Photo Gallery

 Audio Gallery

   States / Prants

 Branch PSTs

  Finance

 Some Useful Articles

   BVP in the News

   States' Publications

 News from the Branches

 Feedback 
 Website Contents 

 

 

 



Be a partner in development of the Nation

Bharat Vikas Parishad is striving for the development of the Nation. You can also participate in this effort  by (a) becoming a member of Bharat Vikas Parishad, (b) enrolling yourself as a “Vikas Ratna” or “Vikas Mitra”  and (c)  donating for various sewa &  sanskar projects.

Donations to Bharat Vikas Parishad are eligible for income tax exemption under section 80-G of Income Tax Act. Donations may kindly be sent by cheque / demand draft in favour of Bharat Vikas Parishad, Bharat Vikas Bhawan, BD Block, Behind Power House, Pitampura, Delhi-110034.


 
 

.
 

 


Celebrations of Swaran Jayanti of BVP & 150th Birth Anniversary of
Swami Vivekananda

 

Swami Vivekananda 

Swami Vivekananda’s Address in Chicago,1893  

Quotes  

Statues of
Swami Vivekananda

Click here for list of Members of National Celebration Committee of Golden Jubilee of BVP and 150th Birth Anniversary of Swami Vivekananda

Click here for Programme of Celebrations of Swaran Jayanti of BVP and 150th Birth Anniversary of Swami Vivekananda


भारत विकास परिषद् स्वर्ण जयन्ती
माननीय डॉ॰ सूरज प्रकाश द्वारा 1963 में स्थापित भारत विकास परिषद् सम्पर्क, सहयोग, संस्कार, सेवा और समर्पण के पांच सूत्रों का प्रयोग करते हुए एक विशाल वट वृक्ष का रूप धारण कर चुकी है। परिषद् ने एकात्म मानववाद अंगीकृत करते हुए सम्पर्क में आत्मीयता, सहयोग में एक और एक ग्यारह, सेवा में कर्त्तव्य भावना, समर्पण में तन, मन, धन की क्षमतानुसार क्रियाशीलता और दानशीलता एवं संस्कारों के स्थापन में ‘‘सर्वे भवन्तु सुखिनाः’’ का भाव निहित करते हुए सशक्त, समृद्ध व अखंड भारत के निर्माण की कल्पना को साकार करने का प्रयत्न किया है।

स्वतंत्र भारत में जन्मी लगभग 70 प्रतिशत जनसंख्या नवयुवक है। इतिहास में संजोये स्वतंत्रता संग्राम के बलिदान उनकी स्मृति में हैं। परम पूज्य डॉ॰ हेडगेवार जी कहते थे, ‘हमारे देश में बल, बुद्धि, धर्म, धन, संस्कृति किसी बात की कमी नहीं थी फिर भी देश पराधीन हुआ .....दुर्बलता महापाप है कोई भी समाज दुर्बल न रहे तो यह विश्व शान्तिपूर्वक चलेगा।’ युवा पीढ़ी इस सिद्धांत को समझ चुकी है और ‘जय विज्ञान’ की गूंज समाहित कर चुकी है। आधुनिक भारतीय शिक्षा ‘ज्ञान विज्ञान विमुक्तये’ और राष्ट्रीय सुरक्षा ‘बलस्य मूलम् विज्ञानम्’ के सिद्धांतों पर आधारित है। हम विश्व की सबसे बड़ी वैज्ञानिक और तकनीकी शक्तियों में से एक हैं। सूचना प्रौद्योगिकी की अग्रणी पंक्ति में हैं। नाभिकीय शक्ति से युक्त जल, थल और आकाश में हमारी उपस्थिति है और हम चन्द्रमा पर भी उतरने के लिए तैयार हैं।

युवा पीढ़ी दूरगामी योजनाओं के साथ अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ व स्थायी बनाते हुए आधुनिक भारत के निर्माण के लिए तत्परता से प्रयत्नशील है। औद्योगिकीकरण से पर्यावरण की भयावह स्थिति से भी अवगत है। प्राकृतिक दुर्घटनाओं से चिन्तित है और यह समझ रही है कि हम प्रकृति का उतना ही उपयोग करें जितनी हमें आवश्यकता है। सारांशतः हम ‘उतिष्ठत जाग्रत’ सिद्धांत को समझ सभी परिस्थितियों में राष्ट्र उत्थान के लिए दृढ़ संकल्प हैं।

यह निश्चित् है कि बिना विज्ञान एवं तकनीकी के गौरवमय भारत की स्थापना कठिन है। पर यह भी सत्य है कि भारतीय मूल्यों को अंगीकृत किए बिना हम अपनी पहचान नहीं बना सकते। अतः आज आवश्यकता है आधुनिक वैज्ञानिक युग के भारत के परिप्रेक्ष्य में परिषद् द्वारा 5 दशकों के सेवा व संस्कार के कार्यो की संख्यात्मक व गुणात्मक विश्लेषण की सही दिशा एवं मार्ग निश्चित् करने की और उस मार्ग पर पूरी तैयारी के साथ चलने की।

आइए, हम चिंतन करें कि समाज चेतना एवं राष्ट्र चेतना का भाव समाज में कहाँ तक स्थापित कर पाए। हमारा आचरण कहाँ तक अनुकरणीय बन पाया, हमारी विशिष्ट पहचान समाज ने कहाँ तक स्वीकार की। ‘नर सेवा-नारायण सेवा’ को कर्त्तव्य भावना से निर्वाहित करते हुए, समाज को संस्कार कार्यक्रमों के द्वारा कहाँ तक प्रभावित कर पाए। चिर भारतीय संस्कृति को पुनः स्थापित करने और भावी पीढ़ी के प्रेरणा स्रोत बनने में हम कहाँ तक पहुँचे। अनुशासन, निःस्वार्थ सेवा और त्याग भावना के मापदंडों में हमारी क्या स्थिति है, यह परिषद् के प्रत्येक सदस्य के लिए आत्म चिंतन व आत्म विश्लेषण का विषय है। आइए हम सब इन विषयों पर चिंतन एवं विचार विमर्श करें और उत्तिष्ठत जाग्रतय् की कल्पना को साकार करें।

 - सत्य प्रकाश तिवारी, राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष

 

Belgaum, Karnataka North : Branch took up a unique project to celebrate 150th birth anniversary of Swamy Vivekanand. The branch has decided to present and install the idols of Swamyji at schools. Instead of erecting one statue of Swamiji at one place, we decided, the same may be installed at different places so that, more people would know about it and get inspiration from Swamiji. Accordingly, we got made six life size statues of Swamiji, in the first phase. These would be installed at six different schools. Fortunately for Belgaumaties, Swamiji stayed in Belgaum for 13 days and during that time he used to be in sitting posture for the tapsaya. Hence, at Ramkrishna Mission Ashram at Belgaum, the Swamiji's idol is in sitting position. We have adopted the same posture, as a speciality of Belgaum.

Pallavpuram, Hastinapur : Branch celebrated Swami Vivekanand Jayanti in Parivarik meeting on 11.01.2014. Prantiya Adhyaksh Major Satya Prakash Gaur attended the meeting. In Maharishi Dayanand Inter College free shoes were distributed among the students in the presence of Principal Dr. R.K. Singh. Sachiv Anand Gautam and school teacher Mr. Amit Kumar Chaturvedi organized the whole programme. Mr. K.K. Bhardwaj (Adhyaksh), Mr K.C. Bindal, Mr. Subhash Chand Chauhan, Mr. Jile Singh was present on the occasion.

Magadh Bihar : Swarna Jayanti Samaroh cum 150th birth anniversary of Swami Vivekanand was organised on 19.01.2014 at Dharma Shabha Bhawan. In this ceremonial function one Vikas Ratna and 12 Vikas Mitra were honored by the chief guest. The winner team of DAV Public School Cantt area who got 1st prize at Prant level and also participated at National Sanskrit Song Competition at National level at Patiala was also honoured and awarded the certificates by the chief guest. Miss Siwani Raj class 10th student of DAV Public School Cantt. area, the leader of song competition team was also honoured personally by Sri Dinesh Prasad Singh, Chairman, Jiwan Dayani Society, Prant Convener & Secy. Anugrahpuri Ideal Branch.

Gaya: A High School, in the name of Swami Vivekanand from class l to X on CBSE pattern, has been opened at Chandauti Area, Gaya and it has been inaugurated by Prof. (Dr.) Vishwanath Pd. Verma "Vikas Ratna" the Chief Patron of the Prant on 04-02-2014. On this very occasion Er. Jairam Singh, Er. Shyam Narayan Singh, Vice President of B.V.P., Sh. Saryu Prasad, Dr. D.K.Sharma & other members were present besides other local guardians.

