Photo Gallery

 Audio Gallery

   States / Prants

 Branch PSTs

  Finance

 Some Useful Articles

   BVP in the News

   States' Publications

 News from the Branches

 Feedback 
 Website Contents 

 

 

 



Be a partner in development of the Nation

Bharat Vikas Parishad is striving for the development of the Nation. You can also participate in this effort  by (a) becoming a member of Bharat Vikas Parishad, (b) enrolling yourself as a “Vikas Ratna” or “Vikas Mitra”  and (c)  donating for various sewa &  sanskar projects.

Donations to Bharat Vikas Parishad are eligible for income tax exemption under section 80-G of Income Tax Act. Donations may kindly be sent by cheque / demand draft in favour of Bharat Vikas Parishad, Bharat Vikas Bhawan, BD Block, Behind Power House, Pitampura, Delhi-110034.


 
 

.
 

 
     


भारत को जानो
                                                                                   

 
13th All India Bharat Ko Jano Competition: 2013-14 (Bhilwara)
त्रयोदश अखिल भारतीय भारत को जानो प्रतियोगिता: 2013-14 (भीलवाड़ा)

 

 

 

 

   

(Click on the pictures for the larger image)

Click here for link to Photo Album on the Facebook

त्रयोदश अखिल भारतीय भारत को जानो प्रतियोगिता 2013-14 का आयोजन 28-29 दिसम्बर 2013 को भीलवाड़ा में राजस्थान मध्य प्रान्त के आतिथ्य में सफलतापूर्वक सम्पन्न हुआ। इस वर्ष 50 प्रान्तों की कुल 94 टीमों ने भागीदारी की, जिनमें से 47 वरिष्ठ वर्ग में तथा 47 कनिष्ठ वर्ग में थी। भीलवाड़ा के श्री राजीव गांधी ऑडिटोरियम में आयोजित इस प्रतियोगिता का शुभारम्भ परमपूज्य संत स्वामी विद्यानन्द जी सरस्वती (वलसाड़, गुजरात) ने किया। इस अवसर पर पूज्य संत श्री ने कहा कि वास्तविक विकास भौतिक नहीं अपितु आध्यात्मिक व नैतिक विकास है। भारत को पुनः विश्व शक्ति बनाने के लिए भारत विकास परिषद् जैसी संस्थाओं के प्रयास व प्रेरणा अति आवश्यक है।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष न्यायमूर्ति विष्णु सदाशिव कोकजे ने इस प्रकार के कार्यक्रमों के समाज पर पढ़ने वाले सकारात्मक प्रभाव की चर्चा करते हुये कहा कि भारत की विविधतापूर्ण संस्कृति और ग्रामीण-भारत को जानना ही भारत को जानना है। मुख्यवक्ता राष्ट्रीय महामंत्री श्री सुरेन्द्र कुमार वधवा ने भारत के प्राचीन गौरव और आधुनिक सफलताओं की चर्चा करते हुये कहा कि स्वामी विवेकानन्द जी के विचारों के अनुरूप भारत विकास परिषद के संस्कार प्रकल्प कार्य करते है, जिनमें भारत को जानो प्रतियोगिता का महत्वपूर्ण स्थान है। विशिष्ट अतिथि के रूप में श्री विठ्ठल शंकर अवस्थी (विधायक) थे। भारत को जानो प्रतियोगिता के राष्ट्रीय मंत्री डॉ॰ तरुण शर्मा ने प्रतियोगिता का परिचय व उद्देश्यों की जानकारी देते हुये बताया कि इस वर्ष परिषद् के 50 प्रान्तों की 626 शाखाओं द्वारा यह प्रतियोगिता आयोजित की गई, जिसमें लगभग 6 लाख 25 हजार विद्यार्थियों ने भागीदारी की है। स्वागत उद्बोधन कार्यक्रम समन्वयक श्री राजेन्द्र प्रसाद कोठारी ने दिया।

इससे पूर्व 27 दिसम्बर को आयोजक प्रान्त की ओर से राजस्थान की संस्कृति और कला को प्रदर्शित करते हुये भव्य सांस्कृतिक संध्या का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता परिषद् के राष्ट्रीय संगठन मंत्री डॉ० सुरेश चन्द्र गुप्ता ने की तथा मुख्य अतिथि श्री त्रिलोक चन्द्र छाबड़ा थे।

कार्यक्रम के प्रथम दिवस प्रतियोगिता के नियमों की जानकारी के पश्चात, कनिष्ठ एवं वरिष्ठ वर्गों के सेमीफाइनल राउण्ड प्रारम्भ हुए। प्रश्न मंच का संचालन भारत को जानो प्रकल्प के राष्ट्रीय मंत्री डॉ॰ तरुण शर्मा एवं राष्ट्रीय संयोजक श्री भारत भूषण जुनेजा, श्री राकेश सचदेवा, डॉ॰ जे॰ के॰ जुनेजा एवं श्री अरूण पारीक (कार्यक्रम सह-संयोजक) ने किया। धर्म व संस्कृति, भारतीय इतिहास, भूगोल, खेल-कूद, राजनीति व संविधान, उभरता भारत एवं विविध विषयों पर आधारित प्रश्नों को रोचक तरीके से पूछा गया। लगातार चले कनिष्ठ एवं वरिष्ठ वर्गों के 6-6 राउण्ड के आधार पर दोनों वर्गों की 6-6 टीमें फाइनल के लिए चयनित हुई।

