, Ideology यानि कि व्यक्तित्व अच्छा बनेगा फिर परिषद् के अच्छे कार्यों से जुड़ेगा और उसके आदर्शों को आत्मसात कर लेगा। राष्ट्रीय गान के साथ कार्यक्रम का समापन किया गया।

(Niti; Jun.,2012)


How to Update the Membership List?

Option 1
(1) Please get the printed list from the Central Office (Just give a call or email to the Central Office);
(2) Make changes on the list received; and
(3) Return the same amended list to the Central Office.

Option 2  Please furnish details in the following format:

Prant...................................................................  Branch.......................................

Membership ID. No. (15 digit)

Name

Changes / Additions

  1. Delete Members


     

 

 

 

  1. Alternation in address


     

 

 

 

  1. Addition (New members)

    (Id. No. will be allotted by the Central Office)

 

 

 


- Chairman, Prakashan

पदाधिकारियों के प्रवास कार्यक्रम
भारत विकास परिषद् 17 क्षेत्र, 58 प्रान्त एवं 1260 शाखाओं तथा 51000 दम्पति-सदस्यों वाली एक विशाल संस्था है। इस की शाखाएँ देश के जम्मू-कश्मीर से कन्याकुमारी तथा मिजोरम से गुजरात तक कार्यरत हैं। इनके सदस्य विभिन्न भाषाएँ बोलते हैं एवं इनके कार्यक्रम भी स्थानीय आवश्यकताओं के अनुसार भिन्न हैं। किन्तु फिर भी ये एकता के सूत्र में बंधी हुई है। परिषद् का संविधान, नियमावली है किन्तु प्रकल्प एवं प्रतिवर्ष होने वाले राष्ट्रीय सम्मेलन इनमें सुदूर प्रदेशों में स्थित शाखाओं को एक जुट रखने में समर्थ हैं।

दूर-दूर फैली हुई इन शाखाओं को एकता के सूत्र में बांधने, इनके सदस्यों के एक दूसरे से जुड़े होने का आभास कराने तथा शाखाओं को सक्रिय रखने में केन्द्रीय एवं प्रान्तीय पदाधिकारियों के प्रवास कार्यक्रमों की उपयोगिता को भी कम करके नहीं आंका जा सकता। केन्द्रीय कार्यालय दिल्ली में स्थित है जहाँ से समस्त निर्देश जारी होते हैं, कार्यक्रम बनते हैं, नये नियम बनते हैं एवं नियमों में परिवर्तन होते हैं। इन समस्त कामों को अंजाम देने वाले व्यक्तियों को जमीनी हकीकत का पर्याप्त ज्ञान होना चाहिए अन्यथा ये बदलाव, नियम एवं कार्यक्रम वास्तविकता से परे हो सकते हैं। प्रान्तों एवं शाखाओं और उनके सदस्यों को भी ऐसा लगना चाहिए कि केन्द्र तथा प्रान्तों में बैठे पदाधिकारी उनसे दूर आइवरी टावर में रहने वाले व्यक्ति नहीं हैं। उन्हीं में से उनके निकटस्थ रहने वाले एवं उनकी भावनाओं तथा बातों को समझने एवं सुनने वाले व्यक्ति हैं। यह सब कुछ तभी सम्भव है जब केन्द्रीय, क्षेत्रीय एवं प्रान्तीय पदाधिकारी निरन्तर प्रवास करें एवं शाखाओं के सम्पर्क में रहें।

केन्द्रीय एवं प्रान्तीय पदाधिकारियों के ये प्रवास कार्यक्रम पर्याप्त धन, समय एवं शारीरिक श्रम की भी मांग करते हैं। किन्तु फिर भी शाखाओं को सजीव एवं सक्रिय रखने, उनके कार्यक्रमों में एकरूपता लाने तथा वे केन्द्र बिन्दु से जुड़ी हैं इस भावना का निर्माण करने के लिये प्रवास कार्यक्रम आवश्यक हैं। आवश्यकता इस बात की है कि इन प्रवास कार्यक्रमों को अधिक सार्थक एवं मितव्ययी बनाया जाये। इस संबंध में कुछ सुझाव दे रहा हूँ एवं मुझे आशा है कि वे इस दिशा में उपयोगी सिद्ध होंगेः- प्रान्त तथा शाखा स्तर के कार्यक्रमों में एक ही केन्द्रीय पदाधिकारी जाये। यदि वे एक ही वाहन से यात्रा कर रहे हों या स्थानीय रूप से उपलब्ध हों तो एक से अधिक भी जा सकते हैं।

केन्द्रीय तथा प्रान्तीय अधिकारी भी अपनी उपस्थिति उस कार्यक्रम तक ही सीमित न रखें। कार्यक्रम से कुछ समय पूर्व जाकर या कार्यक्रम के बाद रुक कर प्रान्त/शाखा की कोई कठिनाई है तो उसे दूर करने के लिये अपने सुझाव दें। इस कार्य के लिये यदि रात्रि विश्राम भी करना पड़े तो अवश्य करें।