Karimganj, Assam: On 12.01.2014, the concluding day of 150th Birth Anniversary of Swami Vivekanand executed a colorful Prabhat pherry along with Tableau of Swamiji with singing of devotional songs, patriotic songs, speeches of Swamiji. The Branch organised sit and draw competition among the students of different schools and colleges. Altogether 108 students participated in five different groups.

All the participants were felicitated with Medal, certificate of appreciation and a book on Swamiji. Apart from these who stood 1st, 2nd and 3rd in different groups were awarded with trophy. Miss Manika Paul, a renowned artist of Silchar adorned the chair of judge of the competition. The branch organised a Mosquito Net Distribution at village Sadarashi where 88 Medicated Mosquito nets were distributed to poor families. Branch also arranged a tri-cycle and wheel chair distribution camp on the premises of Karimganj College. The camp was inaugurated by Dr. Manash Das, Chairman, Municipal Board, Karimganj. At this camp one tri-cycle and two wheel chairs were handed over to the three needy disable persons of the locality. Parishad organised a discussion on the life of Swamiji at Karimganj College Auditorium. Secretary of the branch welcomed the house and along with the secretary other members also spoke on the life of Swamiji.

(Niti: Apr., 2014)


राष्ट्रहित में समाज के सभी वर्गों को एकजुट होकर कार्य करने की जरुरत : न्यायमूर्ति रमेश चंद्र लाहोटी
भारत विकास परिषद् का स्वर्ण जयंती समारोह

नयी दिल्ली; 7 जुलाई 2013
वर्तमान में देश के सामने अनेको चुनौतियां हैं। मातृभूमि के प्रति अपने कर्तव्यों का बोध कर सभी वर्गों के सामूहिक प्रयास से ही बेहतर परिणाम आएंगे। यह उदगार सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश माननीय न्यायमूर्ति रमेश चंद्र लाहोटी ने व्यक्त किए। वे इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में भारत विकास परिषद् के स्वर्ण जयंती समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे। न्यायमूर्ति लाहोटी ने चिंता जाहिर करते हुए कहा कि देश में अलगाव, भेदभाव एवं अनाचार की भावना बलवती होती जा रही है। समाज के सभी वर्गों को मानव धर्म को ही सर्वोपरि मानते हुए राष्ट्रीय भावना से कार्य करना होगा। तभी बेहतर परिणाम आएंगे और देश विकास पथ पर अग्रसर होगा। न्यायमूर्ति रमेश चंद्र लाहोटी ने भारत विकास परिषद् के जन-कल्याणकारी कार्यों की सराहना करते हुए ग्राम विकास के प्रति विशेष ध्यान देने की जरुरत बतलायी।

समारोह के विशिष्ट अतिथि, जम्मू-कश्मीर के पूर्व राज्यपाल श्री जगमोहन जी ने गिरते नैतिक मूल्यों पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि अच्छाई की बजाय बुराई मानव को अपनी ओर अत्यधिक आकर्षित करती है। उच्च नैतिक एवं मानवीय मूल्यों के प्रति दृढ़ता से जहां मानव अपना जीवन संवार सकता है वहीं देश एवं समाज के लिए भी उपयोगी साबित होगा। अपने अध्यक्षीय उदबोधन में भारत विकास परिषद् के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं हिमांचल प्रदेश के पूर्व राज्यपाल न्यायमूर्ति विष्णु सदाशिव कोकजे ने कहा कि हमारी सभ्यता एवं संस्कृति पर लगातार हमले हो रहे हैं। इससे हमारी परंपरा एवं रीति-रिवाज प्रभावित हो रहे हैं। अब तो विवाह जैसी संस्थाओं पर भी उंगली उठने लगी है। यह स्थिति घातक एवं चिंताजनक है। जीवन में संस्कार सबसे बड़ी पूंजी है। खासकर युवा वर्ग इसके महत्व को समझे और भारतीय सभ्यता एवं संस्कृति के अनुरूप कार्य करे।

भारत विकास परिषद् के राष्ट्रीय महामंत्री श्री सुरेन्द्र कुमार वधवा, आयोजक प्रांत भाविप दिल्ली प्रदेश उत्तर के मुख्य संरक्षक श्री महेश चन्द्र शर्मा एवं अध्यक्ष श्री राजकुमार जैन ने परिषद् की स्थापना, उद्देश्य एवं स्वर्णिम 50 वर्ष की गरिमामयी उपलब्धियों भरी विकासयात्रा पर विस्तृत प्रकाश डालते हुए लोगों को समाज उपयोगी कार्यों से जुडने को प्रेरित किया।

समारोह के दौरान भारत विकास परिषद् के संस्थापक सदस्यों के प्रति कृतज्ञता का भाव प्रदर्शित करते हुए परिषद् ने स्व डॉ सूरज प्रकाश के परिजनों,  डॉ. भाई महावीर, श्री प्रेम नाथ सेठ सहित पूर्व पदाधिकारियों एवं उनके परिजनों का पुष्पगुच्छ, शाल एवं मोमेंटो भेंटकर सम्मान किया। इस अवसर पर राष्ट्रीय कवि गजेन्द्र सोलंकी, कवियित्री ऋतु गोयल एवं स्निग्धा दास ने राष्ट्रीय भावना से ओत-प्रोत एक से बढकर एक काव्य प्रस्तुति से उपस्थित लोगों को भाव-विभोर कर दिया। समारोह के दौरान भाविप के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री भूपेन्द्र मोहन भंडारी एवं राष्ट्रीय वित्त मंत्री डॉ. के. एल. गुप्ता सहित बडी संख्या में अन्य पदाधिकारी एवं गणमान्य लोग उपस्थित रहे। समारोह का कुशल संचालन भाविप दिल्ली प्रदेश उत्तर के महासचिव श्री संजीव मिगलानी ने किया। राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष प्रो सत्य प्रकाश तिवारी ने सभी अतिथियों के प्रति आभार ज्ञापित किया।


शिवाजी, ग्वालियर, मध्य भारत उत्तर : 6 जनवरी 2013 को स्वामी जी के जीवन एवं आदर्शों पर आधारित प्रान्त स्तरीय निबंध प्रतियोगिता एवं इलोक्यूशन (वक्तृत्व कला) प्रतियोगिता के आयोजन में शाखा की प्रतिभागी साक्षी त्रिपाठी प्रान्त स्तर पर द्वितीय रहीं एवं वक्तृता में शाखा के प्रतिभागी श्रीकांत जोशी एम॰बी॰ए॰ (एम॰पी॰सी॰टी॰ कॉलेज) तृतीय रहे। विजेताओं को निगम आयुक्त श्री वेदप्रकाश शर्मा, प्रान्तीय संरक्षक वीरेन्द्र कुमार गोयल, राष्ट्रीय मंत्री अजय बंसल ने सम्मानित किया। 12 जनवरी को शाखा सदस्य 4 कि॰मी॰ लम्बी शोभायात्रा में शामिल हुये। यात्रा में लगभग 10 हजार शहरी एवं ग्रामीण लोग उपस्थित थे। संयोजक श्री विष्णु जैन रहे। स्वामी जी की मूर्ति स्थापना हेतु भूमि पूजन 21 जनवरी को स्थानीय चेतकपुरी गेट के सामने झाँसी रोड तिराहा पर मुख्य अतिथि श्री पाठक जी पुलिस अधीक्षक के सानिध्य में किया गया। श्री आर॰के॰ चोपड़ा प्रान्तीय अध्यक्ष, श्री वीरेन्द्र कुमार गोयल संरक्षक, सुभाष चन्द्र गुप्ता महासचिव, शाखा सचिव संजय धवन एवं अन्य सदस्यगण उपस्थित थे। 26 जनवरी को डी॰डी॰ मॉल के फूड कोर्ट में मासिक बैठक में राष्ट्रीय मंत्री विस्तार अजय बंसल ने सर्वप्रथम प्रान्त के प्रथम विकास रत्न श्री राजेन्द्रनाथ मेहरोत्रा के साथ वी॰के॰ गोयल, गोपाल दास लड्डा, अखिलेश पाण्डे, रिखब दास जैन तथा श्री राधाकिशन खेतान को प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया। तत्पश्चात् संस्थापक अध्यक्ष गोवर्धन दास सिंघल, पूर्व अध्यक्ष त्रिलोकचन्द्र सिंघल निवर्तमान अध्यक्ष राजीव वैश्य को प्रशस्ति पत्र देकर मुख्य अतिथि ने सम्मानित किया। संयोजक प्रेमनारायण अग्रवाल एवं शाखा सचिव ने सभी अतिथियों का सम्मान कर स्मृति चिह्न प्रदान किये।