फाइनल के लिए चयनित न हो पाने वाली शेष टीमों के मध्य सायंकाल एक संक्षिप्त लिखित परीक्षा हुई, जिसके परिणाम के आधार पर दोनों वर्गों में से एक-एक टीम सीधे फाइनल के लिए चयनित की गई। इस प्रकार फाइनल राउण्ड के लिए दोनों वर्गों में कुल 7-7 टीमें शामिल हुईं।
प्रतियोगिता के द्वितीय दिवस 29 दिसम्बर को फाइनल राउण्ड की प्रतियोगिता में सेमीफाइनल राउण्ड में पूछे गए विषयों के अलावा भारतीय साहित्य, समसामयिक घटनाक्रम, संकेत चक्र तथा दृश्य व श्रृव्य आधारित प्रश्न भी थे। दोनों वर्गों में हुई रोचक व ज्ञानवर्द्धक प्रतियोगिता के पश्चात कनिष्ठ वर्ग में हरियाणा पश्चिम तथा वरिष्ठ वर्ग में महाराष्ट्र द्वितीय प्रान्त की टीमें विजयी रहीं।

समापन सत्र में मुख्य अतिथि राजसमन्द की विधायक श्रीमती किरण माहेश्वरी ने भारत को जानो प्रतियोगिता सहित परिषद् के सभी कार्यक्रमों को समाज के लिए उपयोगी बताया। सत्र की अध्यक्षता राष्ट्रीय अध्यक्ष न्यायमूर्ति विष्णु सदाशिव कोकजे ने की तथा मुख्यवक्ता परिषद के राष्ट्रीय वित्त मंत्री डॉ॰ कन्हैयालाल गुप्ता ने कहा कि अपने देश की गौरवपूर्ण सांस्कृतिक विरासत तथा अन्य सकारात्मक जानकारियों को युवा पीढ़ी तक पहुँचाने हेतु यह प्रतियोगिता श्रेष्ठ कार्य कर रही है। विजेता प्रतिभागियों एवं उनके विद्यालयों को अतिथियों द्वारा पुरस्कृत करने के पश्चात् राष्ट्रगान के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ। कार्यक्रम संयोजक श्री बलराज आचार्य ने धन्यवाद ज्ञापित किया। सम्पूर्ण कार्यक्रम के सुव्यवस्थित व भव्य आयोजन में प्रान्तीय अध्यक्ष श्री सत्य प्रकाश काबरा, प्रान्तीय महासचिव श्री मुकन सिंह राठौड व प्रान्तीय कोषाध्यक्ष श्री दिनेश कुमार कोगटा के नेतृत्व राजस्थान मध्य प्रान्त के व भीलवाड़ा की विभिन्न शाखाओं के कार्यकर्ताओं का महत्वपूर्ण योगदान रहा।

प्रतियोगिता के सफल संचालन, स्कोरिंग व अन्य व्यवस्थाओं में भारत को जानो के राष्ट्रीय संयोजक श्री के॰एन॰ रामराज अर्स, श्री संजय दुआ, श्री संदीप वाट्स, श्री सुमनकान्त, श्रीमती डिम्पल जुनेजा, श्रीमती कीर्ति शर्मा, श्रीमती किरण सचदेवा का सक्रिय सहयोग रहा।

अन्तिम परिणाम इस प्रकार रहे - 

 

कनिष्ठ वर्ग

 वरिष्ठ वर्ग

स्थान

प्रान्त व विद्यालय

प्रतिभागी

प्रान्त व विद्यालय

प्रतिभागी

प्रथम

 हरियाणा पश्चिम
बी॰एम॰ विश्वास स्कूल मण्डी आदमपुर, हिसार
1. कु0 पूनम
2. कु॰ पुष्पा

महाराष्ट्र -II
विद्या प्रबोधिनी प्रशाला रामभूमि, नासिक

     1.सिद्धार्थ सातभाई
2. केतकी गोरे

द्वितीय

 ब्रज प्रदेश
सेंट एण्ड्रयूज सी॰से॰ स्कूल, बल्केश्वर, आगरा
1. यति शर्मा
     2. तनिष्क अरोरा

 पंजाब उत्तर
स्वामी संतदास सी॰से॰ स्कूल, फगवाड़ा

1. उत्कर्ष कालिया
    2. कु॰ मुस्कान गर्ग

तृतीय

दिल्ली पूर्व
लिटिल फ्लावर्स पब्लिक सी॰से॰ स्कूल, शाहदरा, दिल्ली
1. शैलेन वर्मा
      2. नीरव चिलकोटी

 हिमाचल प्रदेश पूर्व
दयानन्द पब्लिक स्कूल, शिमला

1. कार्तिकेय राणा
2. अक्षत रघुवंशी

फाइनल में पहुँचने वाली अन्य टीमें

कनिष्ठ वर्ग
पंजाब दक्षिण, पंजाब पूर्व, महाकौशल, हिमाचल प्रदेश पूर्व
वरिष्ठ वर्ग  
प्रयाग, उत्तर प्रदेश पश्चिम, कर्नाटक उत्तर, राजस्थान पश्चिम

पिछला >>


प्रान्तों से समाचार >>

                                                                                                                                         top         Home 

 

Copyright©  Bharat Vikas Parishad . All Rights Reserved