जिस प्रान्त/शाखा में जा रहे हैं उसके विषय में पूर्ण रूप से होम वर्क कर ले। केन्द्रीय अधिकारी शाखा में प्रवास के पूर्व प्रान्तीय अधिकारी को अवश्य सूचित कर दें एवं उस शाखा के संबंध में आवश्यक जानकारी प्राप्त कर लें। प्रान्तीय अधिकारी भी होम वर्क करके ही शाखाओं में जायें।

प्रायः अधिकारियों के प्रवास कुछ बड़े प्रान्तों/शाखाओं तक सीमित रह जाते हैं एवं जिससे वंचित प्रान्त/शाखाएँ अपने को उपेक्षित महसूस करते हैं। यह आवश्यक नहीं है कि निमंत्रण मिलने पर ही प्रान्तों/शाखाओं में प्रवास किया जाये। जो प्रान्त/शाखायें बड़े कार्यक्रम आयोजित नहीं कर पा रहे हैं उनमें भी पदाधिकारियों से टेलीफोन पर सम्पर्क करके प्रवास कार्यक्रम अवश्य बनाये। प्रयत्न यही होना चाहिए कि प्रत्येक शाखा में कोई एक प्रान्तीय पदाधिकारी एवं प्रत्येक प्रान्त में कोई एक केन्द्रीय पदाधिकारी वर्ष में कम से कम एक बार अवश्य प्रवास करे।

प्रायः देखा जा रहा है कि बहुत कम शाखाएँ राष्ट्रीय प्रकल्पों से संबंधित कार्यक्रम आयोजित कर रही हैं। एक प्रान्त में 60 शाखाएँ हैं जिसमें से केवल 9 शाखाओं ने प्रान्तीय स्तर की राष्ट्रीय समूहगान प्रतियोगिता में भाग लिया। इससे यह निष्कर्ष भी निकलता है कि बहुत बड़ी संख्या में शाखाएँ निष्क्रिय हो रही हैं। यह स्थिति अत्यन्त शोचनीय है। केन्द्रीय एवं प्रान्तीय पदाधिकारियों को अपने प्रवास के दौरान इन समस्याओं का गहन विश्लेषण एवं निराकरण करना चाहिए।

यह वर्ष स्वामी विवेकानन्द जी की 150वीं जयन्ती वर्ष के रूप में मनाया जा रहा है एवं इस विषय पर दिशा निर्देश जारी किये गये हैं। प्रकाशन विभाग ने स्वामी जी के जीवन एवं सिद्धान्त से संबंधित हिन्दी तथा अंग्रेजी में पुस्तकें प्रकाशित की हैं जो अत्यंत कम सहयोग राशि पर केन्द्रीय कार्यालय में उपलब्ध हैं। प्रवास के दौरान यह प्रयास करें कि अधिक से अधिक शाखाएँ स्वामी जी से संबंधित कार्यक्रम आयोजित करें एवं प्रत्येक सदस्य तक यह साहित्य पहुँच सके।

1 अप्रैल, 2012 से उच्च श्रेणी के रेल किरायों में वृद्धि हुई है अतः यथा संभव तृतीय ए॰सी॰ से ऊँची श्रेणी में यात्रा करने से बचें।

 - सुरेन्द्र कुमार वधवा, राष्ट्रीय महामंत्री


Oath by newly elected National Office Bearers of Bharat Vikas Parishad
Newly elected National Office Bearers of Bharat Vikas Parishad took oath of their office in a meeting held on 21st April, 2012 in the Central Office, Delhi -- Justice Vishnu Sadashiv Kokje, National President; Prof. Satya Prakash Tiwari, National Working President; Shri Surinder Kumar Wadhwa - National Secretary General and Dr. Kanaiya Lal Gupta, National Finance Secretary.


Parishad’s Patron Shri Govind Narain Passes Away
Bharat Vikas Parishad’s Patron Shri Govind Narain, ICS (Retd) left for his heavenly abode on the 3rd April, 2012 at the age of 95. He had a long association with Bharat Vikas Parishad.    He was associated with Bharat Vikas Parishad since the time he was Governor of  Karnataka (1977 to 1983). For many years he served as Parishad’s National Vice President and had been guiding the Parishad as its Patron for about two decades. He had a distinguished career in the civil service and was honoured with Padma Vibhushan in 2009.

In his sad demise Bharat Vikas Parishad has lost a philosopher and guide. He is survived by his two daughters. We pray to almighty to grant eternal peace to the departed soul and enough strength to the bereaved family to bear this irreparable loss. 



  News During 2011-12 2010-11 2009-10 2008-09 2007-08
             

 

                                                                                                                                         top         Home 

 

Copyright©  Bharat Vikas Parishad . All Rights Reserved