झारखण्ड : स्वामी विवेकानन्द की 150वीं वर्षगांठ के शुभ अवसर पर 12 जनवरी 2013 को हजारीबाग स्टेडियम में एक विशाल आयोजन किया गया। 17 विद्यालयों तथा दो इण्टर महाविद्यालयों के भैया-बहनों ने भाग लिया। विद्यालय के बच्चों द्वारा घोष, विवेकानन्द से संबंधित झाँकियाँ तथा उनकी उक्तियों के उद्धरण की रंग-विरंगी तख्तियाँ हाथों में लिये निकाली जो दखते ही बनती थी। आयोजन के मुख्य अतिथि डॉ॰ मनीष रंजन, उपायुक्त (महा॰प्र॰स॰) रहे। सूर्य नमस्कार 12 जनवरी 2013 से तक 18 फरवरी तक हजारीबाग स्टेडियम में स्वामी विवेकानन्द सार्धशती आयोजन समिति एवं परिषद् द्वारा आयोजित किया गया। मुख्य अतिथि सीमा सुरक्षा बल के ब्रिगेडियर श्री गर्ग तथा विशिष्ट अतिथि विनोबा भावे विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार श्री सत्येश्वर प्रसाद रहे। डॉ॰ प्रो॰ श्रीमती रजनी शर्मा ने स्वामी विवेकानन्द की जीवनी एवं उनके द्वारा किये गये मुख्य कार्यों पर प्रकाश डाला।

उत्तराखण्ड पूर्व : स्वामी विवेकानन्द की उत्तरशताब्दी एवम् परिषद् के स्वर्ण जयन्ती वर्ष के उपलक्ष्य में एक विचार गोष्ठी का आयोजन प्रान्त द्वारा एम॰बी॰ डिग्री कॉलेज हल्द्वानी सभागार में किया गया। मुख्य अतिथि श्री गोविन्द सिंह कुंजवाल, विधान सभा अध्यक्ष रहे। विशिष्ट अतिथि श्री बंशीधर भगत विधायक कालाढूंगी, मुख्य वक्ता श्री शिव प्रकाश क्षेत्र प्रचारक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ थे। अध्यक्षता राष्ट्रीय महामंत्री सुरेन्द्र कुमार वधवा ने की। सभी वक्ताओं ने स्वामी विवेकानन्द के सिद्धान्तों पर चलने का आह्वान किया। संचालन प्रान्तीय महासचिव दीपक अग्रवाल ने किया। अतिथि परिचय विवेकानन्द जयन्ती शाखा संयोजक प्रदीप बिष्ट ने, स्वागतीय उद्बोधन शाखा हल्द्वानी अध्यक्ष डॉ॰ अतुल राजपाल ने तथा धन्यवाद प्रान्तीय संयोजक विवेकानन्द जयन्ती शिव अरोड़ा द्वारा किया गया। कार्यक्रम में राष्ट्रीय संयुक्त संगठन महामंत्री संजीव बंसल, श्रीमती नीलू वधवा आदि उपस्थित थे।

Swami Vivekanand (Jammu), Jammu & Kashmir : Organized a Rally at Golemarket Park Gandhi Nagar to mark the 150th birth anniversary of Swami Vivekanand and Golden Jubilee year of BVP. The rally was attended by about 150 members including ladies and children. Sh. Surinder Sethi, Branch President welcomed the members and thanked them for their support and participation in the rally. Dr. Santosh Gupta, National Convenor spoke on the role of Vivekanand in Indian culture. Sh. S.N. Sharma State Patron spoke on the achievements and activities of BVP. The programme was conducted by Sh. Arun Sharma.

Nabha, Punjab East : Branch erected three large hoardings in the town wishing all the citizens very happy 150th birth anniversary of Swami Vivekanand ji. Branch members also participated in a Shobha Yatra organized on this occasion. A lecture on Swami ji's life was delivered by Sh. Manjeet Singh at the Parivar Milan function on the occasion of Lohri.

Panchkula, Haryana North : Celebrated Swami ji's birth anniversary by joining hands with Vivekananda Samiti, on 9th January. An exhibition of pictures on Swami ji's life and teachings was put up in G.S.S.S. Sector-7 Panchkula. There after a slogan writing contest, declamation contest and quiz were organised and the students were given prizes in the shape of books written by Swami ji. On 12th January the Parishad joined rally that covered about 7 km distance passing through the main sector of Panchkula and ended in the Parishad Bhawan. On 22nd January again the branch put up the same exhibition in Govt. Girls College Sector-14 and held a quiz competition which was attended by nearly 200 students & staff. 

Navi Mumbai, Maharashtra-I : Branch conducted essay competition on the occasion of celebration of 150th birth anniversary of Swami Vivekanand in December 2012. The prize distribution function was organised on 24th February 2013 at Arya Samaj, Vashi, Navi Mumbai. The chief guest Dr. Jagdish Chandra Vyas, Senior Scientist from BARC, conveyed the message of Swami Vivekanand in brief to students. The gathering was about 350 including students, parents and members. Shri B.B. Rupani, President explained evaluation the methodology of essays. Shri Kantilal Thakker, Secretary, conducted the programme. Participation certificate, along with booklet on Swami Vivekanand was given to each student. The winners (first second and third rank in each category) were felicitated with prize and certificate. 

(Niti: Apr., 2013)


राजस्थान दक्षिण : स्वामी विवेकानन्द की स्मृति में सागवाड़ा व चीतरी सदस्यों के संयुक्त सहयोग से मोहल्ला घाटी गलियाकोट में कम्बल व राशन वितरण कार्यक्रम आयोजित किया गया। संचालन सागवाड़ा शाखा सदस्य राजु भाई बर्तनवाला ने किया।

‘विवेकानन्द’ उदयपुर : स्वामी जी की उत्तरशताब्दी के अवसर पर 1 जनवरी को विश्व हिन्दू परिषद् के प्रांगण में आयोजित ‘युवा संस्कार शिविर’ में 85 युवाओं, अभिभावकों व क्षेत्रीय नागरिकों ने भाग लिया। जिलाध्यक्ष  एम.जी. वार्ष्णेय ने प्रारम्भिक उद्बोधन में प्रतिभा पलायन के निराकरण हेतु उच्च शिक्षा के साथ भारतीय संस्कृति को आत्मसात् करने का आह्नान किया। चिन्तन सत्र में डॉ॰ प्रदीप कुमावत ने कहा कि शिक्षित युवाओं का विदेश पलायन उनके परिवार, समाज व राष्ट्र के लिए अपूर्णीय क्षति है। परीक्षाओं में उत्कृष्ट परीक्षाफल के लिए 22 विद्यार्थियों को उत्कृष्टता प्रमाण पत्र तथा पुरस्कार मुख्य अतिथि यशवन्त सोमानी, शिक्षाविद् श्यामलाल कुमावत ने दिये। अध्यक्षता राष्ट्रीय को-चेयरमैन डॉ॰ मदन गोपाल वार्ष्णेय ने की। विशिष्ट अतिथि प्रान्तीय महासचिव जयराज आचार्य थे।

गणतंत्रता दिवस की पूर्वसंध्या पर विवेकानन्द शाखा के तत्वावधान में 2 जनवरी को सुभाषनगर रावत बस्ती में झण्डा वितरण कार्यक्रम आयोजित किया गया। मुख्य अतिथि नगर परिषद् उद्यान समिति अध्यक्ष सत्यनारायण मोची व समाजसेवी जिनेन्द्र शास्त्री द्वारा विद्यार्थियों को 101 राष्ट्रध्वज वितरित किये गये। विशिष्ट अतिथि श्री एच॰जी॰ गुप्ता के द्वारा 60 विद्यार्थियों को स्टेशनरी किट वितरित किए गए। अध्यक्षता प्रान्तीय उपाध्यक्ष डॉ॰ भंवर हीरावत ने की।

भीलूड़ा : 12.01.2013 को गाँव में स्वामी जी की 150वीं जयन्ती पर गाँव की समस्त शिक्षण संस्थाओं के संयुक्त तत्वावधान में विद्यानिकेतन विद्यालय परिसर में समस्त विद्यालय स्टॉफ व छात्र/छात्राएँ एकत्रित हुए व छात्रों द्वारा रैली निकाली गई। गाँव के मुख्य बाजार से गुजरता जुलूस एक विशाल सभा में परिणत हो गया। शाखा अध्यक्ष नरेन्द्र पण्डया, मुख्य अतिथि प्रान्तीय अध्यक्ष मोहनलाल सूत्रधार थे। विशिष्ट अतिथि श्रीमती सुनिता जैन रहीं। संचालन श्री नरेन्द्र भगत ने किया। 10.01.2013 को रा॰मा॰ विद्यालय सेमलिया में गुरुवंदन छात्र अभिनन्दन समारोह मनाया गया। भीलूड़ा बालिका उ॰मा॰ विद्यालय में उपस्थित 62 छात्राओं का भी संस्था प्रधान महोदय ने आगन्तुक भाविप सदस्यों व छात्राओं का स्वागत किया। स्वामी विवेकानन्द का साहित्य वितरित किया गया। कार्यक्रम का संचालन राजेन्द्र स्वर्णकार ने किया।

मेन जोधपुर, राजस्थान पश्चिम : ‘‘स्वामी विवेकानन्द के विचारों से आज के युवाओं को संदेश एवं प्रेरणा’’ विषय पर कक्षा 9 से 12वीं तक के विद्यार्थियों के लिये आयोजित निबंध प्रतियोगिता में बादलचन्द सुगनकँवर बालिका प्रथम, राजकीय महात्मा गाँधी स्कूल द्वितीय तथा आर॰के॰ पब्लिक स्कूल तृतीय स्थान पर रहे। स्काउट्स एवं गाइड्स रैली में शाखाध्यक्ष श्री सुरेन्द्र व्यास को स्र्काफ पहनाकर सम्मानित किया गया।

हम्मीर (सवाई माधोपुर), राजस्थान पूर्व : 06.01.2012 को स्वामी विवेकानन्द के उत्तरशताब्दी वर्ष के उपलक्ष्य में आयोजित एक संगोष्ठी में मुख्य वक्ता डॉ॰ भरत लाल मथुरिया एवं शाखा सह-सचिव आलोक जैन ने स्वामी जी के व्यक्तित्व पर प्रकाश डाला एवं बच्चों में कु॰ अक्षिता जैन एवं अक्षत जैन ने भी विचार व्यक्त किये। प्रान्तीय समूहगान प्रमुख श्री रामावतार गौतम, प्रान्तीय वनवासी सहायता प्रमुख श्रीराम चैधरी तथा जिला मंत्री निर्मल जैन उपस्थित रहे।

रावतभाटा, राजस्थान दक्षिण पूर्व : स्वामी विवेकानन्द जयन्ती के उपलक्ष्य में 12 जनवरी 2013 को दशहरा मैदान से आरंभ होकर मानव मन्दिर तक एक शोभायात्रा निकाली गईं। परिषद् द्वारा किए गए कार्यों की झाँकी प्रदर्शित की गई। अन्य हिन्दूवादी संगठनों ने भी अपनी झाँकियाँ प्रदर्शित कीं। 13 जनवरी को आर्य समाज परिसर में विवेकानन्द साहित्य, जीवनी व शिकागो सम्मेलन की प्रदर्शनी आयोजित हुई। प्रदर्शनी का उद्घाटन (परमाणु ऊर्जा विभाग पानी संयंत्र, के उप महाप्रबंधक) डी॰सी॰ श्रीवास्तव ने किया। अध्यक्षता डी॰सी॰ शर्मा ने तथा संचालन मुकेश शर्मा ने किया। 23 जनवरी 2013 को रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया, जिसमें 42 यूनिट रक्तदान हुआ। विद्यार्थियों को पथ संचलन में अल्पाहार वितरण शाखा के सौजन्य से किया गया। विद्यार्थियों व अध्यापकों को स्वामी विवेकानन्द की ‘आनंदमठ’ (नागपुर से प्रकाशित) की 151 पुस्तकें निःशुल्क वितरित की गईं। ‘स्वामी जी का राष्ट्रहित में योगदान’ विषय पर स्थानीय विद्यालयों के चयनित कनिष्ठ व वरिष्ठ वर्ग के विद्यार्थियों की भाषण प्रतियोगिता का आयोजन भी किया गया। स्वामी जी के कृतित्व एवं दिग्दर्शन पर लेख संकलन कर उसकी 1000 प्रतियाँ निःशुल्क बांटी गई।

छीपाबड़ौद (बारां) : विवेकानन्द जी की 150वीं जयन्ती के उपलक्ष्य में संदेश एवं चित्र छपे हुये 31 होर्डिंग चौराहों पर लगवाये गये। 12 जनवरी 2013 को विवेकानन्द जयन्ती के उपलक्ष्य में एक भव्य शोभायात्रा निकाली गई। शोभायात्रा का कस्बे वासियों ने पुष्पवर्षा से स्वागत किया। पूर्व स्वायत शासन मंत्री प्रतापसिंह सिंघवी व पूर्व जिला प्रमुख श्री भरतलाल बाठला द्वारा पुष्पवर्षा कर स्वागत किया गया तथा सभी सदस्यों के अतिरिक्त लगभग 200 स्कूल के बच्चों, महिलाओं, पुरुषों ने भाग लिया।

‘विवेकानन्द’ भीलवाड़ा, राजस्थान मध्य : स्वामी विवेकानन्द की 150वीं जयन्ती पर मनाये जा रहे सप्ताह के अन्तर्गत राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में एक कार्यक्रम आयोजित कर उपस्थित छात्रों को विवेकानन्द जी के चरित्र के बारे में बताया गया और उनके आदर्शों को अपनाने का संकल्प दिलाया गया। शिविर में विद्यालय के प्रधानाचार्य को वाचनालय हेतु साहित्य भी भेंट किया गया। 25 दिसम्बर को शास्त्रीनगर स्थित सूर्यमहल में स्वामी जी सार्ध शताब्दी समारोह समिति द्वारा संकल्प दिवस मनाया गया। संयोजिका कीर्ति बोरदिया ने बताया कि इस मौके पर करीब 300 से अधिक महिलाओं ने स्वामी विवेकानन्द के उद्देश्यों को जन-जन तक पहुँचाने और उनसे प्रेरणा ग्रहण करने का संकल्प लिया।

बीकानेर, राजस्थान उत्तर : स्वामी जी की 150वीं जयन्ती के अवसर पर वेटरनरी विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ॰ ए॰के॰ गहलोत ने विवेकानन्द के कृतित्व एवं व्यक्तित्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि आज आवश्यकता इस बात की है कि हम स्कूल से लेकर महाविद्यालय स्तर पर स्वामी विवेकानन्द के आदर्श ‘उठो और जागृत हो’ का अक्षरशः पालन कर भारत के सुनहरे अतीत को पुनः स्थापित करे। मुख्य वक्ता डॉ॰ प्रभा भार्गव थीं। सचिव डॉ॰ एस॰एन॰ हर्ष ने स्वामी विवेकानन्द के संदर्भ में किए जा रहे कार्यों की जानकारी प्रदान की। क्षेत्रीय संरक्षक डॉ॰ ज्ञान प्रकाश भटनागर ने स्वामी जी के खेतड़ी में बिताए हुए दिनों की विस्तृत जानकारी प्रदान दी। डॉ॰ बसन्ती हर्ष ने मकर संक्रान्ति एवं लोहड़ी पर्व की सांस्कृतिक विरासत एवं उनके मनाये जाने के संदर्भ में जानकारी प्रदान दी।

लोसल, राजस्थान उत्तर पूर्व : स्वामी जी की जयन्ती के उपलक्ष्य में शाखा द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किया गया। सार्द्धशती के उपलक्ष में गढ़ चौक का नामकरण स्वामी विवेकानन्द चौक रखा गया। श्री सिद्ध विनायक मन्दिर से विवेकानन्द चौक तक विशाल रैली निकाली गई। इसमें 10 शिक्षण संस्थाओं के विद्यार्थियों ने भाग लिया। आशीर्वचन देते हुए वैदिक आश्रम पिपराली के स्वामी सुमेधानन्द जी महाराज ने कहा कि संस्कार के चार स्थान हैं: माँ की गोद, घर का आंगन, घर की गली व शिक्षण संस्था। अध्यक्षीय उद्बोधन में शेखावटी महाविद्यालय के प्रिंसिपल डॉ॰ अखिलानंद पाठक ने स्वामी विवेकानन्द के आदर्शों को जीवन में आत्मसात करने की अपील की। ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष चिरागुद्दीन कारीगर, नगर पालिका अध्यक्ष गोविन्द राम विजाणियाँ, लक्ष्मणगढ़ के पूर्व विधायक के॰डी॰ बाबर, नपा उपाध्यक्ष प्रहलाद राय सोनी अध्यक्ष वैद्य दिनेश शर्मा महासचिव अवधेश शर्मा, सचिव कैलाश चन्द सोनी, कोषाध्यक्ष आत्माराम सोनी सहित कई लोग मौजूद थे।

अलवर : 6 जनवरी को मंगल परिणय ग्राउण्ड पर एक भव्य मेले का आयोजन किया गया। मुख्य आकर्षण स्वामी जी के साहित्य की प्रदर्शनी, बिक्री व स्वामी जी के स्लोगन बैनर के साथ महापुरुषों पर विचित्र वेषभूषा, स्वादिष्ट खान-पान, खेल व डिस्पले स्टॉल थे। कड़ाके की ठण्ड के बावजूद शहर के लगभग 4000 गणमान्य नागरिकों ने भाग लिया। मेले से लगभग 1.50 लाख की आय हुई। 11-13 जनवरी तक चौराहों पर स्वामी जी के बड़े-बड़े होर्डिंग व स्लोगन बैनर लगवाए गए। सदस्यों व स्कूलों के लगभग 500 विद्यार्थियों द्वारा शोभायात्रा निकाली गई। युवा दिवस पर आई॰एम॰ए॰ हॉल में चल वैजयन्ती अन्तर्महाविद्यालयी हिन्दी वाद-विवाद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि एड्वोकेट क्रान्ति चन्द्र मेहता थे। शाखा अध्यक्ष द्वारा जिलाधीश को पत्र लिखकर प्रयास किया गया है कि सन् 1893 में अलवर प्रवास के दौरान स्वामी जी जिस कमरे में रहे व उन्होंने जिस स्थान से व्याख्यान दिये उन स्थानों की मरम्मत कराकर दर्शनार्थियों हेतु खोले जाने पर स्वामी जी के साहित्य का पुस्तकालय बनाया जा सकता है।

बहरोड़ (अलवर) : 12.01.2013 को स्वामी जी का सार्द्धशती समारोह बड़े उत्साह से मनाया गया। लोगों में ‘भारत जागो विश्व जागाओं’ की भावना जाग्रत की व स्वामी जी के जीवन एवं प्रेरक प्रसंगों का प्रचार-प्रसार किया गया। अध्यक्ष दीवान सिंह सचिव रोहताश गुप्ता, कोषाध्यक्ष जयराम यादव, डॉ॰ आशुतोष विमल आदि सदस्य उपस्थित रहे। 14.01.2013 को मकर संक्रान्ति पर्व पर अलग-अलग स्थानों पर गौ सेवा शिविर लगाकर गऊ ग्रास एकत्रित किया गया। इस अवसर पर एकत्रित एक लाख पिचासी हजार रुपये राठ क्षेत्र में स्थित दहमी गौशाला में दिया गया। लगभग 50 हजार रुपये की एकत्रित खाद्य सामग्री गौशाला में भिजवाई गईं। संयोजक श्री सतीश गुप्ता रहे।

विवेकानन्द, हिसार, हरियाणा पश्चिम : स्थानीय लाहौरिया चौक पर ‘स्वामी विवेकानन्द’ की प्रतिमा पर अनेक गणमान्य व्यक्तियों सहित माल्यार्पण किया गया तथा प्रसाद वितरण भी किया गया। इस संबंध में मिडटाउन गै्रन्ड में देशभक्ति से परिपूर्ण भव्य सांस्कृतिक संध्या का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की प्रस्तुति दिल्ली से आए प्रसिद्ध कलाकारों द्वारा की गई। श्री अरशिन्दर सिंह चावला, आई॰जी॰ हिसार रेंज मुख्य अतिथि रहे। अध्यक्षता यशपाल गुप्ता राष्ट्रीय मंत्री वनवासी सहायता योजना ने की। श्री अमरदीप जैन एच॰सी॰एस॰ सिटी मजिस्ट्रेट, डॉ॰ कमल गुप्ता एम॰एस॰ समाजसेवी विशेष रूप से उपस्थित थे। राजेश जैन तथा अमर गोयल ने शाखा की ओर से यशपाल गुप्ता राष्ट्रीय मंत्री को वनवासी सहायता हेतु  `22000/- का चैक भी प्रदान किया।

हाजीपुर, पंजाब उत्तर : विश्व ख्याति प्राप्त अन्तर्राष्ट्रीय संत स्वामी विवेकानन्द की 150वीं जयन्ती शाखा के तत्वावधान में मनाई गई। अध्यक्षता लाला देवेन्द्र कौशल एड्वोकेट तथा स्कूल की प्रधानाचार्य मधु शर्मा ने की। भाषण प्रतियोगिताएं विभिन्न स्कूलों के मध्य हुईं। अध्यक्ष चौ॰ बंसी लाल प्रिंसिपल, महामंत्री जीत सिंह, जिला अध्यक्ष कमाण्डर संसार चन्द शर्मा आदि वक्ताओं ने स्वामी जी की धर्म व राष्ट्र के प्रति सेवाओं के बारे में भरपूर चर्चा की और परिषद् ने एक प्रस्ताव पारित करके केन्द्र सरकार के गृहमंत्रालय को भेजा कि उत्तरी भारत के किसी राज्य में स्वामी विवेकानन्द विश्वविद्यालय की स्थापना की जाए।

गुरदासपुर, दीनानगर : स्वामी विवेकानन्द हाई स्कूल में शाखा प्रधान की अध्यक्षता में 150वां स्वामी जी का जन्म दिवस मनाया गया। छात्राओं ने स्वामी विवेकानन्द पर भाषण दिया। प्रधान कुलदीप, सचिव विनोद कुमार, राधेश्याम एवं स्कूल स्टॉफ मौजूद थे।

मनीमाजरा चन्डीगढ़, पंजाब पूर्व : स्वामी जी की उत्तरशताब्दी के उपलक्ष्य में भारत जागो विश्व जगाओ के पावन लक्ष्य के साथ वर्ष 2013 में संकल्प दिवस का आयोजन श्री ठाकुर द्वारा मन्दिर माडर्न हाऊसिंग काम्प्लेस में किया गया। डॉ॰ बी॰आर॰ शर्मा प्रधान श्री प्रमोद आहूजा सचिव, श्री धर्मपाल शर्मा कोषाध्यक्ष, श्री ओ॰पी॰ चन्देल उप-प्रधान ने अपना पूर्ण सहयोग दिया। संकल्प दिवस में लगभग 150 लोगों ने भाग लिया। उत्तरशताब्दी के उपलक्ष्य में 'Aid To Needy' कार्यक्रम का आयोजन 08. से 10.01.2013 तक मनसा देवी मन्दिर, रेलवे स्टेशन तथा काली माता मन्दिर चन्डीगढ़ में किया, जिसमें 125 कम्बल वितरित किये गये। इस आयोजन हेतु अन्य दानियों के अलावा श्रीमती सोनिया शर्मा ने ` 5000/- राशि का दान दिया। शोभा यात्रा का भी आयोजन पूरे शहर में किया गया। शहरवासियों द्वारा जगह-जगह लंगर का भी आयोजन किया गया।

शिवपुरी, गया, मगध बिहार : विवेकानन्द की 150वीं जयन्ती रैपिड कोचिंग संस्था, ए॰पी॰ कॉलोनी के सभागार में मनाई गई। समारोह में मुख्य अतिथि प्रो॰ डॉ॰ रामसरेख सिंह विभागाध्यक्ष, (दर्शन शास्त्र, मगध विश्वविद्यालय) तथा विशिष्ट अतिथि श्री जयकुमार पालित (भूतपूर्व विधायक) ने स्वामी जी के जीवन पर प्रकाश डाला। काफी संख्या में छात्र तथा छात्राओं ने स्वामी जी की जीवनी पर भाषण दिया। अध्यक्ष  डॉ॰ अभय सिम्बा तथा प्रान्तीय अध्यक्ष जयराम सिंह ने स्वामी जी के दर्शन के विषय में अपना-अपना विचार रखा। 51 सदस्य बनाने के उपलक्ष्य में इस शाखा को केन्द्र द्वारा आदर्श शाखा घोषित किया गया।

बोकारो स्टील सिटी, झारखण्ड : शाखाओं द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित स्वामी जी की 150वीं जयन्ती 12.01.2013 को सम्पन्न हुई। श्री विनयतोष मिश्रा, उप-महानिरीक्षक केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षाबल, कार्यक्रम के मुख्य अतिथि रहे। संचालन त्रिलोकी नाथ टण्डन एवं श्रीमती कुंजला नारायण ने किया। स्वागत भाषण अनिल त्रिपाठी (अध्यक्ष) ने दिया।

ग्वालियर, मध्य भारत उत्तर : ‘उठो जागो और तब तक मत रुको जब तक चरम लक्ष्य प्राप्त न हो जाए’ विवेकानन्द जी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए यह बात डॉ॰ दिवाकर विद्यालंकार ने आयोजित वक्तृत्व स्पर्ध में विशिष्ट अतिथि के रूप में कही। मुख्य अतिथि नगर निगम कमिश्नर वेद प्रकाश ने युवाओं को विवेकानन्द को प्रेरणा स्रोत बनने की बात कही। वक्तृत्व स्पर्धा में महारानी लक्ष्मीबाई कॉलेज, भगवत सहाय डिग्री कॉलेज, माधवराव सिंधिया विज्ञान महाविद्यालय और महाराणा प्रताप इंस्टीट्यूट आदि संस्थाओं के 12 युवाओं ने भाग लिया। अध्यक्ष आर॰के॰ चोपड़ा, महासचिव सुभाष चन्द गुप्ता और संयोजक अश्वनी माहेश्वरी सहित अनेक सदस्य उपस्थित रहे।

शिवाजी, ग्वालियर : स्वामी जी के जीवन और आदर्शों पर आधारित निबंध् प्रतियोगिता 15.12.2012 को विद्यालय स्तर पर आयोजित की गई।

धार, मध्य भारत पश्चिम : स्वामी विवेकानन्द जयन्ती के शुभ अवसर पर मूक-बधिर विद्यालय पर चित्रकला प्रतियोगिता की गई, जिसमें 78 बच्चों ने भाग लिया। 19.01.2013 को एक शोभायात्रा का आयोजन विवेकानन्द केन्द्र के साथ मिलकर व्याख्यान माला का आयोजन किया गया। मुख्य वक्ता दैनिक स्वदेश के श्री लोकेश पाराशर थे। शाजापुर में हुए प्रान्तीय सम्मेलन में शाखा को चिकित्सा एवं स्वास्थ्य के क्षेत्र में नेत्रशिविर के श्रेष्ठ प्रदर्शन का पुरस्कार दिया गया।

किदवई नगर, कानपुर, ब्रह्मावर्त : 12 जनवरी 2013 को स्वामी जी की 150वीं जयन्ती पर एक शोभा यात्रा संत पथिक विद्यालय के बच्चों द्वारा निकाली गयी। जिसमें विद्यालय के बच्चों/अध्यापिकाओं और प्रान्तीय व शाखा स्तरीय पदाधिकारियों ने भाग लिया। स्वामी जी के जीवन पर एक गोष्ठी भी आयोजित की गयी जिसमें विद्यालय के छात्र/छात्राओं ने स्वामी विवेकानन्द के जीवन चरित्र एवं उनके आदर्शों पर अपने विचार प्रकट किये। श्री प्रमोद दादू ने ‘स्वामी जी का जीवन बच्चों के लिए कितना उपयोगी है’ पर प्रकाश डाला। 13 जनवरी को एक विचार गोष्ठी का आयोजन महाराजा अग्रसेन भवन में किया गया। गोष्ठी की संयोजिका डॉ॰ आशा त्रिपाठी पूर्व प्राचार्या महिला महाविद्यालय थीं। कार्यक्रम को रोचक बनाने के लिये श्री प्रमोद दादू द्वारा स्वामी जी के जीवन पर आधारित प्रश्नों पर श्रोताओं के बीच एक प्रतियोगिता भी आयोजित की गयी, जिसमें उत्तर देने वालों को पुरस्कृत किया गया।

गोविन्द, कानपुर : विवेकानन्द उत्तरशताब्दी एवं लोहड़ी पर्व बड़ी धूम-धाम से मनाया गया। राहगीरों तथा रिक्शाचालकों के लिये चाय तथा ब्रेड वितरण कार्यक्रम किया गया। शाखा अध्यक्ष श्रीमती रमा खन्ना, सचिव श्रीमती मीनाक्षी दुआ, कमल गुप्ता, सुरेन्द्र बाजपेयी आदि सदस्य उपस्थित थे। केन्द्रीय पदाधिकारियों में महेश चन्द्र, प्रमोद दादू, सुरेन्द्र खन्ना उपस्थित थे तथा प्रान्त की ओर से अध्यक्ष हरीक्ष बजाज महासचिव एम॰एल॰ अग्रवाल उपस्थित थे।

गंगा मीरजापुर, काशी प्रदेश : शाखा के तत्वावधान में स्वामी जी की उत्तरशताब्दी एवं परिषद् का स्वर्ण जयन्ती वर्ष समारोह सम्पन्न हुआ। मुख्य अतिथि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रान्तीय प्रचारक श्री अभय रहे। अपने अभिभाषण में अभय जी ने स्वामी जी के जीवन पर सजीव वृत्त खींचा। वक्ता के रूप में मनोज मैनी, प्रान्तीय सचिव रमेश चन्द्र मालवीय ने परिषद् की ध्येय लक्ष्य एवं परिकल्पना पर विस्तृत रूप से प्रकाश डाला। महिला संयोजिका श्रीमती दिव्या गुप्ता ने भारत को जानो प्रतियोगिता की विस्तृत रूपरेखा प्रस्तुत की। अन्त में डॉ॰ जे॰के॰ जायस्वाल ने सभी आगन्तुकों को धन्यवाद दिया। संचालन श्री अनुराग त्रिपाठी ने किया।

अवध प्रदेश : शाखाओं तथा प्रान्त द्वारा स्वामी जी का 150वां जन्म दिवस समारोह 12-13 जनवरी 2013 को मनाया गया। पुलिस लाइन से रामकृष्ण मठ तक शोभा यात्रा निकाली गयी। विश्वसंवाद केन्द्र में एक गोष्ठी का आयोजन श्री शिवशरण अस्थाना, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष की अध्यक्षता में सम्पन्न हुआ। प्रो॰ भूमित्र दवे कुलपति मुख्य अतिथि थे। रायबरेली द्वारा कवि गोष्ठी का आयोजन किया गयां गोरखपुर शाखा द्वारा 2 चिकित्सा शिविर लगाये गये। बहराइच शाखा द्वारा निर्धनों को 351 कम्बल वितरित किये गये। रसिया शाखा द्वारा थाने से विद्यापीठ चौराहे पर स्वामी जी के चित्र पर फूलमाला पुष्प अर्पण के साथ ही उनके संदेशों का प्रचार, जन सम्पर्क किया गया तथा सरस्वती विद्या मन्दिर स्कूल में नेत्र परीक्षण, दन्त परीक्षण एवं चिकित्सा शिविर लगाया गया। लखनऊ की मानसरोवर शाखा द्वारा दीनबन्धु राजनारायण चिकित्सा शिविर में 45 मरीजों को फल वितरित किये गये। लखनऊ की समर्पण शाखा द्वारा जानकीपुरम के एक अस्पताल तथा एक स्कूल में फल वितरण कार्यक्रम किया गया। परमहंस शाखा द्वारा 8 विद्यालयों में स्वामी जी के चित्र लगाये गये व उनका साहित्य बांटा गया।

‘ग्रेटर’ सहारनपुर, हस्तिनापुर : 12 जनवरी 2013 को स्वामी जी की उत्तरशताब्दी जयन्ती के अवसर पर एक विशाल रैली निकाली गयी। रैली में नगर के प्रमुख समाजसेवी, नागरिक, नगर विधायक राघव लखनपाल, नगरपालिका चेयरमैन व परिषद् के प्रान्तीय व जिला दायित्वधारियों द्वारा भाग लिया गया। रैली में स्वामी जी के जीवन से सम्बंधित  11 झाँकियों के साथ प्रत्येक सदस्यों के हाथ में स्वामी के वाक्यों की पट्टी थी।

बुढ़ाना, मुजफ्फरनगर : 12 जनवरी 2013 को स्वामी विवेकानन्द जयन्ती बडे़ हर्षोल्लास के साथ मनाई गई। गणतंत्र दिवस कार्यक्रम मन्दिर चाँदनी वाला प्रांगण में मनाया गया। माँ शाकुम्भरी जयन्ती महोत्सव श्रद्धापूर्वक मनाया गया। मन्दिर को फलों एवं फूलों से सजाया गया।

संस्कार सिकन्द्राबाद, पश्चिमी उत्तर प्रदेश : स्वामी जी का 150वां जन्मदिन उत्साहपूर्वक आयोजित किया गया। नगर में भव्य शोभायात्रा निकाली गयी। स्थानीय प्रकल्प के तहत स्वामी जी सम्बन्धित पुस्तकालय एवमं वाचनालय का शुभारम्भ भी किया गया। शाखा अध्यक्ष हरसरण शर्मा, उपाध्यक्ष दीनदयाल गोयल, प्रो॰ विजय सिंह, सचिव डॉ॰ आर॰के॰ गुप्ता, कोषाध्यक्ष शिव प्रकाश, महिला संयोजिका माधुरी गर्ग सहित 50 सदस्यों ने माल्यार्पण किया।

उत्तराखण्ड पश्चिम : प्रान्त द्वारा एम॰डी॰डी॰ए॰ द्वारा बने पार्क में स्वामी जी की मूर्ति स्थापना व पार्क का नाम स्वामी विवेकानन्द वाटिका रखा गया। साथ ही 150वीं जयन्ती पर प्रान्त की विभिन्न शाखाओं के माध्यम से सांस्कृतिक कार्यक्रम मनाया गया। मुख्य अतिथि राष्ट्रीय महामंत्री एस॰के॰ वधवा जी रहे। श्री ओहरी ने नीति प्रकाशन तथा प्रा॰ संगठन मंत्री विमल नौटियाल ने अपने विचार रखे। इस अवसर पर संरक्षक श्री हरबंस कपूर द्वारा निर्धनों को कम्बल भी वितरित किये गये। संयोजक श्रीमती सविता कपूर रहीं। प्रान्तीय महासचिव श्री मधुसूदन अग्रवाल ने सभी शाखाओं का धन्यवाद किया तथा राष्ट्रीय महामंत्री का विशेष तौर पर धन्यवाद किया।

Pallavpuram, Hastinapur : Celebrated Swami Vivekanand jayanti by organising family get-together. Members presented bhajan, kavita, speech etc. Members from Prant were also present.

Satyam, Varanasi, Kashi Pradesh : On the birth anniversary of Swami ji (12.01.2012) members assembled at Vivekanand Park Nadesar and paid their shradha suman. Prant also organised a rally from Sampurnanand University to Vivekanand Park and held a grand programme in which chief guest was Shri Arun Kumar (Akhil Bhartiya Sah Sampark Pramukh RSS) and guest of honour was Shri Varisthanand from Shri Ram Krishna Mission. Print and electronic media also covered the proceedings.

Ganga Mirzapur : Celebrated Swami ji's 150th anniversary and 50 years of BVP by organising a rally on 12 December with the help of सार्ध सदी समारोह समिति. 500 students of various schools participated.

Chandigarh South-I, Punjab East : Organized a Sankalp Diwas on December 25, 2012 in connection with 150th birth anniversary of Swami ji. Shri K.L. Chauhan, Secretary (Audit) Zone-I conducted the programme and Prof. Jai Parkash (Retd.) Punjab University delivered a talk on the life of Swami Vivekanand.

Patiala (Bhagat Singh) : On the occasion of 150th birth anniversary of Swami ji & Yuva Diwas organised a seminar on the life and teachings of Swami ji. A lecture was delivered by Sh. Bharti an educationist. The students were also given booklets 'Narendernath se Vivekanand'. A quiz was conducted and prizes given to the winners.

Nangal, Ropar :  Branch celebrated Swami Vivekanand jayanti year on 31.01.2013 at Govt. Shivalik College Nangal. 3 students were honoured for their contribution on Vivekanand. Prizes were given to students who participated in quiz. Books on Swami ji were also given to lecturers and students.  

Samana : Branch celebrated Swami Vivekanand brithday on 12 January 2013. On this occasion sweets, fruit and clothes were distributed among the poor children. State Convener Vijay Dawar, President Krishan Goel, Secretary Rajinder Parshad, and many other members were also present.

Hajipur, Punjab North : The function was held in Govt. Girls High School Hajipur. Four students took part in the debate on Swami ji. Prof. Harsh Mehta & Radhey Sham were the guest speakers. Distt. President Hoshiarpur Comdr. Sansar Chand Sharma was the special invitee.

Bijainagar (Ajmer), Rajasthan Central : Swamiji's b'day was celebrated at Pragya College with Dr. Mahesh Chandra Sharma Ex-State President of BJP & Ex-Rajyasabha member as chief guest. Balraj Acharya National Convenor and Mukun Singh Rathore Prantiya Mahasachiv were hon'ble guests.

Branch organised a Vishal Ayurvedic, Surgical camp for piles, fistula at Mahaveer Bhawan. 174 registration & 110 operations were done by Dr. Ramashankar Pachhori. S.S. Jain President Mangalam Cement; Rajeev Jain (CEO) RSWM (Mayur Mill) Sh. Kishan Gopal Kogta Ex MLA, Masudadharmi Chand Khtore (Chairman Bijainagar) and others attended the camp.  

Kotputli, Rajasthan North East : On the occasion of 150th birth anniversary of Swamiji branch organised a blood donation camp and collected 126 units of blood. Mukesh Goyal Zila Adhyaksh (Jaipur), Dr. Vasudev Gupta, and others volunteered their services. Fruits, juices & refreshment was distributed among donors.

Odisha : Prant organized the celebration on 12th January among school children. Prof. D.D. Mishra, Shri S.N. Panda and the senior members of all three city branches alongwith Prant President & General Secretary were present in the school. Morning Surya Namaskar was done in Vani Vihar High School. School children went for a Prabhat Phery (Procession) on the city roads. A lecture was delivered by Prof. D.D. Mishra and Shri S.N. Panda alongwith member Shri K.M. Acharya and Prant President G.P. Mishra who advised children to follow the certain principles and idealism of Swami ji like Love for mother land and mother tongue and the Sanatan Dharma. To achieve the success in life you have to have concentration and strong determination for the work. To fix the target and aim of life from a tender age one should be firm in thinking and mind. Advised to pay proper respect to parents and teachers throughout the life and love for the country and own culture. The Head Master of the school Dr. Laxmidhar Behera was very enthusiastic, energetic and eager to co-operate in all the programmes of the Parishad.

Agartala East & West, Tripura : branches celebrated 150th birth anniversary of the Swami ji on 12th January 2013 jointly with Tripureshwar Shishu Mandir taking out a colourful procession, decorated Van with flags, festoon, pictures and the prominent messages of the great warrior to the nation of Bharat. Small children wore different types of dresses like the Bharat Mata, dress of Vivekanand along with members of BVP, renowned educationists and social workers. In the evening a cultural programme was held at the residence of Smt. Jabadhar, Zonal Secretary at 'Bishranti' Joynagar. Shri Dhirendra Kalai State President presided. Melodious songs related to Swami ji were sung by Smt. Chitra Sarkar & Smt. Suchitra Bhattacharyya.

Karimganj, Assam : In the first week of January 2013 the Parishad hung the photos of Swami ji with his assertions at different places of the town. On 12th January 2013 a prabhat Pheri with a tableau of Swami ji was taken out singing patriotic and devotional songs. The statue of Swami ji at Bridge road was garlanded by office bearers. In the evening, a cultural programme was organized at Karimganj College inaugurated by Swami Bhakti Pravanand ji of Ramakrishna Math & Mission, Karimganj. He also spoke on the life of Swami ji and its relevance in the current age. Reputed artists of this town participated in the programme.

Manukota, A.P.West : Branch members along with R.S.S., A.B.V.P. Rotary Club of Mahabubabad and Padma Shali Yuva Sena organised a rally of about 100 vehicles with saffron flags. Smt. A. Rama Devi, Sub Divisional Police Officer garlanded Swami ji photo and Dharma Jagaran Pravachak Shri Jaganmohan lit the Jyoti. Smt. Rama Devi said youth has to leave the fear, then only we can reach the goal and we have to take the ideas of Swami ji into the public. Many elite of the town were present in the meeting.

Bangalore, Karnataka South : The function of Swami Vivekanand's 150th birthday started with the assembly of all Vikas Bandhus led by Justice Vishnu Sadashiva Kokje at Ramakrishna Mutt Bangalore on 6th January 2013 wherein in the august presence of Sri Sri Harshananda Maharaj ji, pooja and arthi were performed. A grand rally of school children of all age groups, scouts and guides and Vikas Bandhus, all holding placards, banners of BVP displaying Swami Vivekananda's images was taken out from Freedom Park. It culminated in the Centenary Hall of Gubbi Totadappa, the venue of the function. The rally was led by Justice Kokje, Shri C.N.N. Raju, Shri K.S. Revanna, Shri Durgadas Bhandarkar, Shri B.V. Rao and others well organized by General Secretaries of Karnataka North and South respectively. The function was presided over by Justice Dr. M. Rama Jois MP. Shri Jagadish M. Malagi General Secretary, Karnataka North welcomed the gathering. Shri P.R. Ananda Rao, veteran member and one of the founders of BVP Karnataka joined the function and was honoured. In his inspiring and benedictory address, Sri Sri Swami ji dwelt mainly on the dynamic aspects of Swami Vivekanand's personality and called upon the youth not to remain passive in the face of unprovoked atrocities and strive for the all round welfare of the community. Smt. Sujatha Revanna Siddappa's compering was the hall mark of the function. Shri N. Shankaralinga Swami, General Secretary Prant proposed a vote of thanks.

West Bengal : Members of BVP participated in a procession to celebrate 150th birth day of Swami Vivekanand on 12th January 2013 along with Vivekananda Siksha Chakra & about 50 schools. There were over 4000 participants. Pocket calendars for 2013 with photo of Swami ji and Vande Mataram posters were distributed.

(Niti: Mar., 2013)
 

स्वारगेट, पुणे, महाराष्ट्र-II : 17 नवम्बर को Film Archive of India थियेटर में स्वामी विवेकानन्द की Documentary Film, विवेकानन्द की मूर्ति के अनावरण की cd तथा स्थापना दिवस का भव्य कार्यक्रम युवा शाखा द्वारा आयोजित किया गया। कार्यक्रम अध्यक्ष सौ॰ कोकिला बेन सेठ (घरटे अनाथाश्रम की दाता) थीं जिनका परिचय सौ॰ रत्ना चौधरी, अध्यक्षा महिला शाखा ने दिया। शिल्पकार बी॰आर॰ खेड़कर, उद्योगपति पोपटलाल सिंघवी व श्री रामदास चौड़े को मान पत्र रतन माणी अध्यक्ष मगरपट्टा शाखा ने दिया। उद्योगपति भंवर जैन ने परिषद् के सेवाकार्य को आर्थिक मदद देने का वचन दिया। कोकिलाबेन ने 25 कम्प्यूटर रतनमाष्ठी के स्कूल को दान दिये।

पंजाबी बाग, दिल्ली उत्तर : स्वामी विवेकानन्द की उत्तरशताब्दी (150वीं जयन्ती) एवं परिषद् के स्वर्ण जयन्ती के उपलक्ष्य में आयोजित एक भव्य समारोह में दिल्ली के पूर्व महापौर एवं मुख्य संरक्षक महेश चन्द्र शर्मा, प्रान्तीय अध्यक्ष राजकुमार जैन, सचिव के॰के॰ शर्मा, विकलांग पुनर्वास फाउण्डेशन के वरिष्ठ उपाध्यक्ष रविन्द्र गुप्ता एवं प्रसिद्ध उद्योगपति एवं समाजसेवी विनीत भाटिया उपस्थित रहे। मुख्य संरक्षक ने स्वामी जी के व्यक्तित्व पर विस्तृत प्रकाश डाला।

त्रिवेणी, इलाहाबाद, प्रयाग : माननीय न्यायमूर्ति सुधीर नारायण ने 150 विजेता छात्रों को पुरस्कृत किया। मुख्य वक्ता श्री रघुराज सिंह एड्वोकेट ने स्वामी जी की जीवनी, उपदेश, दर्शन पर विस्तार से प्रकाश डाला तथा युवाओं को उनके आदर्शों एवं विचारों पर चलने के लिए प्रोत्साहित किया। विवेकानन्द 150वीं जयन्तीकी राष्ट्रीय समिति के सदस्य श्री श्याम सुन्दर अग्रवल ने परिषद् के कार्यक्रमों एवं प्रकल्पों के द्वारा स्वामी जी के सिद्धान्तों को व्यावहारिक रूप देने का निश्चय किया। त्रिवेणी शाखा, तेजस्विनी एवं संस्कार शाखा द्वारा आयोजित स्वामी विवेकानन्द निबंध प्रतियोगिता में 20 विद्यालयों से 1000 छात्रों ने प्रतिभाग किया। स्वागत त्रिवेणी शाखा अध्यक्ष श्री प्रमोद कुमार बंसल ने किया तथा संचालन श्रीमती शशि जौहरी ने किया।

Satyakam Jabali, Bangalore, Karnataka South : A seminar on 'Vivekanand Vision on modern education' was organised jointly with CIMS. More than 150 teaching faculty participated from various institutions. This success could not have been possible but for the cooperation and active participation of CIMS specially Shri Chikaiah Secretary, Dr. Mahesh Kumar K.R. the Dean and the people who supported us financially viz: Shri Subbaram Setty, R.V. Trust Nagaraj Rao etc. Logistic support was from BVP members. The programme was inaugurated by Shri Suranjana IAS Chief Electoral Officer and Addl Chief Secretary Govt. of Karnataka. The programme was held in 4 sessions with the topics 'Art of teaching a new dimension' (Dr. B.D. Patel); 'Vivekananda's views on education (Prof. Dr. S.R. Leela); 'Challenges in Modern Education' (Prof. Dr. S. Nagendra Dean & Director BMS Engineering College) and 'Managing self and class' (Prof. Dr. T.V. Raju Director R.V. Institute of Management.) Valedictory function was graced by Dr. Mahadevan of IIM Bangalore.

Gujarat Central : Essay competition in Gujarati Language was held in 6 branches & 18 students participated. Thakkar Suchita Bhargavbhai of Satellite branch stood first. Essay competition in Hindi was held in 2 branches & 6 students participated. Kotadia Ekta M. of Ramkrishnanagar branch stood first. These were held on 02.12.2012 at Prant level.

A.P.East : Prant level essay writing and elocution contest was held on 24th Dec. 2012. The results are : 1 Essay writing 1st B. Pavani Krishna 2nd: K.M.C. Vaishnavi, 2 Elocution contest 1st km. A. Ramya, 2nd K.V.S. Suyateja.

Punjab East : Prant level Elocution contest and essay writing was held on 30th Aug. 2012 and 28th Sept. 2012 respectively. The results: 1 Elocution 1st Mudita 'Swami's Idea of Awakening India', 2nd Rupali (same) Essay writing : 1st Simranjit Kaur (Swamiji's Call to the youth (English) 2nd : Navkiran (My perception of Swami Vivekanand (English) 3rd Shobhit Chaudhary (आधुनिक युग में स्वामी विवेकानन्द की प्रासंगिकता-हिन्दी)

(Niti: Feb., 2013)


National Level Elocution and Essay  Writing Competition
held under Swami Vivekanand 150th Jayanti Celebrations

  

As part of Swami Vivekanand 150th Jayanti Celebrations, National level Elocution and Essay  Writing Competition was held on the 26th and 27th January, 2013 at Vivekananda Kendra, Kanya Kumari. The programme was sponsored by Andhra Pradesh West and Tamil Nadu Prant provided assistance.

Thirteen students selected at Prant level competitions participated in the National level elocution and essay  writing competition.  Prof S.P. Tiwari, National Working President and Shri S.K. Wadhwa, National Secretary General attended the programme. Shri A. Bala Krishnan, Vice President Vivekananda Kendra, was the chief guest. The function was attended by over 70 members from Andhra Pradesh West, Andhra Pradesh East, Tamil Nadu, Uttar Pradesh, Punjab North, etc.

The topic of the elocution competition was announced by Prof. S.P. Tiwari, National Working President as "India in the Vision of Swami Vivekananda". The participants had a choice of English or Hindi language.

Top five winners in elocution competition were as under:

Position

Name

       State

Language
I  Ashutosh Kulkarni   Maharashtra (Pune)  English
II  Sukruthi  Punjab  English
III  Yagya Dev Sharma  U.P. (Aligarh)  Hindi
IV  Himani  Punjab (Jalandhar)  English
V  Sujith  Gujarat (Ahmedabad)  English

The winner of the Essay Writing Competition was: Pavani Krishna.

Shri S.K. Wadhwa and Shri Aswini Subba Rao presented the mementos to the winners.

 - Report by B. Ch. (Aswini) Subba Rao (Programme Chairman) and Kasi V. Rao (Programme Convener)


जोधपुर, राजस्थान पश्चिम : शाखा की स्थापना से लेकर अब तक परिषद् के उद्देश्यों व लक्ष्यों की पूर्ति हेतु दिये गये उल्लेखनीय योगदान के लिये स्वामी विवेकानन्द उत्तर जन्मशताब्दी के अन्तर्गत प्रान्तीय महासचिव अनिल गोयल के मुख्य आतिथ्य व शाखा प्रमुख सुरेन्द्र व्यास की अध्यक्षता में आयोजित कार्यक्रम में पूर्व अध्यक्षों को स्मृति चिह्न तथा शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया गया। विकास रत्न दौलतमल भण्डारी, विकास रत्न शशिकुमार बिड़ला,  डॉ॰ पी॰पी॰ शर्मा, डॉ॰ ए॰सी॰एच॰ माथुर का परिवारजनों की उपस्थिति में सम्मान किया गया। संयोजक सीताराम राठी ने इनका जीवन परिचय व सेवाओं का संक्षिप्त विवरण प्रस्तुत किया।

Vivekanand Ludhiana, Punjab North : Organised an Inter College declamation contest on 15th September at Arya College, Ludhiana. Twenty students from ten colleges participated. Shri Ravinder Mittal, Deputy Commissioner, Income Tax, Ludhiana presided. 'Neither scriptures nor sermons can be of any help to the suffering humanity' he said. Principal Dr. R.C. Tejpal was the guest of honour. S.D. Govt. College for Boys Ludhiana won the shield. Sukriti Sharma and Sarvjit Kaur of the same college won first and second prize respectively. The branch distributed literature on Swami Vivekanand free of cost. In essay competition on Swami Vivekanand, ten essays from different schools were received. The essay of Km. Bhagisha of Bharatiya Vidya Mandir Udham Singh Nagar, Ludhiana and Km. Manisha Sablok of Saraswati Modern School were adjudged as first and second respectively.

Patna City, South Bihar : An essay competition in Hindi and English on the topics 'Swami ji as a Global Saint', 'Your perception about Swami Vivekanand' and 'Swami ji's call to the youth' was organised in various institutions of Patna city for classes 9 and 10th students. Winners : ((हिन्दी) अमन राज राजकीयकृत मारवाड़ी उ॰वि॰ पटना सिटी, (English) S. Saif Ali Jafri City Montessori School, Patna City. Er. D.N. Mathur State Incharge of Swami Vivekanand's 150th anniversary programme coordinated. The function was chaired by Shri S.R. Poddar, President. Many dignitaries of the city participated.

(Niti: Jan., 2013)


 

पिछला >>

                                                                                                                                         top         Home 

 

Copyright©  Bharat Vikas Parishad . All Rights Reserved